scorecardresearch
 
एजुकेशन न्यूज़

UP: 11 माह बाद स्‍कूलों में लौटी रौनक, टीका लगाकर फूलों से स्‍वागत, देखें Photos

School Reopen( photo: aajtak.in)
  • 1/6

कक्षा 6 से 8 के स्कूल खुलने के बाद उत्तर प्रदेश में पहली से 5वीं कक्षा की पढ़ाई सोमवार से शुरू हो गई. कोरोना महामारी के चलते बंद चल रहे इन स्कूलों को एक साल बाद खोला गया. सीएम योगी ने निर्देश दिया कि केंद्र सरकार द्वारा जारी किए गए COVID दिशानिर्देशों के अनुसार ही स्कूल खोले जाएं.

School Reopen( photo: aajtak.in)
  • 2/6

शिक्षकों द्वारा प्राथमिक छात्रों का स्वागत किया गया और छात्रों को लंबे अंतराल के बाद वापस नियमित कक्षाओं में शामिल होने के लिए उत्साहित किया गया. केंद्र सरकार ने उच्च प्राथमिक स्कूलों को खोलने के लिए दिशानिर्देश जारी करने के बाद, सीएम योगी ने पहले ही स्थितियों का आकलन करने और स्कूलों को खोलने के निर्देश दिए थे.

School Reopen( photo: aajtak.in)
  • 3/6

इसी समय, उच्च कक्षाओं के लिए अक्टूबर 2020 में स्कूलों को फिर से खोल दिया गया था. बाकी वर्गों के लिए, सरकार ने ऑनलाइन कक्षाएं आयोजित करने की सिफारिश की थी. प्राथमिक विद्यालय जियामऊ, लखनऊ को फूलों और गुब्बारों से सजाया गया था. गेट पर रंगोली और स्वागत पोस्टर लगाए गए. इसके साथ ही बच्चों को वेलकम किट और मास्क भी दिया गया. साथ ही, छात्रों को आधी क्षमता में बुलाने के लिए दिन आवंटित किया गया है, जहां सोमवार-गुरुवार, कक्षा 1 और 5, मंगलवार-शुक्रवार, कक्षा 2 और 4 को बुधवार-शनिवार को कक्षा 3 को बुलाया जाएगा. 

School Reopen( photo: aajtak.in)
  • 4/6

स्कूली बच्चों के लिए सुरक्षित पेयजल की भी व्यवस्था की जा रही है. स्कूलों को इस उद्देश्य के लिए सबमर्सिबल पंप लगाने के लिए निर्देशित किया गया है. वर्तमान में, राज्य में बेसिक शिक्षा विभाग द्वारा संचालित डेढ़ लाख स्कूलों में 1.83 करोड़ से अधिक छात्र पढ़ रहे हैं. इंडिया टुडे से बात करते हुए, सरकार के प्राथमिक विद्यालय, जियामऊ पूनम त्रिपाठी ने कहा कि शुरू में एक दिन में 50 प्रतिशत छात्रों को बुलाया जाता है.

School Reopen( photo: aajtak.in)
  • 5/6

बता दें क‍ि स्कूलों को फिर से खोलने को लेकर एसओपी जारी किए गए थे और माता-पिता को सहमति पत्र का प्रारूप दिया गया था जिसमें स्पष्ट रूप से कहा गया था कि स्कूल कोरोना महामारी को रोकने के लिए हर संभव प्रयास करेगा, लेकिन यह गारंटी नहीं देता है कि कोरोना नहीं फैलेगा. ऐसे में छात्र को स्कूल भेजना पूरी तरह से अभिभावक के विवेक पर है. यदि संक्रमण फैलता है तो स्कूल प्रशासन जिम्मेदार नहीं होगा. लखनऊ में, सीएमएस, अवध कॉलेजिएट, डीपीएस, सेंट जोसेफ, ब्राइटलैंड इंटर कॉलेज सहित कई निजी स्कूलों का दावा है कि 60% से अधिक माता-पिता अपने बच्‍चों को स्कूल भेजने के लिए सहमत हुए हैं.

 

School Reopen( photo: aajtak.in)
  • 6/6

इंडिया टुडे से बात करते हुए, 11 साल की, कक्षा 5 की छात्रा मीनाक्षी ने स्कूल वापस आने पर उत्साह व्यक्त किया. उसने कहा कि वह अभी तक ऑनलाइन पढ़ाई कर रही है लेकिन कक्षा में पढ़ने और टीचर्स के साथ बातचीत करना मिस कर रही थीं. वहीं 6 वर्षीय बच्‍चे भी पहली बार कक्षा में आने से उत्साहित दिखे और कहा कि वह रोजाना स्कूल आना चाहते हैं.