scorecardresearch
 

कांग्रेस की पहली महिला अध्यक्ष थीं सरोजिनी नायडू, किए थे ये ऐतिहासिक काम

स्वतंत्रता सेनानी और कवयित्री सरोजिनी नायडू को महात्मा गांधी ने भारत कोकिला नाम दिया था और उन्होंने कविताएं लिखने के साथ ही आजादी की जंग में भी अहम भूमिका निभाई थी.

सरोजिनी नायडू सरोजिनी नायडू

आज स्वतंत्रता सेनानी और कवयित्री सरोजिनी नायडू की जयंती है, जिन्हें 'भारत कोकिला' के नाम से भी जाना जाता था. राष्ट्रपिता महात्मा गांधी ने उन्हें भारत कोकिला नाम दिया था. देश की आजादी की जंग में अहम भूमिका निभाने वाली नायडू ने अपने कलम के सहारे भी महिला सशक्तिकरण और समान अधिकार की आवाज उठाई थी. उन्होंने अंग्रेजी साहित्‍य में शैली-कीट्स टेनिसन के बाद के समय को अपने गीतों में पिरोया है.

हैदराबाद में जन्मीं सरोजिनी नायडू हैदराबाद, किंग्स कालेज, लंदन और गिरटन कॉलेज, कैम्ब्रिज से पढ़ाई की थी. साल 1898 में उनकी शादी डॉ एमजी नायडू से हुई. नायडू भारत के महिला आंदोलन से सक्रिय रूप से जुड़ी हुई थीं. उन्होंने भारतीय विद्यार्थियों के हितों को भी आगे बढ़ाया. साल 1923-29 तक वो बॉम्बे म्यूनिसिपल कार्पोरेशन की सदस्य रहीं और वो 'भारत छोड़ो' आंदोलन के नेताओं में से एक थीं.

कांग्रेस की महिला अध्यक्ष थीं

साल 1925 में उन्हें भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस का अध्यक्ष नियुक्त किया गया और वे इस संगठन की प्रथम महिला अध्यक्ष थीं. साल 1931 में लंदन में आयोजित हुई भारतीय गोलमेज सम्मेलन की प्रतिनिधि रहीं. साल 1924 में वो दक्षिण अफ्रीका और पूर्वी अफ्रीका में बसे भारतीयों की ओर से इन देशों के राजनैतिक मिशन पर गई थीं. साल 1932 में दक्षिण अफ्रीका भेजे गए भारतीय सरकार के प्रतिनिधिमंडल में उन्हें सदस्य के रूप में शामिल किया गया.

आजाद भारत की पहली महिला राज्यपाल

साल 1947 में उन्हें उत्तर प्रदेश का राज्यपाल नियुक्त किया गया. साथ ही हैदराबाद में उनकी ओर से किए गए बाढ़-राहत कार्यों के लिए उन्हें स्वर्ण कैसर-ए-हिन्द के पदक से सम्मानित किया गया. वहीं उनके काव्य संग्रह, द गोल्डन थ्रेश होल्ड, द बर्ड ऑफ टाइम और द ब्रोकेन विंग के साथ उनकी कई कहानियां और लेख प्रकाशित हुए हैं. 2 मार्च, 1949 को उनका निधन हो गया था.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें