scorecardresearch
 

विदेश में करना चाहते हैं पढ़ाई तो पहले करें इन टेस्ट की तैयारी

अगर आप विदेश की किसी भी यूनिवर्सिटी में पढ़ाई की सोच रहे हैं तो आपको GMAT, GRE, SAT, TOEFL, TWE, TSE एग्जाम्स के बारे में जानकारी होनी चाहिए.

Symbolic Image Symbolic Image

अगर आप विदेश की किसी भी यूनिवर्सिटी में पढ़ाई की सोच रहे हैं तो आपको GMAT, GRE, SAT, TOEFL, TWE, TSE एग्जाम्स के बारे में जानकारी होनी चाहिए. अलग-अलग फील्ड और इंग्लिश की परख के लिए ये टेस्ट लिए जाते हैं. अधिकतर देशों के इंस्टीट्यूट्स और यूनिवर्सिटीज ने इन टेस्टों को अनिवार्य किया हुआ है. जानें इनके बारे में विस्तार से:

Test of English as a Foreign Language (TOEFL): अगर अमेरिका में पढ़ाई की सोच रहे हैं तो यह एग्जाम तकरीबन सभी प्रोग्राम्स के लिए जरूरी है. इससे स्टूडेंट की इंगलिश का टेस्ट लिया जाता है. यूके, कनाडा, ऑस्ट्रेलिया समेत यह दुनिया के 130 देशों में पढ़ाई के लिए जरूरी है.

International English Language Testing System (IELTS): ये टेस्ट इंगलिश लैंग्वेज प्रोफेंशिएंसी टेस्ट है. अगर आप यूके, कनाडा,ऑस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड में पढ़ाई की सोच रहे हैं तो ये टेस्ट पास करना जरूरी है. कई देशों में तो IELTS के बिना वीजा की सुविधा ही नहीं मिलती. ये टेस्ट 140 देशों में अनिवार्य है.

Test of spoken English (TSE): इस टेस्ट से उन स्टूडेंट को गुजरना पड़ता है जिन्हें आर्थिक मदद की जरूरत होती है. इसके अलावा जो लोग यूएस में टीचिंग असिस्टेंटशिप के लिए जाना चाहते हैं उन्हें ये एग्जाम देना होता है.

The Graduate Record Examination (GRE): एग्जाम आर्ट, साइंस और इंजीनियरिंग के स्टूडेंट्स रिसर्च के लिए रजिस्ट्रेशन करवाने के लिए देते हैं. इससे स्टूडेंट के मैथमैटिक्ल और एनालिटिकल स्किल्स का टेस्ट होता है.

The Graduate Management Admission Test (GMAT): एग्जाम स्टूडेंट के मैथमैटिक्ल और एनालिटिकल स्किल्स जानने के लिए लिया जाता है. दुनिया भर के करीब 900 मैनेजमेंट इंस्टीट्यूट्स इस एग्जाम में अच्छा स्कोर मांगते हैं.

Test of written English (TWE): एग्जाम में इंगलिश लिखने से संबंधित परीक्षा होती है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें