scorecardresearch
 

उत्तर प्रदेश: बद्तर हुई कानून व्यवस्था, रामपुर में पति को पेड़ से बांधकर महिला से गैंगरेप

उत्तर प्रदेश में कानून व्यवस्था दिन-ब-दिन बदतर होती जा रही है. योगी सरकार महिला सुरक्षा को लेकर कितने भी दावे कर रही हो, लेकिन हकीकत कुछ और ही है.

प्रतीकात्मक फोटो प्रतीकात्मक फोटो

उत्तर प्रदेश में कानून व्यवस्था दिन-ब-दिन बदतर होती जा रही है. योगी सरकार महिला सुरक्षा को लेकर कितने भी दावे कर रही हो, लेकिन हकीकत कुछ और ही है. ताजा मामला यूपी के रामपुर का है, जहां बाइक से जा रहे पति-पत्नी को कुछ युवकों ने रास्ते मे रोक लिया और महिला के साथ छेड़छाड़ शुरू कर दी.

इस बात का जब पति ने विरोध किया तो बदमाशों ने दोनों के साथ मारपीट की और पति के सामने ही महिला से साथ गैंगरेप किया. अपराधियों के हौसले इतने बुलंद थे कि बिना कानून के डर से उन्होंने ये काम किया. इसके बाद उन्होंने मारपीट का वीडियो बनाकर सोशल मीडिया भी वायरल कर दिया.

पीड़ित महिला और पुरुष की कहीं सुनवाई भी नहीं हुई, लेकिन मारपीट का वीडियो वायरल होने के बाद पीड़ित पति-पत्नी ने आरोपियों के खिलाफ पुलिस में फिर से तहरीर दी. जिसके बाद पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ मुक़दमा दर्ज कर लिया है.

जानकारी के मुताबिक, ये घटना यूपी के रामपुर जिले की है जहां रामपुर के थाना पटवाई क्षेत्र का रहने वाला यह दंपति बीते 11 जून को बाइक से दवा लेने जा रहे थे. तभी रास्ते में 4 युवकों ने उन्हें घेर लिया और उनकी बाइक रोक कर उनके साथ छेड़छाड़ शुरू कर दी. जब दोनों ने इसका विरोध किया तो युवकों ने उनके साथ मारपीट की और उसका वीडियो बना लिया. इतना ही आरोपियों ने पति को पेड़ से बांधकर उसके सामने ही उसकी पत्नी से गैंगरेप किया.

इस मामले मे जब मीडिया ने दखल दिया तो पुलिस की कान पर जूं रेंगी और अब उनका दावा है कि इसमें तीन आरोपियों की पहचान कर ली गई है. पुलिस ने पीड़ितों की तहरीर के आधार पर मामला दर्ज कर लिया है.

बता दें कि कुछ दिनों पहले ही यूपी के अलीगढ़ बच्ची की साथ की गई दरिंदगी की भयानक घटना सामने आई थी. टप्पल में 30 मई को एक ढाई साल की बच्ची गायब हुई थी. उसके बाद दो जून को उसका क्षत-विक्षत शव घर से 100 मीटर दूर मिला. बच्ची के पिता ने पहले ही दिन हत्या का शक मुहल्ले के जाहिद पर जताया था.

अलीगढ़ के टप्पल में मासूम बच्ची के साथ जिस हद तक दरिंदगी की गई, उसने पूरे देश को हिलाकर रख दिया. पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में हैवानियत की पूरी कहानी सामने आई है. यह बच्ची 30 मई को लापता हुई थी. अगले दिन माता-पिता ने पुलिस में शिकायत दर्ज कराई. 2 जून को घर से कुछ ही दूरी पर बच्ची कूड़े के ढेर से मिली, जिसे कुत्ते नोंच रहे थे.

इसके बाद पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में पता चला कि बच्ची की दोनों आंखें डैमेज थीं. रीढ़ की सारी हड्डियां टूटी थीं. छाती पर जख्म थे. सिर की हड्डियां टूटी हुई थीं. सीधा हाथ कटा हुआ था. उसके जिस्म पर तेजाब भी डाला गया था. शरीर पर कुत्तों के नोंचे और काटे जाने के निशान थे.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें