scorecardresearch
 

बुलंदशहर: बुलेट सवार मनचले कर रहे थे पीछा, US में पढ़ रही छात्रा की एक्सीडेंट में मौत

स्कॉलरशिप पर अमेरिका में पढ़ाई करने वाली ये छात्रा अपने चाचा के साथ मामा के घर जा रही थी, तभी उनकी बाइक बुलेट से टकरा गई और मौके पर ही छात्रा की मौत हो गई. परिवार का आरोप है कि मनचलों ने बुलेट से स्टंट किया और उन्हें गिरा दिया. छात्रा की मौके पर ही मौत हो गई.

सड़क हादसे में छात्रा की मौत सड़क हादसे में छात्रा की मौत

  • सड़क हादसे में सुदीक्षा की मौत
  • चाचा के साथ बाइक से जा रही थीं
  • बुलेट सवार युवक कर रहे थे पीछा

यूपी के बुलंदशहर में एक छात्रा की सड़क हादसे में मौत हो गई. स्कॉलरशिप पर अमेरिका में पढ़ाई करने वाली ये छात्रा सोमवार सुबह अपने चाचा के साथ जा रही थी, तभी उनकी बाइक बुलेट से टकरा गई और मौके पर ही छात्रा की मौत हो गई. चाचा का कहना कि बुलेट सवार मनचलों ने उनका पीछा किया, छींटाकशी की और एकाएक बुलेट मनचलों ने आगे लगा दी जिससे हादसा हो गया.

गौतमबुद्ध नगर के दादरी की रहने वाली सुदीक्षा भाटी एक होनहार छात्रा थीं. एचसीएल 3.80 करोड़ की स्कॉलरशिप पर वह अमेरिका के बॉब्सन में पढ़ाई कर रही थीं. हाल ही में वो छुट्टियों में घर आई हुई थीं. जब ये हादसा हुआ तब सुदीक्षा अपने भाई के साथ बाइक पर मामा के घर औरंगाबाद जा रही थीं.

सुदीक्षा भाटी के परिजनों का आरोप है कि जब बाइक से वह औरंगाबाद जा रहे थे, तब उनकी बाइक का बुलेट सवार दो युवकों ने पीछा किया. कभी युवक अपनी बुलेट को आगे निकालते तो कभी छात्रा पर कमेंट पास करते. इतना ही नहीं, ये सिरफिर चलते-चलते स्टंट भी कर रहे थे.

इसी दौरान अचानक बुलेट सवार युवकों ने अपनी बाइक का ब्रेक लगा दिया और बुलेट की टक्कर सुदीक्षा की बाइक से हो गई. बाइक गिर गई और सुदीक्षा घायल हो गईं. सुदीक्षा ने मौके पर ही दम तोड़ दिया.

sudiksha-new-750_081120090120.jpg

इस मसले पर बुलंदशहर पुलिस का कहना है कि छेड़छाड़ की कोई घटना प्रत्यदर्शी या मृतक छात्रा के साथ रहे लोगों ने तत्काल नहीं दी थी. साथ ही पुलिस का यह भी कहना है कि बाइक को मृतक छात्रा का भाई चला रहा था, उनके चाचा उस वक्त बाइक पर नहीं थे. जबकि चाचा ने कहा कि कि बाइक वह चला रहे थे. पुलिस का कहना है कि मृतक पक्ष ने कल एक तहरीर दे दी थी लेकिन उसको वापस ले लिया गया. अभी तक तहरीर नहीं दी गई है इसलिए मुकदमा दर्ज नहीं हुआ है, फिर भी पुलिस यह कह रही है कि विधिक कार्यवाही की जा रही है.

20 अगस्त को लौटना था अमेरिका

सुदीक्षा को 20 अगस्त को अमेरिका वापस जाना था. इससे पहले ही सड़क हादसे में उनकी जान चली गई. बता दें कि देश की टॉप आई टी कंपनी की तरफ से अमेरिका पढ़ने के लिए 3.80 करोड़ रुपये की स्कॉलरशिप दी गई है.

गौतमबुद्ध नगर के दादरी तहसील की रहने वाली सुदीक्षा बेहद गरीब परिवार से ताल्लुक रखती हैं. सुदीक्षा के पिता ढाबा चलाते हैं. सुदीक्षा ने बेसिक शिक्षा विभाग के परिषदीय स्कूल से कक्षा पांच तक पढ़ाई की. प्रवेश परीक्षा के जरिये सुदीक्षा का एडमिशन एचसीएल के मालिक शिव नाडर के सिकंदराबाद स्थित स्कूल में हुआ था. सुदीक्षा ने कक्षा 12 में बुलंदशहर टॉप किया और इसके बाद उच्च शिक्षा के लिए उनका चयन अमेरिका के एक कॉलेज में हुआ. पढ़ाई के लिए सुदीक्षा को एचसीएल की तरफ से 3.80 करोड़ रुपये की स्कॉलरशिप भी दी गयी थी.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें