scorecardresearch
 

उन्नाव रेप केस: CBI अफसर बन सेंगर की पत्नी से मांगे 1 करोड़, गिरफ्तार

आरोपियों ने सेंगर की पत्नी संगीता सिंह को पहले BJP नेता बनकर फोन किया. लेकिन जब बात नहीं बनी तो वे खुद को सीबीआई का अधिकारी बताने लगे.

आरोपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर (फाइल फोटो) आरोपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर (फाइल फोटो)

गैंगरेप केस में फंसे उन्नाव के MLA कुलदीप सिंह सेंगर की पत्नी से CBI अधिकारी बनकर 1 करोड़ रुपये की रिश्वत मांगने वाले दो बदमाशों को गिरफ्तार किया गया है. पुलिस ने गिरफ्तार बदमाशों की पहचान विजय रावत और आलोक द्विवेदी के तौर पर की है.

सेंगर की पत्नी ने बताया कि नकली CBI अधिकारी उनसे सेंगर के गैंगरेप केस में मदद करने और CBI से छुड़वाने का लालच दिखा रहे थे. आरोपियों ने सेंगर की पत्नी संगीता सिंह को पहले BJP नेता बनकर फोन किया. लेकिन जब बात नहीं बनी तो वे खुद को सीबीआई का अधिकारी बताने लगे.

सेंगर की पत्नी ने पुलिस को बताया कि जब आरोपी उन्हें बार-बार फोन कर रिश्वत की मांग करने लगे तो उन्हें शक हुआ. इसके बाद सेंगर की पत्नी ने लखनऊ के गाजीपुर थाने में इसकी शिकायत दर्ज कराई. शिकायत दर्ज कर पुलिस ने तहकीकात शुरू कर दी.

पुलिस ने सेंगर की पत्नी के मोबाइल पर आने वाले फोन नंम्बर को सर्विलांस पर डाला और आरोपियों को लखनऊ से ही गिरफ्तार कर लिया. पुलिस ने बताया कि आरोपियों में एक सिपाही बनना चाहता था, जबकि दूसरा एक ठेकेदार के यहां काम करने वाला कर्मचारी है.

बता दें कि एक नाबालिग लड़की से गैंगरेप के आरोप में कुलदीप सेंगर न्यायिक हिरासत में हैं. तीन दिन पहले ही सेंगर को उन्नाव जेल से सीतापुर जेल शिफ्ट किया गया है. पीड़िता ने हाईकोर्ट में अपील कर कहा था उन्नाव जेल में रहते हुए सेंगर उसके परिवार के लिए खतरा पैदा कर सकते हैं.

पीड़िता के पिता की पीट-पीटकर हत्या किए जाने के मामले में कुलदीप के भाई अतुल सिंह सेंगर सहित 5 आरोपी पहले से ही जेल में हैं.  सभी आरोपियों को उन्नाव जेल में अलग-अलग बैरक में रखा गया है. जेल प्रशासन ने इन आरोपियों की सुरक्षा के लिए अलग से इंतजाम किए हैं.

विधायक पर गैंगरेप-हत्या का आरोप

गैंगरेप पीड़िता का आरोप है कि उसके साथ 4 जून 2017 को बीजेपी विधायक कुलदीप सेंगर और उनके साथियों ने गैंगरेप था. उसने बीजेपी विधायक से रेप का विरोध किया, तो उसने परिवार वालों को मारने की धमकी दी. जब वो थाने में गई तो एफआईआर नहीं लिखी गई . इसके बाद तहरीर बदल दी गई. वह मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मिलने लखनऊ गई.

पिता को बर्बरता से पीटने का आरोप

पीड़िता ने कहा, 'मुख्यमंत्री से आरोपी विधायक की शिकायत की थी. उन्होंने इंसाफ का भरोसा दिलाया था, लेकिन एक साल हो गया. अब तक कुछ नहीं हुआ. दिल्ली से उसके पिता गांव आए, तो विधायक के लोगों ने उनको बहुत मारा. उनको घसीटकर ले गए. पीटने के बाद उन्हें अपने घर के बाहर फेंक दिया. इसके बाद उन्हें जेल में बंद कर दिया गया, जहां उनकी मौत हो गई है.'

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें