scorecardresearch
 

तरनतारन केस में खुलासा: ड्रोन से आए हथियार कश्मीर भेजने की फिराक में था आतंकी

पंजाब पुलिस की ऑपरेशन सेल, पाकिस्तान से ड्रोन द्वारा भेजे गए हथियारों और नकली करेंसी की तफ्तीश में लगातार जुटी है. इसमें कई बड़े खुलासे भी हो रहे हैं. 

खालिस्तानी जिंदाबाद फोर्स का आतंकी अर्शदीप (Photo- Aajtak) खालिस्तानी जिंदाबाद फोर्स का आतंकी अर्शदीप (Photo- Aajtak)

  • तरनतारन मामले में एक और बड़ा खुलासा
  • हथियारों को कश्मीर भेजने की थी तैयारी

पंजाब पुलिस की ऑपरेशन सेल, पाकिस्तान से ड्रोन के द्वारा भेजे गए हथियारों और नकली करेंसी की तफ्तीश में लगातार जुटी है. इसमें कई बड़े खुलासे भी हो रहे हैं. पाकिस्तान द्वारा सबसे पहले ड्रोन के माध्यम से जो हथियारों की खेप तरनतारन में भेजी गई थी, उसको खालिस्तानी फोर्स के आतंकी अर्शदीप ने हासिल किया था. उन हथियारों को वो कश्मीर भेजने की फिराक में था.

हथियारों को कश्मीर भेजने का था प्लान

हालांकि, आईएसआई ने ये भी आदेश दिए थे कि अगर हथियार कश्मीर ना पहुंचे तो इन्हें दिल्ली या पंजाब में इस्तेमाल किया जाना है. आतंकी अर्शदीप को एक खेप मिलने के बाद दोबारा ड्रोन भेजा गया था, लेकिन वजन ज्यादा होने की वजह से यह ड्रोन तरनतारन के गांव भुसे में गिर गया था.

इसके बाद अर्शदीप को आदेश मिला था कि इस ड्रोन को जला दे. फिर आतंकी अर्शदीप ने उस ड्रोन को जला भी दिया था, हालांकि इस ड्रोन की चाइनीज बैटरी और जो लोहे का सामान था उसे तरनतारन के पास नहर में फेंक दिया था. जिसे कल एनआईए और पंजाब पुलिस की टीम ने गोताखोरों की मदद से बरामद कर लिया.

आतंकी अर्शदीप ने आज फिर एक ड्रोन के अटारी सीमा से लगे गांव महाबा में होने की जानकारी दी, जिसे पंजाब पुलिस की ऑपरेशन सेल ने बरामद कर लिया. पंजाब पुलिस अर्शदीप को उस जगह पर भी लेकर गई जहां से इस ड्रोन को बरामद किया है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें