scorecardresearch
 

'कठुआ-सांबा जैसा ही था पठानकोट हमला'

एनआईए की एक टीम ने साम्बा में जम्मू-पठानकोट नेशनल हाईवे पर स्थित सेना के शिविर का दौरा किया. यहां पिछले साल 21 मार्च को दो आतंकियों ने गोलीबारी की थी. पिछले साल 20 मार्च को कठुआ में भी आतंकियों ने राजबाग पुलिस थाने पर हमला किया था.

पठानकोट हमले की जांच कर रही है एनआईए पठानकोट हमले की जांच कर रही है एनआईए

पठानकोट एयरबेस पर हुए हमले की जांच कर रही एनआईए की टीम ने मंगलवार जम्मू के कठुआ और सांबा जिलों का दौरा किया. यहां पिछले साल सेना और पुलिस के ठिकानों पर आतंकी हमले हुए थे. एनआईए को पिछले साल हुए हमलों और पठानकोट हमले में समानताएं मिली हैं.

सूत्रों के मुताबिक, जांच एजेंसी की एक टीम ने साम्बा में जम्मू-पठानकोट नेशनल हाईवे पर स्थित सेना के शिविर का दौरा किया. यहां पिछले साल 21 मार्च को दो आतंकियों ने गोलीबारी की थी. पिछले साल 20 मार्च को कठुआ में भी आतंकियों ने राजबाग पुलिस थाने पर हमला किया था.

एनआईए ने कठुआ, सांबा पर हमला करने वाले आतंकियों और पठानकोट में हमला करने वाले आतंकियों के तौर तरीकों में साफ समानताएं पाई हैं. आतंकी सुरक्षा बलों के साथ लंबे समय तक चलने वाली मुठभेड़ को ध्यान में रखते हुए अपने साथ खाने पीने का सामान लेकर आए थे.

आतंकी हमलों में ये है समानता
- सेना की वर्दी पहनकर हमला करना
- हमले से पहले किसी गाड़ी पर कब्जा करना
- गाड़ी से फायरिंग करते हुए अपने लक्ष्य तक पहुंचना
- अपने साथ खाने-पीने का सामान रखना
- सेना या पुलिस के ठिकानों का निशाना बनाना

इन बिन्दुओं पर टिकी है एनआईए जांच
- आतंकवादियों और उसके पाकिस्तानी आकाओं के बीच मोबाइल फोन पर हुई बातचीत
- आतंकवादियों के पास से बरामद जैश ए मुहम्मद का खत
- आतंकवादियों के डीएनए सैंपल
- आतंकवादियों के वॉयस रिकॉर्ड
- आतंकवादियों के हथियार
- आतंकवादियों की रणनीति
- संदिग्ध स्थानीय नागरिकों से मिली मदद
- SP सलविंदर सिंह और उनके साथियों से पूछताछ

इंटरपोल से ली जा रही है मदद
एनआईए की टीम पठानकोट में लगातार सर्च ऑपरेशन कर रही है. घटनास्थल से AK-47 की मैगजिन, एक मोबाइल फोन और दूरबीन बरामद हुआ है. हमले में मारे गए आतंकियों की पहचान के लिए इंटरपोल की मदद ली जा रही है. इसके लिए ब्लैक कॉर्नर नोटिस जारी किया है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें