scorecardresearch
 

हमले के बाद उमर खालिद ने कहा, पहले गला दबाने की कोशिश की, फिर बंदूक ताना

उमर खालिद अपने दोस्तों के साथ बैठे हुए थे, इसी दौरान उनके पास दो लोग पहुंचे. आरोप है कि इन दो लोगों में एक के पास पिस्तौल थी, लेकिन जब वहां बैठे लोगों को शक हुआ तो वे फरार हो गए.

उमर खालिद पर हमले की कोशिश उमर खालिद पर हमले की कोशिश

जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी (जेएनयू) के छात्र नेता उमर खालिद पर हमले की कोशिश की गई है. उमर खालिद पर दिल्ली के कॉन्स्टिट्यूशन क्लब के पास इस अटैक की कोशिश हुई. हालांकि, किसी प्रकार की क्षति नहीं पहुंची और वह पूरी तरह सुरक्षित हैं.

यह घटना दिल्ली के कॉन्स्टिट्यूशन क्लब इलाके की है. जानकारी के मुताबिक, उमर खालिद अपने साथियो के साथ कॉन्स्टिट्यूशन क्लब के पास बैठे हुए थे. इसी दौरान कुछ लोग वहां पहुंचे और उन्होंने उमर की तरफ आने की कोशिश की. आरोप है कि इन दो में से एक शख्स के पास पिस्तौल थी. इस दौरान वहां बैठे लोगों को जब शक हुआ तो वे रुक गए और फिर वहां से फरार हो गए.

दिल्ली पुलिस सूत्रों के मुताबिक करीब 2.30 बजे एक सीसीटीवी में एक शख्स बिट्ठल भाई पटेल मार्ग की तरफ भागता नजर आ रहा है. मौके से बरामद हुई देशी पिस्टल में करीब 6 जिंदा कारतूस मिले हैं.

फिलहाल दिल्ली पुलिस ने इस मामले में आर्म्स एक्ट और हत्या के प्रयास में केस भी दर्ज कर लिया है. पुलिस का कहना है कि जिस भी शख्स ने उमर पर हमले का प्लान बनाया उसे उसकी हर मूमेंट की जानकारी रही होगी.

'मैंने उसकी बंदूक गिराई'

घटना के बाद उमर खालिद ने कहा कि वह जब चाय पीकर लौट रहा था तो किसी ने पीछे से हमला किया. उसका गला दबाने की कोशिश की, उसे जमीन पर गिरा दिया और बंदूक निकालकर उस पर तान दिया.

उमर खालिद ने आज तक से कहा, 'मैं एक मुहिम से जुड़ा हूं जिसका नाम है यूनाइटेड अगेंस्ट हेट. आज उसका ढाई बजे कॉन्स्टिट्यूशन क्लब में प्रोग्राम था. मैं 2:10 पर ही पहुंच गया. प्रोग्राम शुरू होने में समय था तो सोचा दोस्तों के साथ चाय पी लूं, जब चाय पीकर लौट रहा था तो किसी ने पीछे से हमला किया.

उन्होंने कहा, 'मेरा गला दबोचा. मुझे जमीन पर गिरा दिया और एक बंदूक निकालकर मुझ पर तान रहा था, उस समय मैंने उसकी बंदूक को दूर किया. दोस्तों ने पुश किया तो वो भागा और भागते हुए गोली की आवाज आई. पता नहीं वो कौन थे. पुलिस जांच करे और हमलावरों को पकड़े.'

खालिद ने आगे कहा, 'मैं पहले भी निशाने पर रहा हूं. मेरी जान को खतरा है और मैंने पहले भी पुलिस से सुरक्षा मांगी थी. अमित जानी ने मारने की धमकी दी थी. डॉन रवि पुजारी ने भी धमकी दी थी. 2 बार पुलिस से सुरक्षा मांगी और अब भी सुरक्षा मांग रहा हूं.'

पुलिस को कार्यक्रम की जानकारी नहीं

उमर खालिद पर हमले के बारे में जानकारी देते हुए जॉइंट सीपी अजय चौधरी ने कहा कि उमर खालिद यहां एक कार्यक्रम में आए थे. चाय पीने के लिए जब वह बाहर निकले तभी उसी समय यह घटना घटी. पुलिस को जानकारी नहीं थी कि अंदर कोई प्रोग्राम चल रहा है. उमर का कहना है तब ही एक शख्स ने हमला किया. मौके से एक पिस्टल मिली है. फायरिंग हुई या नहीं इसकी जांच की जा रही है.

दूसरी ओर, उमर खालिद को जांच के लिए पार्लियामेंट स्ट्रीट पुलिस स्टेशन ले जाया गया है. उमर पर हमले को भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) की नेता मीनाक्षी लेखी ने महज प्रोपेगैंडा करार दिया.

छात्र नेता शेहला रशीद ने ट्वीट कर इस घटना को चौंकाने वाला और निंदनीय करार दिया. उन्होंने कहा कि दिल्ली में उमर खालिद पर किसी ने पीछे से गोली मारने की कोशिश की. वह अभी ठीक हैं, लेकिन हम उनकी सुरक्षा को लेकर बेहद चिंतित हैं.

सड़क पर मिली पिस्तौल

आरोप है कि हमला करने आए हमलावर पिस्तौल छोड़कर वहां से फरार हो गए. ये पिस्तौल सड़क पर पड़ी मिली. फिलहाल, पुलिस मौके पर पहुंच गई और मामले की तफ्तीश की जा रही है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें