scorecardresearch
 

दूसरी शादी करने के लिए पति ने करा दी पत्नी और मासूम बेटे की हत्या

शादी के बाद से ही रोहित और श्वेता के विचार नहीं मिल रहे थे और रोज किसी न किसी बात पर झगड़ा होता था. रोज की लड़ाई से परेशान होकर रोहित ने प्लान बनाया कि अपनी पास्ट हिस्ट्री को मिटाकर यानी अपनी पत्नी और बेटे को मार कर वह फिर से शादी करेगा.

गिरफ्तार आरोपी गिरफ्तार आरोपी

  • पुलिस को भटकाने के लिए किया बच्चे की फिरौती का फोन
  • आरोपी ने दूसरी शादी करने के लिए की पत्नी और बेटे की हत्या

जयपुर में हुए मां-बेटे क डबल मर्डर की मिस्ट्री सुलझ गई है. जयपुर पुलिस कमिश्नर आनंद श्रीवास्तव ने बताया कि पति रोहित तिवारी ने ही पत्नी श्वेता तिवारी और 21 महीने के बेटे की हत्या की थी ताकि फिर से शादी करके नई जिंदगी की शुरुआत कर सके. पुलिस की कड़ी पूछताछ के बाद आरोपी ने अपना गुनाह कबूल लिया.

करना चहता था दूसरी शादी

दरअसल शादी के बाद से ही रोहित और श्वेता के विचार नहीं मिल रहे थे और रोज किसी न किसी बात पर अनबन रहती थी. रोज के झगड़े से परेशान होकर रोहित ने प्लान बनाया कि अपनी पास्ट हिस्ट्री को मिटाकर यानी अपनी पत्नी और बेटे को मार कर वह फिर से शादी करेगा और अपनी नई जिंदगी की शुरुआत करेगा. बस इसीलिए उसने भाड़े के कॉन्ट्रैक्ट किलर सौरव चौधरी को बुलाकर मूसली से पत्नी और 21 महीने के बेटे श्रीयम की हत्या कर दी.

पुलिस के लिए केस खोलना आसान नहीं था. पुलिस को आरोपी रोहित पर शक तो हो जाता पर पुलिस ये भी सोच रही थी कि आखिर कोई पिता अपने 21 महीने की बेटे को कैसे मार सकता है. वहीं जब पुलिस ने सख्ती से रोहित से पूछताछ की तो गई तो उसने अपना जुर्म कबूल लिया. पुलिस को आरोपी ने बताया कि वह अपनी पत्नी के साथ बेटे को भी मार कर अपने पास हिस्ट्री को डिलीट करना चाहता था.

पुलिस को किया गुमराह

पुलिस को उसने बताया कि वह एक ट्रेडिशनल परिवार से है और ट्रेडिशनल परिवार में अगर पहले पत्नी से बेटा रहता है तो दूसरी शादी करने में अड़चन आती है. आरोपी ने बताया की पत्नी की हत्या के बाद उसने पास के एक मोबाइल की दुकान से 700 रुपये का मोबाइल खरीदा और पुलिस को भटकाने के लिए उसमें नया सिम डालकर बच्चे की फिरौती की बात करने लगा.

दरअसल आरोपी रोहित ने अपने बेटे को मार कर तोलिए में लपेटकर बाउंड्री के नीचे गिरा दिया था. उसे लगता था कि रात को अंधेरे में कहीं ले जाकर बेटे की लाश को खुर्द-बुर्द कर देगा. मगर बड़ी संख्या में पुलिस के जवानों की मौजूदगी की वजह से वह बेटे की लाश को ठिकाने नहीं लगा सका.

300 पुलिसकर्मी कर रहे थे जांच

पुलिस कमिश्नर ने बताया कि पिछले 3 दिनों से जयपुर पुलिस के सारे 300 पुलिसकर्मी इस मामले को सुलझाने में लगे हुए थे और वह अभी तक घर नहीं गए हैं. जयपुर के प्रताप नगर यूनिक टावर में हुई इस घटना ने सब को हिला कर रख दिया है. बताया जा रहा है कि आरोपी रोहित तिवारी दिल्ली का रहने वाला है. वह केमिकल इंजीनियर है और इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन में जयपुर एयरपोर्ट पर मैनेजर है.

आरोपी ने हत्या से पहले 5 जनवरी को श्वेता के ससुराल वालों को फोन करके कहा था कि इसे अपने घर ले जाओ. दरअसल शादी के बाद से ही दोनों के बीच झगड़ा चल रहा था. इस वजह से करीब डेढ़ साल तक श्वेता अपने मां-बाप के पास रही थी मगर मां बाप ने समझा-बुझाकर वापस रोहित के पास भेज दिया था.

पुलिस के अनुसार इन दोनों के बीच झगड़ा शादी के दिन से ही शुरू हो गया था. श्वेता कह रही थी कि कानपुर से शादी होगी और रोहित कह रहा था कि दिल्ली से शादी होगी. दोनों के बीच समझौता कर गाजियाबाद में शादी करनी पड़ी थी.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें