scorecardresearch
 

फंसे थे 2 करोड़ रुपये, दीवार पर सुसाइड नोट लिखकर पूरी फैमिली ने कर ली खुदकुशी

आर्थिक तंगी की वजह से पूरे परिवार ने आत्महत्या की कोशिश की, जिसमें पति-पत्नी, बेटा और बेटी की मौत हो गई है. जबकि एक महिला की हालत गंभीर है. इस मामले में पुलिस ने जांच तेज कर दी है.

आर्थिक तंगी के चलते परिवार ने उठाया कदम (फोटो: क्राइम स्पॉट, चिराग गोठी) आर्थिक तंगी के चलते परिवार ने उठाया कदम (फोटो: क्राइम स्पॉट, चिराग गोठी)

  • यूपी के गाजियाबाद में परिवार ने की आत्महत्या
  • आर्थिक तंगी के चलते उठाया ये कदम
  • रिश्तेदार को दिया गया उधार नहीं मिला वापस

दिल्ली से सटे उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद में मंगलवार सुबह दिल दहला देने वाली घटना हुई. आर्थिक तंगी की वजह से पूरे परिवार ने आत्महत्या कर ली, जिसमें पति-पत्नी, एक महिला, बेटा और बेटी की मौत हो गई है. इस मामले में पुलिस ने जांच तेज कर दी है. इसमें पति-पत्नी-महिला ने फ्लैट से कूदकर खुदकुशी की और इससे पहले दोनों बच्चों को गला घोंट कर मार दिया था.

आत्महत्या करने वाले गुलशन कुमार के घर से एक सुसाइड नोट भी मिला है, जिसपर अंतिम इच्छा जताई गई है. दीवार पर लिखा है, ‘हमारी तमन्ना है कि लाशों को एक साथ जलाएं...’

कब-क्या हुआ...?

गाजियाबाद के इंदिरापुरम में रहने वाले गुलशन कुमार ने मंगलवार तड़के बिल्डिंग के आठवें फ्लोर से छलांग लगा दी. अपने फ्लोर से गुलशन कुमार, पत्नी प्रवीण और संजना ने छलांग लगाई, इसमें पति-पत्नी की मौत हो गई जबकि दूसरी महिला की भी बाद में अस्पताल में मौत हो गई.

ये घटना मंगलवार सुबह पांच बजे की है, जब परिवार ने अपने फ्लोर से छलांग लगाई. जैसे ही बिल्डिंग के गार्ड ने ज़मीन पर लाशों को देखा तो पुलिस को बुलाया, जैसे ही पुलिस आई तो वह गुलशन के घर पर गई. जहां पर बेटा-बेटी की गला दबाकर पहले ही हत्या कर दी गई थी.

gzb_120319105423.jpgइंदिरापुरम की इसी बिल्डिंग का है मामला

उधार के चक्कर में चली गई जान!

पुलिस की ओर से कहा गया है कि गुलशन कुमार ने राकेश वर्मा को 2 करोड़ रुपये दिए थे, लेकिन उसने पैसे वापस नहीं किए थे. एक-दो बार पैसे वापस देने की कोशिश की तो राकेश वर्मा के चेक ही बाउंस हो गए. पुलिस के मुताबिक, राकेश वर्मा आत्महत्या करने वाले गुलशन कुमार के साढू हैं. घर की दीवार पर लिखे गए सुसाइड नोट में बाउंस चेक के बारे में लिखा गया है, साथ ही लिखा गया है कि ‘हमारी तमन्ना है कि लाशों को एक साथ जलाएं...’

पुलिस ने क्या दिया है बयान?

इस मामले को लेकर आजतक ने गाजियाबाद एसपी सिटी मनीष मिश्रा से बात की. मनीष मिश्रा ने बताया, ’गुलशन कुमार के परिवार ने राकेश वर्मा को अपनी मौत का जिम्मेदार बताया है, इसी के बारे में उन्होंने दीवार पर भी लिखा है. परिवार से बात करके पता लगा है कि राकेश वर्मा, उनके साढू थे लेकिन उनके बिजनेस में भी संबंध थे. आर्थिक रूप से परेशानी की वजह से परिवार ने ये कदम उठाया है.’

एसपी सिटी के मुताबिक, पहले गुलशन कुमार का परिवार दिल्ली में रहता था लेकिन बाद में यहां पर शिफ्ट हो गया. जिन दो बच्चों की लाश कमरे में मिली है, उनके गले पर भी निशान पाए गए हैं. राकेश वर्मा के जो चेक बाउंस हुए थे, उन्हें दरवाजे पर चस्पा किया गया है. पुलिस ने इस मामले में जांच के लिए तीन टीमों का गठन कर दिया है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें