scorecardresearch
 

प्रेमिका के प्यार में पागल पति ने पत्नी को लगाया HIV का इंजेक्शन

बिहार के मोतिहारी में अवैध संबंधों के बीच एक बेहद खौफनाक वारदात सामने आई है. यहां एक पति ने अपनी पत्नी के साथ ऐसी बेवफाई की, जिसकी कल्पना तक से रोंगटे खड़े हो जाएंगे. प्रेमिका के प्यार में पागल हो चुके पति ने अपनी पत्नी को रास्ते से हटाने के लिए उसे एचआईवी इंफेक्टेड इंजेक्शन दे दिया.

आरोपी संजीत जायसवाल (लाल घेरे में) और उसकी पत्नी आरोपी संजीत जायसवाल (लाल घेरे में) और उसकी पत्नी

बिहार के मोतिहारी में अवैध संबंधों के बीच एक बेहद खौफनाक वारदात सामने आई है. यहां एक पति ने अपनी पत्नी के साथ ऐसी बेवफाई की, जिसकी कल्पना तक से रोंगटे खड़े हो जाएंगे. प्रेमिका के प्यार में पागल हो चुके पति ने अपनी पत्नी को रास्ते से हटाने के लिए उसे एचआईवी इंफेक्टेड इंजेक्शन दे दिया. इसके बाद रिश्तों में धोखा खाई पत्नी जिंदगी की जंग लड़ते-लड़ते अस्पताल में मौत के नींद सो गई. पटना के पीएमसीएच में उसने गुरुवार को अंतिम सांस लिया. पुलिस मामले की जांच कर रही है.

जानकारी के मुताबिक, सीतामढ़ी की रहने वाली सुमन (काल्पनिक नाम) की शादी मोतिहारी के डुमरिया के सरोत्तर गांव में शंकर जायसवाल के बेटे संजीत जायसवाल से हुई थी. संजीत पेशे से एक व्यवसायी है. इसके सिलसिले में इसका एक शहर से दूसरे शहर में आना-जाना लगा रहता था. इसी क्रम में उसकी ढाका की रहने वाली नेहा से आंखे चार हो गईं. प्यार परवान चढ़ने लगा. शादीशुदा होने के बावजूद वह नेहा के साथ जीने-मरने की कसमें खाने लगा और अपनी पत्नी सुमन के साथ करने बेवफाई करने लगा.

पति ने दिया HIV का इंजेक्शन
अपने पति की बेरुखी से सुमन परेशान रहने लगी. धीरे-धीरे उसको पता चल गया कि उसके पति का नेहा नाम के एक लड़की से अवैध संबंध है. वह इसका विरोध करने लगी, लेकिन संजीत मानने को तैयार नहीं था. उसने अपने प्यार के बीच रोड़ा बन चुकी सुमन को रास्ते से हटाने का फैसला कर लिया. इसके लिए उसने घिनौनी साजिश रची. उसने सुमन को कमजोरी का हवाला देकर चुपके से एचआईवी का इंजेक्शन दे दिया. इसके बाद वह बीमार रहने लगी. जांच कराया तो उसके सामने सारी सच्चाई आ गई.

ऐसे टूटा सुमन के सब्र का बांध
इसी बीच संजीत ने अपनी पत्नी के एचआईवी पीड़ित होने का हवाला देकर तलाक लेने का आवेदन कर दिया. सुमन के सब्र का बांध टूट गया. उसने अपने पति के हैवानियत का जिक्र करते हुए 10 अगस्त 2015 को डुमरिया थाना में छह लोगों के खिलाफ मामला दर्ज कराया. लेकिन पुलिस ने अपने रिपोर्ट में ये लिख दिया कि इस महिला को पहले से ही एड्स है ना कि उसे एचआईवी का इंजेक्शन दिया गया है. तत्कालीन एसपी ने सुमन के आरोपों को सही पाया. सुमन न्याय के लिए आईजी तक गई.

HIV मरीज को फर्श पर लिटाया
जिंदगी और मौत से जूझ रही सुमन को कुछ दिन पहले मोतिहारी के एक निजी नर्सिंग होम में भर्ती कराया गया, लेकिन उसकी हालत को देखते हुए उसे पटना रेफर कर दिया गया. 19 जुलाई को उसे पटना के पीएमसीएच में भर्ती कराया गया, लेकिन वहा बेड न होने का हवाला देते हुए उसे इमरजेंसी वार्ड के बाहर फर्श पर लेटा दिया गया. वहीं इलाज होता रहा. इसी बीच अस्पताल की लापरवाही और अपने पति के हैवानियत की दंश झेलते हुए सुमन की मौत हो गई. परिजनों ने न्याय के लिए उसके शव के साथ आईजी ऑफिस पर प्रदर्शन किया.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें