scorecardresearch
 

गैंगरेप केस: जेल गए गायत्री प्रजापति, कहा- पीड़िता के साथ कराओ मेरा नार्को

27 फरवरी से फरार चल रहे रेप के आरोपी पूर्व मंत्री गायत्री प्रसाद प्रजापति की आखिरकार यूपी पुलिस ने लखनऊ से गिरफ्तार कर लिया. पुलिस ने उनको कोर्ट में पेश किया, जहां से प्रजापति को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया. जेल जाते वक्त प्रजापति ने आज तक से एक्सक्लूसिव बातचीत में कहा कि उनका और पीड़िता का नार्को टेस्ट कराया जाना चाहिए. उन्होंने न्याय व्यवस्था में विश्वास जताते हुए कहा कि नार्को टेस्ट के जरिए सच सामने आ जाएगा. 

X
पूर्व कैबिनेट मंत्री गायत्री प्रसाद प्रजापति
पूर्व कैबिनेट मंत्री गायत्री प्रसाद प्रजापति

27 फरवरी से फरार चल रहे रेप के आरोपी पूर्व मंत्री गायत्री प्रसाद प्रजापति को आखिरकार यूपी पुलिस ने लखनऊ से गिरफ्तार कर ही लिया. पुलिस ने प्रजापति को कोर्ट में पेश किया, जहां से उनको 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया. जेल जाते वक्त प्रजापति ने कहा कि उनका और पीड़िता का नार्को टेस्ट कराया जाना चाहिए. इससे दूध का दूध और पानी का पानी हो जाएगा. न्याय व्यवस्था में विश्वास जताते हुए कहा कि नार्को टेस्ट से सच सामने आ जाएगा.

जानकारी के मुताबिक, बुधवार की सुबह लखनऊ पुलिस और यूपी एसटीएफ की संयुक्त कार्रवाई में गायत्री को गिरफ्तार कर लिया गया. मंगलवार को प्रजापति के बेटे अनुराग और भतीजे सुरेंद्र को पुलिस द्वारा हिरासत मे लिए जाने के बाद बुधवार सुबह वह सरेंडर करने के लिए लखनऊ पहुंचे थे, लेकिन इससे पहले ही उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया. गिरफ्तारी के बाद उनको आलमबाग कोतवाली ले जाया गया, जहां पूछताछ के बाद पुलिस उन्हें मेडिकल के लिए लेकर गई.

सभी सात आरोपी हुए गिरफ्तार
यूपी के एडीजी (कानून-व्यवस्था) दलजीत चौधरी ने गायत्री प्रजापति की गिरफ्तारी की पुष्टि करते हुए बताया कि उनको खुफिया जानकारी मिलने के बाद लखनऊ से गिरफ्तार किया गया है. इससे पहले इस केस में 6 सहआरोपियों को पहले ही गिरफ्तार किया जा चुका है. इनके नाम अशोक तिवारी, पिंटू सिंह, विकास शर्मा, चंद्रपाल, रूपेश और आशीष शुक्ला है. इसके साथ ही प्रजापति के बेटे अनुराग और भतीजे सुरेंद्र को भी हिरासत में लेकर पूछताछ की है.

 ये भी पढ़ें: BPL से BMW तक...जानें, रेप आरोपी गायत्री प्रजापति की कहानी

आदित्यनाथ ने कहा होगी जांच
गायत्री प्रजापति की गिरफ्तारी पर बीजेपी सांसद महंत आदित्यनाथ ने कहा कि यूपी में बीजेपी को जो जनादेश मिला है, उसमें महिलाओं के खिलाफ किसी भी तरह का अत्याचार सहन नहीं किया जाएगा. आदित्यनाथ ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट पर आदेश पर प्रजापति को गिरफ्तार किया गया, जबकि ये सपा सरकार को करना चाहिए था. उन्होंने कहा कि इस मामले में पुलिस और प्रशासन की लापहवाही भी सामने आई है. बीजेपी सरकार में इसकी भी जांच की जाएगी.

गायत्री को हो सकती है उम्रकैद
बताते चलें कि सुप्रीम कोर्ट के सख्त आदेश के बाद यूपी पुलिस ने गायत्री और उनके सहयोगियों अशोक तिवारी, पिंटू सिंह, विकास शर्मा, चंद्रपाल, रूपेश और आशीष शुक्ला के खिलाफ आईपीसी की धारा 376, 376डी, 511, 504, 506 और पॉक्सो एक्ट के तहत केस दर्ज किया था. आईपीसी की धारा- 376 के तहत रेप का केस दर्ज होता है. इसमें आरोपी को 10 साल की कैद या उम्रकैद होती है. धारा- 376 डी के तहत गैंगरेप का केस दर्ज होता है, जिसमें उम्रकैद की सजा होती है.

 ये भी पढ़ें: गायत्री की गाथा...इस कांड ने प्रजापति को पहुंचाया सलाखों के पीछे

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें