scorecardresearch
 

ग्रेटर नोएडा: पुलिस एनकाउंटर में डॉन छोटा शकील का शूटर गिरफ्तार

बताते चलें कि गौतमबुद्ध नगर के SSP अजय पाल शर्मा लगातार क्राइम कंट्रोल करने की कोशिश में लगे हुए हैं. उनको एनकाउंटर स्पेशलिस्ट भी माना जाता है, वह जिस भी जिले में जाते हैं, वहां के अपराधियों में खौफ हो जाता है.

स्वामी चक्रपाणी को मारने के लिए ली थी सुपारी स्वामी चक्रपाणी को मारने के लिए ली थी सुपारी

दिल्ली से सटे ग्रेटर नोएडा में पुलिस और बदमाशों के बीच हुई मुठभेड़ में डॉन छोटा शकील के शूटर को गिरफ्तार कर लिया गया है. इसी बदमाश ने स्वामी चक्रपाणी को मारने के लिए 5 लाख रुपये की सुपारी ली थी. मुठभेड़ के दौरान दो बदमाशों को गोली लगी है, लेकिन एक बदमाश फरार हो गया. पुलिस उसकी तलाश में लगी हुई है.

जानकारी के मुताबिक, ग्रेटर नोएडा थाना क्षेत्र में पुलिस की टीम नियमित जांच कर रही थी. उसी वक्त बाइक सवार दो बदमाशों ने पुलिस पर फायरिंग शुरू कर दी. पुलिस ने भी बदमाशों पर जवाबी फायरिंग की, जिसमें बदमाशों का गोली लग गई. एक बदमाश वहां से फरार होने में सफल रहा, जबकि दूसरा गिरफ्तार कर लिया गया.

पुलिस के मुताबिक, पकड़े गए वांछित बदमाश का नाम मनीष है. कई मामलों में पुलिस को उसकी तलाश थी. स्वामी चक्रपाणि ने जब अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम की कार खरीदी थी, तो छोटा शकील ने उनको मारने के लिए इसी को 5 लाख रुपये की सुपारी दी थी. एसएसपी अजय पाल ने बदमाश की कुंडली खंगालने के निर्देश दिए हैं.

बताते चलें कि गौतमबुद्ध नगर के SSP अजय पाल शर्मा लगातार क्राइम कंट्रोल करने की कोशिश में लगे हुए हैं. उनको एनकाउंटर स्पेशलिस्ट भी माना जाता है, वह जिस भी जिले में जाते हैं, वहां के अपराधियों में खौफ हो जाता है. बीते दिनों एसएसपी महकमे के भ्रष्ट पुलिसकर्मियों के खिलाफ कमर कसते हुए रात में उन्होंने सादे कपड़े में औचक निरीक्षण किया.

रातभर सादे कपड़ों में SSP न सिर्फ यह देखते रहे कि कहीं कोई पुलिसकर्मी अवैध वसूली तो नहीं कर रहा, बल्कि इस दौरान उन्होंने पुलिसकर्मियों की मुस्तैदी की भी परीक्षा ली. वह कभी फॉर्च्यूनर गाड़ी में घूमते रहे तो कभी ऑटो में. इस बीच उस समय उनको अहसज स्थिति से गुजरना पड़ा, जब एक बैरिकेड पर एक कांस्टेबल ने उन पर ही AK-47 तान दी.

दरअसल एसएसपी अजयपाल शर्मा यह देखने निकले थे कि कहीं उनके महकमे के पुलिसकर्मी उगाही या अन्य अवैध वसूलियों में तो लिप्त नहीं हैं. इसके साथ ही उन्होंने पुलिसकर्मियों की मुस्तैदी की भी परीक्षा ली. इसके लिए उन्होंने वायरलेस पर एक संदिग्ध फॉर्च्यूनर गाड़ी के गुजरने की सूचना प्रसारित करवाई, जबकि वह खुद उसी फॉर्च्यूनर में सवार थे.

इसी दौरान एक बैरिकेड से गुजरने के दौरान पुलिसकर्मियों ने गाड़ी रोकने की इशारा किया, लेकिन जब उनकी गाड़ी नहीं रुकी तो एक कांस्टेबल दौड़कर आया और एसएसपी अजयपाल शर्मा पर ही अपनी एके-47 तान दी और गाड़ी से उतरने को कहा. इसके बाद एसएसपी अजय पाल शर्मा फॉर्च्यूनर कार से नीचे उतरे और अपने जवान की मुस्तैदी के लिए प्रशंसा की.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें