scorecardresearch
 

‘लाइन पर आई दिल्ली’: सड़कों पर दिखा चालान का डर, नियमों का पालन कर रहे लोग

पिछले 10 दिनों में लगातार दिल्ली से आई हजारों रुपये के चालान कटने की खबर से लोग अब नियमों का पालन करते हुए दिख रहे हैं. चालान कटने की खबर से लोग अब नियमों का पालन करते हुए दिख रहे हैं.

नई दिल्ली के एक चौराहे की तस्वीर (फोटो क्रेडिट: आशुतोष मिश्रा) नई दिल्ली के एक चौराहे की तस्वीर (फोटो क्रेडिट: आशुतोष मिश्रा)

  • दिल्ली में दिखने लगा मोटर व्हीकल एक्ट का असर
  • अधिकतर चौराहों पर नियमों का पालन कर रहे लोग
  • लगातार कट रहे हैं हजारों रुपये के चालान

देश में 1 सितंबर से नया मोटर व्हीकल एक्ट लागू हुआ है. लाल बत्ती क्रॉस करने वालों का अब तगड़ा चालान कट रहा है, नए नियमों को लागू हुए दस दिन हो गए हैं. और दिल्ली पर नए कानून का असर दिखने लगा है क्योंकि अधिकतर जगह अब लोगों के वाहनों के ब्रेक लाल बत्ती देखते ही लगने लगे हैं. पिछले 10 दिनों में लगातार दिल्ली से आई हजारों रुपये के चालान कटने की खबर से लोग अब नियमों का पालन करते हुए दिख रहे हैं. चालान कटने की खबर से लोग अब नियमों का पालन करते हुए दिख रहे हैं.

राजधानी दिल्ली के कई चौराहे ऐसे थे, जहां लोग ट्रैफिक नियमों की खुलेआम धज्जियां उड़ाते थे जिसके चलते या तो हादसे होते थे या फिर ट्रैफिक जाम की समस्या खड़ी होती थी.

मसलन नई दिल्ली के रामकृष्ण आश्रम मेट्रो मार्ग के चौराहे पर जहां अक्सर लोग दिनदहाड़े लालबत्ती का उल्लंघन करते थे या बिना सिग्नल के बावजूद गाड़ियां सरपट दौड़ा जाते थे, वहां अब चालान के डर से लाल बत्ती पर गाड़ियां न सिर्फ रुकने लगी हैं बल्कि जेब्रा लाइन क्रॉस करने की भी हिम्मत नहीं दिखा पा रही हैं.

दिल्ली के रामकृष्ण आश्रम की इसी लालबत्ती पर करोल बाग से आ रहे राजीव कुमार से जब आजतक ने बात की तो उन्होंने कहा कि पहले की बात और थी, अब इतना मोटा चालान है कि डर के मारे आगे जाने की हिम्मत नहीं होती है. सब लोग अब लाल बत्ती पर रुकने लगे हैं.

‘ऑटोवाले भी लाइन पर आए’

थोड़ा आगे बढ़ें तो गोल डाकखाने के पास भाई वीर सिंह मार्ग तिराहे पर भी हालात किसी जमाने में अलग थे. बहुत कम लोग होते थे जिन्हें लाल बत्ती की परवाह थी, वरना तो बेधड़क गाड़ियां दौड़ जाती थीं. अब यहां चालान का डर ऐसा है कि ऑटो से लेकर मोटरसाइकिल हर कोई नियमों का पालन कर रहा है.

ऑटो चलाने वाले दिनेश कुमार का कहना है कि जिसकी गाड़ी का इंजन ज्यादा तेज था वह आगे से ओवरटेक कर जाता था बत्ती की तो परवाह ही नहीं थी. अब सब डरे हुए हैं और कायदे से गाड़ी चलाते हैं, हम सब लोग रेड लाइट नहीं तोड़ते हैं.

गौरतलब है कि नए नियम लागू होने के बाद चालान की राशि काफी ज्यादा हो गई है. पिछले कुछ दिनों में देश से ऐसे कई मामले सामने आए हैं, जो हैरान करने वाले हैं. कहीं किसी बाइक वाले का 23 हजार का चालान कटा है तो किसी ऑटो वाले को 59 हजार रुपये भरने पड़े हैं. दिल्ली, गुरुग्राम, बेंगलुरु जैसे बड़े शहरों में ट्रैफिक पुलिस ने अभी तक चालान काटकर लाखों रुपये वसूल कर लिए हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें