scorecardresearch
 

दिल्ली पुलिस का सिरदर्द बने खूंखार शराब माफिया गिरफ्तार

दिल्ली एक्साइज की टीम ने मंगोलपुरी इलाके में सूचना के आधार पर जब अवैध शराब से भरी गाड़ी पकड़ने की कोशिश की तो शराब माफियों ने एक्साइज टीम पर ही हमला कर दिया, जिसमें एक्साइज के दो अधिकारी घायल हुए.

पुलिस की गिरफ्त में शराब माफिया (फोटो-aajtak.in) पुलिस की गिरफ्त में शराब माफिया (फोटो-aajtak.in)

दिल्ली पुलिस ने राजधानी से अवैध शराब कारोबारी के डॉन को गिरफ्तार किया है. गिरफ्त में आए माफिया कुलदीप और मन्नू दिल्ली में काफी समय से अवैध शराब का कारोबार कर रहे हैं, और अगर इनके अवैध कारोबार के बीच में कोई आए तो उस पर भी हमला करने से बाज नहीं आते.

दिल्ली एक्साइज की टीम ने मंगोलपुरी इलाके में सूचना के आधार पर जब इनकी अवैध शराब से भरी गाड़ी पकड़ने की कोशिश की तो इन्होंने एक्साइज टीम पर ही हमला कर दिया, जिसमें दो एक्साइज के अधिकारी घायल हो गए. एक्साइज विभाग के मुताबिक ये लोग रोजाना सिर्फ आउटर दिल्ली में 3 हजार से ज्यादा अवैध शराब की पेटियों को सप्लाई करते हैं. वहीं दिल्ली के अलग इलाकों में इनका ये कारोबार काफी तेजी से फल फूल रहा है.

सूत्रों के मुताबिक एक्साइज टीम पर जब हमला किया गया तो पुलिस ने इन्हें पकड़ने की कवायद शुरू की. दबाव बढ़ा तो इन दोनों शराब माफियों ने गुरुवार को नॉर्थ-वेस्ट स्पेशल स्टाफ में सरेंडर कर दिया. दोनों शराब माफियों पर शराब तस्करी के दर्जनों मुकदमे दर्ज हैं. साथ ही एक्साइज स्टाफ की हत्या की कोशिश के आरोप में मुकदमा भी दर्ज है.

एक्साइज विभाग के मुताबिक अवैध शराब की कमाई होने के साथ महंगी कोठी में रहते हैं और लग्जरी गाड़ियों में घूमते हैं. एक्साइज सूत्रों की मानें तो ऑर्गनाइज क्राइम में इनकी इस तरह सांठ-गांठ ऐसी है कि ये अपनी मर्जी से अपने केस को सुविधानुसार ट्रांसफर तक करवा देते हैं.

एक्साइज विभाग के अधिकरियों के मुताबिक एक जुलाई को अवैध शराब की खबर मिली. जिसके बाद मंगोलपुरी इलाके में उन्होंने जाल बिछाया लेकिन कुलदीप और मन्नू ने अपने साथियों के साथ मिलकर डंडों और बीयर की बोतलों से अधिकारियों पर हमला कर दिया. जिसमें एक्साइज विभाग के सिपाही और हवलदार बुरी तरह घायल हुए.

पीड़ित के मुताबिक ये शराब माफिया उनकी हत्या करना चाहते थे लेकिन किसी तरह से वो बच गए. फिलहाल 2 शराब माफिया पुलिस की गिरफ्त में हैं जबकि इनके बाकी साथियों की तलाश जारी है. सवाल ये उठता है कि आखिर ये शराब माफिया बिन किसी शय के कैसे अपने अवैध शराब के धंधे को इतनी आसानी से चला रहे थे. ऐसे में पुलिस की कार्यशैली पर भी सवाल उठना लाज़मी है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें