scorecardresearch
 

दिल्लीः हनीट्रैप गैंग का पर्दाफाश, 2 महिला समेत 3 गिरफ्तार

जांच के दौरान पीड़ित लड़की की ओर से बार-बार बयान बदला गया. बाद में, जांच में पता चला कि पीड़ित लड़की कथित तौर पर आरोपी शख्स के बेटे से पैसे की मांग कर रही थी. इस पर टीम ने हनीट्रैप के एंगल से जांच शुरू की. और फिर कहानी बदल गई.

सांकेतिक तस्वीर (पीटीआई) सांकेतिक तस्वीर (पीटीआई)

  • पीड़िता ने पिछले महीने यौन शोषण का केस दर्ज कराया
  • पीड़िता के बार-बार बयान बदलने से पुलिस को हुआ शक

दिल्ली पुलिस ने 2 महिला समेत 3 आरोपियों की गिरफ्तारी के साथ ही शाहदरा जिले में चल रहे हनीट्रैप के एक गैंग का भंडाफोड़ किया है जिसने राजधानी के कई लोगों से जबरन वसूली की. इस गैंग के पास से एक लाख रुपये भी बरामद किया गया है. फिलहाल पुलिस की जांच जारी है.

पुलिस थाना कृष्णा नगर में 3 जून 2020 को 19 साल की उम्र की पीड़ित लड़की की शिकायत पर मामला दर्ज किया गया था. उसके बयान के अनुसार, दिल्ली के शांति मोहल्ला निवासी 52 साल के रमेश (बदला हुआ नाम) नामक शख्स ने नौकरी का झांसा देकर यौन शोषण किया.

शिकायत मिलने के बाद मामले की जांच शुरू की गई और फिर आरोपी को पकड़ लिया गया. इस केस के बारे में और जानकारी हासिल करने के लिए एक टीम गठित की गई.

अपने ही बयान से फंसी पीड़िता

जांच के दौरान पीड़ित लड़की की ओर से बार-बार बयान बदला गया. बाद में, जांच में पता चला कि पीड़ित लड़की कथित तौर पर आरोपी शख्स के बेटे से पैसे की मांग कर रही थी. इस पर टीम ने हनीट्रैप के एंगल से जांच शुरू की.

इसे भी पढ़ें --- कानपुर में बदमाश को पकड़ने गई पुलिस टीम पर फायरिंग, DSP समेत 8 शहीद

जांच के दौरान, पीड़ित लड़की से उसके परिवार और निवास के बारे में पूछताछ की गई. पी़ड़ित लड़की ने एक लड़की को अपनी बड़ी बहन के रूप में पेश किया और पता भी बताया.

पूछताछ के दौरान पता चला कि पीड़िता की कोई भाई-बहन ही नहीं है. टीम को शक हुआ और तथाकथित बहन से गहन पूछताछ की गई. लगातार पूछताछ के दौरान, उसने स्वीकार कर लिया कि पीड़ित लड़की उसकी बहन नहीं है.

इसे भी पढ़ें --- कुख्यात विकास दुबे पर था दर्जा प्राप्त मंत्री के मर्डर का आरोप, कोर्ट ने किया था बरी

उसने यह भी कबूल किया कि उसने 2 अन्य लोगों के साथ मिलकर गांधी नगर के शांति नगर में तथाकथित व्यापारी बनकर यौन उत्पीड़न के नाम पर फंसाकर धन उगाही के लिए आपराधिक साजिश भी रची थी.

फर्जी बिजनेसवूमेन बनकर ठगने की कोशिश

योजना के अनुसार उसने खुद को बतौर व्यवसायी प्रिया के रूप में पेश किया और अन्य लड़की ने खुद को प्रिया की बहन के रूप में पेश किया. दोनों ने उक्त व्यवसायी को फंसा लिया. उन्होंने मामला निपटाने के नाम पर 20 लाख रुपये की मांग की और 5 लाख एडवांस के रूप में लिए.

मामले में 2 अन्य सहयोगियों को भी गिरफ्तार किया गया और दोनों ने ही अपराध कबूल कर लिया कि उन्होंने पहले भी दिल्ली के कई पुलिस स्टेशनों में एक ही तरह के कई केस दर्ज करा रखे हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें