scorecardresearch
 

कोरोना मरीजों को देखने गई डॉक्टरों की टीम पर हमला, 4 गिरफ्तार

इंदौर के छतरीपुरा थाना क्षेत्र में जब 2 डॉक्टर, आशा कार्यकर्ता, तहसीलदार के साथ पुलिसकर्मियों की टीम कोरोना वायरस के मरीजों की जांच के लिए पहुंची, उसी समय वहां के लोगों ने डॉक्टरों की टीम पर हमला कर दिया और पथराव किया.

मध्य प्रदेश में लगातार बढ़ रहे कोरोना के मामले (फाइल फोटो-PTI) मध्य प्रदेश में लगातार बढ़ रहे कोरोना के मामले (फाइल फोटो-PTI)

  • पथराव की घटना का वीडियो आया सामने
  • वीडियो के आधार पर कार्रवाई, 4 गिरफ्तार

इंदौर में गुरुवार को डॉक्टरों की टीम पर पथराव की घटना सामने आई. पुलिस ने त्वरित कार्रवाई करते हुए 4 लोगों को गिरफ्तार किया है. घटना का एक वीडियो भी सामने आया है, जिसके आधार पर पुलिस आरोपियों की धरपकड़ में जुटी है. बता दें, घटना इंदौर के टाटपट्टी बाखल इलाके की है. यहां स्वास्थ्यकर्मियों पर पथराव किया गया. दरअसल, इंदौर के छतरीपुरा थाना क्षेत्र में जब 2 डॉक्टर, आशा कार्यकर्ता, तहसीलदार के साथ पुलिसकर्मियों की टीम कोरोना वायरस के मरीजों की जांच के लिए पहुंची तो उसी समय वहां के लोगों ने डॉक्टरों की टीम पर हमला कर दिया और पथराव किया.

कोरोना पर फुल कवरेज के लि‍ए यहां क्ल‍िक करें

कोरोना कमांडोज़ का हौसला बढ़ाएं और उन्हें शुक्रिया कहें...

इंदौर में बुधवार को कोरोना वायरस के 13 नए पॉजिटिव केस सामने आए हैं. इससे शहर में कुल पॉजिटिव केस की संख्या 76 हो गई है. नए मामलों में इंदौर के एमवाई अस्पताल में कार्यरत महिला डॉक्टर भी है. इस महिला डॉक्टर को अरबिंदो अस्पताल में भर्ती कराया गया है. जिला प्रशासन ने दावा किया कि वो पूरी तरह से लॉकडाउन पर अमल कराने की कोशिश कर रहा है जिससे कि संक्रमण रोका जा सके. इस बीच सिलवटपुरा क्षेत्र के टाटपट्टी बाखल में उग्र भीड़ ने डॉक्टरों और प्रशासनिक अधिकारियों की टीम हमला कर दिया. हालांकि पुलिस ने तुरंत हालात संभाला जिससे किसी सदस्य को चोट नहीं आई.

क्या कहा कमलनाथ ने

पथराव की घटना पर पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा, प्रदेश के इंदौर के रानीपुरा में पूर्व में व कल टाटपट्टी बाखल में स्वास्थ्यकर्मियों के साथ हुए दुर्व्यवहार और पथराव की घटना बेहद दुःखद और निंदनीय है. ऐसा काम करने वाले समाज, इंसानियत और मानवता के दुश्मन हैं. संकट की इस घड़ी में अपनी जान जोखिम में डालकर जनता की सुरक्षा कर रहे और अपने कर्तव्यों का पालन कर रहे डॉक्टर्स, स्वास्थ्यकर्मियों और प्रशासन के अधिकारियों का सभी को आगे आकर सहयोग करना चाहिए. उनके सेवा के जज़्बे को सलाम करना चाहिए. ऐसी घटनाओं से प्रदेश और शहर, देश शर्मसार होता है. प्रशासन, डॉक्टर्स और स्वास्थ्यकर्मियों की सुरक्षा के पर्याप्त इंतज़ाम करे और ऐसी घटनाओं को रोकने के पुख़्ता इंतज़ाम करे.

मध्य प्रदेश के इंदौर की तरह हैदराबाद में भी एक घटना सामने आई है. यहां गांधी अस्पताल में कोविड-19 से पीड़ित एक व्यक्ति की मौत के बाद उसके घर वालों ने डॉक्टर व अस्पताल के स्टाफ पर हमला बोल दिया. जिस व्यक्ति की मौत हुई है, उसका भाई भी उसी अस्पताल में भर्ती है. भाई की मौत पर उस शख्स ने रेजिडेंट डॉक्टर पर हमला बोल दिया जो उसके इलाज में जुटा था. घटना के तुरंत बाद पुलिस अस्पताल पहुंची और मामला दर्ज किया गया. हैदराबाद के पुलिस कमिश्नर ने अस्पताल में एक डीसीपी की तैनाती की है. प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री ई. राजेंदर ने कहा कि ऐसी घटनाओं को इजाजत नहीं दी जा सकती क्योंकि अपनी जान की बाजी लगाकर डॉक्टर कोरोना पीड़ितों की सेवा में लगे हैं. अगर उन पर हमला होता है, तो दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें