scorecardresearch
 

छत्तीसगढ़: एयरहोस्टेस की नौकरी दिलाने के नाम पर ठगी, बड़े गिरोह का पर्दाफाश

ठगे गए लोगों में सर्वाधिक संख्या उन लड़कियों की है जिन्होंने नागपुर और मुंबई में एयरहोस्टेस की ट्रेनिंग ली हुई है. उन्हें उम्मीद थी कि पिछले दरवाजे से उन्हें जेट एयरवेज में नौकरी मिल जाएगी. साल भर बाद भी जब इंटरव्यू के लिए कॉल नहीं आया तब उन्हें ठगे जाने का अहसास हुआ.

छत्तीसगढ़ के विभिन्न हिस्सों से हजार से अधिक युवाओं को ठगा छत्तीसगढ़ के विभिन्न हिस्सों से हजार से अधिक युवाओं को ठगा

छत्तीसगढ़ में पुलिस को ठगी करने वाले एक बड़े गिरोह का पर्दाफाश करने में कामयाबी मिली है. पुलिस के मुताबिक, यह गिरोह जेट एयरवेज में एयरहोस्टेस से लेकर ग्राउंट स्टाफ तक की नौकरी दिलाने के नाम पर हजार से ऊपर युवक युवतियों को ठग चुका है. पुलिस ने गिरोह के तीन सदस्यों को गिरफ्तार कर लिया है. उनके पास से करीब 20 लाख रुपये बरामद हुए हैं.

हालांकि गिरोह का मास्टरमाइंड अब तक पुलिस की गिरफ्त से बाहर है. पुलिस को अंदेशा है कि इस गिरोह ने देश के कई राज्यों में ठगी की वारदातों को अंजाम दिया है. पुलिस ने यह भी आशंका जताई कि गिरोह के तीन सदस्यों की गिरफ्तारी की सूचना लगने के बाद गिरोह के अन्य सदस्य और मास्टरमाइंड सतर्क होकर अंडरग्राउंड हो गए.

पुलिस ने गिरफ्तार ठगों के पास से जेट एयरवेज के कई फर्जी दस्तावेज और मुहर भी बरामद किए हैं. पुलिस को इनके पास से जो दस्तावेज मिले हैं, उसमें लगभग 1150 आवेदकों का ब्यौरा है.

पुलिस ने बताया कि यह गिरोह दरअसल दिल्ली से ऑपरेट हो रहा था. जेट एयरवेज में नौकरी पाने के नाम पर ठगी का शिकार हुए ज्यादातर आवेदक छत्तीसगढ़ में राजनांदगांव के हैं. राजनांदगांव के अलावा दुर्ग, कवर्धा, धमतरी, महासमंद, बिलासपुर, रायगढ़ और अंबिकापुर के भी कई युवक-युवतियों को इस गिरोह ने अपना शिकार बनाया है.

पुलिस ने बताया कि जेय एयरवेज के नाम पर आवेदकों से मोटी रकम जमा करवा ली जाती, लेकिन किसी भी आवेदक को ठगों ने नौकरी देने के लिए नहीं बुलाया. गिरोह का पर्दाफाश होने के बाद बाद ठगे गए आवेदक पुलिस से शिकायत करने के लिए आगे आ रहे हैं.

पुलिस ने बताया कि दिल्ली से ऑपरेट यह गिरोह हर आवेदक से 1.5-2 लाख रुपये तक वसूलता था, लेकिन नौकरी किसी को नहीं मिली. इस गिरोह ने किसी को एयरहोस्टेस बनाने का झांसा दिया, तो किसी को ग्राउंड ड्यूटी स्टाफ में शामिल कराने का ऑफर.

पुलिस ने बताया कि ठगे गए लोगों में सर्वाधिक संख्या उन लड़कियों की है जिन्होंने नागपुर और मुंबई में एयरहोस्टेस की ट्रेनिंग ली हुई है. उन्हें उम्मीद थी कि पिछले दरवाजे से उन्हें जेट एयरवेज में नौकरी मिल जाएगी. साल भर बाद भी जब इंटरव्यू के लिए कॉल नहीं आया तब उन्हें ठगे जाने का अहसास हुआ.

ठगे गए आवेदकों की शिकायत पर कार्रवाई करते हुए छत्तीसगढ़ पुलिस ने दिल्ली के आस-पास के इलाकों से गिरोह के तीन सदस्यों को गिरफ्तार कर लिया है. राजनांदगांव के SP प्रशांत अग्रवाल के मुताबिक तीन आरोपियों को दिल्ली, नोएडा व फरीदाबाद से गिरफ्तार किया गया है.

उन्होंने बताया कि फरीदाबाद के गाजीपुर रोड इलाके से राहुल सिंह को, फरीदाबाद के सुलतानपुर हाल इलाके से शाहबाज मोहम्मद को और फरीदाबाद से ही गौरव चौहान को गिरफ्तार किया गया. तीनों को गिरफ्तार कर राजनांदगांव लाया गया है.

पीड़ित लड़कियों के मुताबिक उन्होंने इंटरनेट पर मौजूद एक साइट को देखकर ऑनलाइन आवेदन भरा था. इसके बाद दिल्ली से उन्हें कुछ लोगों ने संपर्क किया. उन्होंने बताया कि वे जेट एयरवेज के लिए बतौर एम्प्लॉयमेंट एजेंसी का काम करते हैं. उन्होंने जेट एयरवेज से जुड़े होने के कई पत्र भी उन्हें दिखाए.

आवेदकों ने इसलिए उन पर भरोसा कर लिया. ठगों ने ज्यादातर आवेदकों से प्रोसेसिंग फीस, इंटरव्यू और ट्रेनिंग फीस के नाम पार 1.40 लाख रुपये अलग-अलग बैंक खातों में डलवा लिए. इसके अलावा हर आवेदक से 60 हजार रुपये की रकम सर्विस चार्ज के रूप में अलग से वसूला गया.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें