scorecardresearch
 

पूरे परिवार की हत्या कर खुदकुशी की कोशिश, नोटबंदी को बताया जिम्मेदार

दामादोरन ने घर में काम आने वाले चाकू से अपनी मां, पत्नी, 7 साल के बेटे और 5 साल की बेटी की गला रेतकर हत्या कर दी. उसके बाद उसने उसी चाकू से अपना भी गला काट लिया. पुलिस को दामोदरन द्वारा लिखा सुसाइड नोट मिल गया है.

पति पर हत्या का केस दर्ज पति पर हत्या का केस दर्ज

चेन्नई में एक परिवार के सभी सदस्यों की मौत की बेहद दर्दनाक खबर आई है. परिवार के मुखिया ने परिवार के सभी सदस्यों की हत्या कर खुद भी आत्महत्या करने की कोशिश की. सबसे चौंकाने वाली बात तो यह है कि व्यक्ति ने सुसाइड नोट में अपने इस कदम का जिम्मेदार नोटबंदी को ठहराया है.

वारदात चेन्नई के शंकर नगर इलाके की है. सूचना पाकर मौके पर पहुंची पुलिस ने व्यक्ति को घायल हालत में अस्पताल पहुंचाया, जहां उसका इलाज चल रहा है. पुलिस ने उसके खिलाफ हत्या का केस दर्ज कर लिया है.

व्यक्ति का नाम दामोदरन है. उसने अपना गला काट लिया था. पुलिस के मुताबिक, मंगलवार को दामादोरन ने घर में काम आने वाले चाकू से अपनी मां, पत्नी, 7 साल के बेटे और 5 साल की बेटी की गला रेतकर हत्या कर दी. उसके बाद उसने उसी चाकू से अपना भी गला काट लिया. पुलिस को दामोदरन द्वारा लिखा सुसाइड नोट मिल गया है. सुसाइड नोट पर भी खून के धब्बे हैं.

प्रारंभिक जांच के मुताबिक, दामोदरन ने यह सुसाइड नोट अपने एक रिश्तेदार को लिखा था, जिसमें उसने कहा है कि उसे कारोबार में भारी नुकसान उठाना पड़ा है और इसी के चलते वह यह खतरनाक कदम उठा रहा है. दामादोरन ने चिट्ठी में अपने बिजनेस और लेनदेन के बारे में विस्तार से लिखा है.

सुसाइड नोट में लिखा है, "मेरे पूरे परिवार को मेरे साथ बेहद परेशानी से गुजरना पड़ रहा है. मैं सिर्फ अपनी जान लेना चाहता था, लेकिन मेरे परिवार वाले पहले ही मेरे साथ घोर मुसीबतें झेल चुके हैं. मैं उन्हें अकेला छोड़कर और मुसीबत में नहीं धकेलना चाहता था. इसी के चलते मैं यह कदम उठा रहा हूं."

इसके बाद दामोदरन ने अपने बिजनेस से जुड़े एक-एक लेनदेन का वर्णन किया है और सारे दस्तावेजों का जिक्र किया है. दामोदरन ने अपने सुसाइड नोट के आखिरी पेज में कारोबार में हुए घाटे की वजह भी लिखी है. सुसाइड नोट के आखिरी पेज में लिखा हुआ है, "केंद्र सरकार द्वारा नोटबंदी की घोषणा किए जाने के बाद मेरा कारोबार गिरता ही चला गया और फिर कभी इससे उबर नहीं सका. मुझे बार-बार कर्ज लेना पड़ा, लेकिन जिनसे मदद की उम्मीद थी वे बार-बार मेरी मदद नहीं कर सके. अगर यही स्थिति बनी रही तो और भी कई परिवारों का यही हाल होगा. सबसे बुरा तो यह है कि राज्य सरकार को भी कोई फर्क नहीं पड़ता."

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें