scorecardresearch
 

इस स्टिंग से पहली बार बेनकाब हुआ था आसाराम, मिनटों में खुली थी अय्याशी की पोल

आसाराम अब बलात्कारी साबित हो चुका है. शाहजहांपुर के परिवार का संघर्ष अंजाम तक पहुंच चुका है. लेकिन इस लड़ाई से पहले बरसों पहले से आसाराम के कलंक के चेहरे सामने आने लगे थे.

आसाराम की काली करतूत कैमरे में कैद (फाइल) आसाराम की काली करतूत कैमरे में कैद (फाइल)

आसाराम अब बलात्कारी साबित हो चुका है. शाहजहांपुर के परिवार का संघर्ष अंजाम तक पहुंच चुका है. लेकिन इस लड़ाई से बरसों पहले आसाराम के कलंक का चेहरा सामने आने लगा था. उसकी अय्याशी के तमाम किस्से आश्रम से बाहर निकलने लगे थे. इसे समझने के लिए आज से आठ साल पहले आसाराम ने खुफिया कैमरे पर अपना सच उगला था.

आसाराम को उसके कुकर्मों की सजा तक पहुंचाने में जोधपुर की अदालत ने जिन तथ्यों को सबूत के तौर पर स्वीकार किया उसमें 'आजतक' का ये स्टिंग ऑपरेशन भी था. इस स्टिंग में आसाराम खुद अपने पापों की दुनिया की कलई खोल रहा है, वो खुलेआम अपने रसूख और अपनी ताकत की नुमाइश कर रहा है और खुफिया कैमरे पर बता रहा है कि वो क्या कर सकता है.  

'आजतक' कानून के मददगार के इस ऐतिहासिक इस स्टिंग ऑपरेशन को दोबारा इसलिए लेकर आया है कि आप आसाराम के कलंक की काली छायाओं से खुद रूबरू हो सकें, और अब यह सब बोलने के लिए आसाराम अब कभी सामने नहीं आएगा.

सितंबर 2010 में आसाराम की अय्याशियों को समझने के लिए एक अंडरकवर महिला रिपोर्टर ने आसाराम से अपनी शरण में लेने की अपील की थी. इस प्रस्ताव पर आसाराम की आंखों में लाल डोरे तैरने लगे थे, वो तुरंत महिला के साथ गोपनीय योजना बनाने लगता है. हम ये जानकर हैरान थे कि रामभक्ति में नाचने वाला इतना बड़ा बाबा आसाराम असल में एक दिलफेंक किस्म का अय्याश है.

भक्तों के सामने नाचने वाले आसाराम ने अंडरकवर रिपोर्टर के सामने शालीनता के सारे कपड़े उतारता जा रहा था. जैसे-जैसे अंडरकवर रिपोर्टर पर आसाराम का विश्वास जमता गया उतना ही वो निर्लज्ज और उद्दंड होता गया. 'आजतक' के खुफिया कैमरे पर दर्ज हो रहा आसाराम दरअसल एक ऐसा कामभक्त आसाराम था जिसके लिए रामभक्त होना उसके पाप का पर्दा था.

आसाराम की अय्याशियों के किस्से केवल इतने नहीं हैं. आरोप है कि औरतें उसकी कमजोरी हैं. लेकिन जो उसने आजतक के कैमरे पर खुद कहा था वो हैरान कर देने वाला था. अब आसाराम को उसके किए की सजा मिल चुकी है, आसाराम के कुकर्मों की पोल खोलने में 'आजतक' की भूमिका को अदालत ने भी तवज्जो दी है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें