scorecardresearch
 

6 महीने से पीछे थी टीम-कश्मीर को मिलेगी राहत, IG ने सुनाई रियाज नायकू के एनकाउंटर की कहानी

जम्मू-कश्मीर में आतंकी एजेंडे को चलाने वाले हिज्बुल के कमांडर रियाज नायकू को ढेर कर दिया गया है. गुरुवार को आईजी विजय कुमार ने इस एनकाउंटर की पूरी कहानी बताई.

एनकाउंटर में मारा गया रियाज नायकू (फाइल) एनकाउंटर में मारा गया रियाज नायकू (फाइल)

  • रियाज नायकू के एनकाउंटर पर सुरक्षाबलों की प्रेस कॉन्फ्रेंस
  • आईजी विजय कुमार ने बताया कैसे किया एनकाउंटर

जम्मू-कश्मीर के पुलवामा जिले में बुधवार को भारतीय सुरक्षाबलों को बड़ी कामयाबी मिली. हिज्बुल मुजाहिद्दीन के कमांडर रियाज़ नायकू को सुरक्षाबलों ने मार गिराया. गुरुवार को जम्मू-कश्मीर के आईजी विजय कुमार ने मीडिया से बात की और आतंकी के एनकाउंटर के पीछे की पूरी कहानी सुनाई. उन्होंने कहा कि पिछले 6 महीने से हमारी टीम रियाज नायकू का पीछा कर रही थी और उसे ट्रैक कर रही थी.

मीडिया से बात करते हुए विजय कुमार ने कहा कि पिछले तीन दिनों में हमने अपने 8 जवानों को खो दिया, जब ऑपरेशन करते हैं तो इस तरह का झटका लगता है. लेकिन इसी संकट के वक्त में हम पलटवार भी किया है.

आईजी ने बताया कि रियाज नायकू हिज्बुल मुजाहिद्दीन का कमांडर था, उसका हम पिछले 6 महीने से पीछा कर रहे थे. उसकी एक-एक चीज़ को ट्रैक कर रहे थे, हमने उसके कुछ ऑपरेशन को बर्बाद भी कर दिया था. हमारी टीम ने पहले उसके साथियों को पकड़ा उसकी पूरी जानकारी निकाली और फिर धीरे-धीरे उसके अड्डे पर हमला किया.

रियाज नायकू के साथी का आखिरी कॉल- 'हम घिर चुके हैं, मैं घायल हूं, TRF से सतर्क रहना'

विजय कुमार ने बुधवार को हुए एनकाउंटर की कहानी बताते हुए कहा कि जिस घर में रियाज नायकू छुपा था, वहां पहले पुलिस ने घेराबंदी की और उसके बाद आर्मी वहां पर आई. पहले दिन घर में कुछ नहीं मिला था, लेकिन हमें पता था कि वहां वो छुपा है. इसलिए अगले दिन फिर एक्शन लिया गया.

रियाज नायकू के एनकाउंटर के बाद बुधवार को सुरक्षाबलों के वाहनों पर हमला किया गया, जिसपर विजय कुमार ने कहा कि 5 अगस्त के बाद ऐसा पहली बार हुआ है कि भीड़ ने पुलिस पर हमला किया है. उन्होंने बताया कि पिछले साल इस हिस्से में हमने 35 आतंकियों को ढेर किया था, इस बार इससे भी ज्यादा को ढेर कर दिया गया है.

रियाज नायकू के अलावा इस बार हैदर को भी मारा गया है, विजय कुमार ने बताया कि हैदर भी पाकिस्तानी आतंकी था और मूसा का राइट हैंड माना जाता था. जम्मू-कश्मीर में जिस नए संगठन की बात हो रही है उसको लेकर जम्मू-कश्मीर के आईजी ने कहा कि ये पाकिस्तान की चाल है, जो उसने 5 अगस्त के बाद संगठन का नाम बदला है.

गौरतलब है कि बुधवार को रियाज नायकू को एक एनकाउंटर में मार गिराया गया था. पुलवामा के अवंतीपोरा के अपने गांव में रियाज नायकू छिपा बैठा था.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें