scorecardresearch
 

Omicron variant new strain: ओमिक्रॉन के नए स्ट्रेन से इंदौर में दहशत, 6 बच्चों समेत 12 मरीजों में पुष्टि

Omicron new variant cases: भारत और फ्रांस के वैज्ञानिकों ने इस सब-स्ट्रेन के बारे में चेतावनी दी है कि इसके BA.1 सब-स्ट्रेन से आगे निकलने का डर है. ब्रिटेन ने 10 जनवरी तक BA.2 के 53 सीक्वेंस की पहचान की थी. उधर, डेनमार्क ने बताया था कि देश के करीब आधे एक्टिव केस के लिए BA.2 सब-स्ट्रेन ही जिम्मेदार है.

X
टेस्ट किट से भी पकड़ में नहीं आ रहा ओमिक्रॉन का नया वैरिएंट BA-2. (सांकेतिक तस्वीर) टेस्ट किट से भी पकड़ में नहीं आ रहा ओमिक्रॉन का नया वैरिएंट BA-2. (सांकेतिक तस्वीर)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • MP के इंदौर में सब-वैरिएंट BA-2 की दस्तक
  • ओमिक्रॉन के नए स्ट्रेन से 12 लोग संक्रमित मिले

इंदौर में ओमिक्रॉन के साथ अब इसके सब वैरिएंट BA.1 और BA.2 के मामले सामने आए हैं. शहर में ओमिक्रॉन के सब वैरिएंट BA.2 के 12 मरीज मिले हैं. इनमें 6 बच्चे भी हैं. 

BA.2 स्ट्रेन सबसे ज्यादा तेजी से फैलता है. इसका संक्रमण मरीज के फेफड़ों को सबसे ज्यादा प्रभावित करता है. नए आए मरीजों के फेफड़ों में भी 5% से 40% तक इंफेक्शन मिला है. ओमिक्रॉन BA.2 के मामले सामने आने के बाद इंदौर स्वास्थ्य विभाग भी चिंता जता रहा है.

कोरोना वायरस और ओमिक्रॉन से अलग यह वैरिएंट इस वजह से अलग है क्योंकि यह स्ट्रेन फेफड़ों को ज्यादा असर डालता है. इस स्ट्रेन को BA.2 सब-स्ट्रेन या 'स्टील्थ' (Stealth) यानी छिपा हुआ वर्जन भी कहा जा रहा है, जो 40 से अधिक देशों में पाया गया है.  

इससे पीड़ित अरबिंदो अस्पताल में भर्ती 17 साल के मरीज के लंग्स यानी फेफड़े 40% तक संक्रमित मिले हैं. वहीं, दो मरीज आईसीयू में हैं. इन मरीजों को ऑक्सीजन लगाने के साथ-साथ अस्पताल में भर्ती कराना पड़ रहा है. इनके अलावा 4 मरीजों में ओमिक्रॉन BA.1 की पुष्टि हुई है.

फेफड़ों में इन्फेक्शन बढ़ा रहा BA.2

अरबिंदो हॉस्पिटल के डॉक्टर रवि डोसी ने बताया कि ओमिक्रॉन का पहला सब वैरिएंट BA.1 आया था. यही वैरिएंट अब रोटेट होकर BA.2 हो गया है. 6 जनवरी तक इसका लंग्स इन्वॉल्वमेंट बिल्कुल भी नहीं था. इसके बाद अब तक ऐसे 12 मरीज आ चुके हैं, जिनमें BA.2 मिला है, उनके 40 फीसदी तक फेफड़े संक्रमित हो गए हैं. चिंता वाली बात यह कि ऑक्सीजन लगाने के साथ मरीजों को एडमिट करना पड़ रहा है. दो लोग ICU में हैं. फेफड़ों में इन्फेक्शन होना चिंता की बात है. हालांकि, वैक्सीन के दोनों डोज लगवा चुके मरीज सुरक्षित हैं.

टेस्ट किट की पकड़ में नहीं आता

BA.2 सब-स्ट्रेन की चौंकाने वाली बात यह है कि यह RT-PCR टेस्ट से भी बच सकता है. स्टील्थ ओमिक्रॉन ने पूरे यूरोप में और तेज लहर की आशंका पैदा कर दी है.  

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के अनुसार, ओमिक्रॉन वैरिएंट में तीन सब-स्ट्रेन हैं- BA.1, BA.2, और BA.3. जबकि दुनिया भर में रिपोर्ट किए गए ओमिक्रॉन संक्रमणों में BA.1 सब-स्ट्रेन सबसे खास है, लेकिन BA.2 सब-स्ट्रेन तेजी से फैल रहा है. विदेशी हेल्थ एक्सपर्ट्स ने BA.2 को 'variant under investigation' कहा है, जो कि 'variant of concern' घोषित किए गए स्ट्रेन से ही बना है.  

तीसरी लहर का मुख्य कारण ओमिक्रॉन

उधर,देश में सोमवार रात 11:30 बजे तक कोरोना संक्रमण के 2,52,774 नए मामले दर्ज किए गए. इस दौरान 607 मौतें भी हुईं. संक्रमितों की कुल संख्या बढ़कर 3,97,96,125 हो गई. तीसरी लहर का मुख्य कारण कोविड-19 के ओमिक्रॉन वैरिएंट को माना जा रहा है.  

कोरोना मामलों में पिछले हफ्ते 150 फीसदी इजाफा

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने भी कहा है कि भारत में तेजी से बढ़ते कोरोना मामलों की वजह से ही दक्षिण-पूर्व एशिया में संक्रमितों की संख्या में इजाफा हो रहा है. WHO के मुताबिक, पिछले एक सप्ताह के भीतर भारत में कोविड मामलों की संख्या में 150 प्रतिशत की वृद्धि देखी गई है. भारत ने 23 जनवरी को समाप्त हुए सप्ताह में कोरोना के 15,94,160 नए मामले दर्ज किए गए थे, जबकि पिछले सप्ताह यह आंकड़ा 6,38,872 था.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें