scorecardresearch
 

पीएम मोदी बोले- दिल्ली-NCR की स्थिति बनी थी चिंता का विषय, शाह ने टीम लीड कर संभाला

कोरोना प्रभावित राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने टेस्टिंग बढ़ाने पर जोर दिया. साथ ही दिल्ली-एनसीआर का उदाहरण भी दिया.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PIB) प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PIB)

  • कोरोना संकट पर पीएम मोदी की बैठक
  • टेस्टिंग और ट्रैकिंग पर जोर दें राज्य: PM

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक के दौरान केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह की तारीफ की. कोरोना संकट पर हो रही चर्चा के दौरान पीएम मोदी ने कहा कि दिल्ली-यूपी-हरियाणा में ऐसा वक्त आया था, जब हालात बिगड़ गए थे. ऐसे वक्त में गृह मंत्री अमित शाह की अगुवाई में काम हुआ और हालात को सुधारा गया.

यहां अपने संबोधन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि हरियाणा के कुछ जिले, दिल्ली, यूपी में ऐसा कालखंड आया कि चिंता का विषय बना. सरकार ने दिल्ली में ऐसी घोषणा की कि बड़ा संकट होगा, जिसके बाद हमने रिव्यू किया और गृह मंत्री अमित शाह की अगुवाई में टीम बनाई.

पीएम ने कहा कि बाद में नए सिरे से अप्रोच किया और जो परिणाम चाहते थे, वो ला पाए. सिस्टम के तरीके से आगे बढ़े और दस दिनों में परिणाम सामने आए. कंटेनमेंट जोन को पूरी तरह से अलग करें और सौ फीसदी तक स्क्रीनिंग करें.

गौरतलब है कि दिल्ली सरकार ने मई में कहा था कि दिल्ली में अगर कोरोना की रफ्तार यही रही तो जुलाई तक साढ़े पांच लाख केस हो सकते हैं. जिसके बाद केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने राजधानी में मोर्चा संभाला था, दिल्ली में टेस्टिंग बढ़ाई गई और अस्पतालों में सुविधा बढ़ाई गई.

कोरोना संकट: PM ने राज्यों से की टेस्टिंग बढ़ाने की अपील, बोले- अपनाएं 72 घंटे वाला फॉर्मूला

इसके अलावा दिल्ली से सटे एनसीआर के इलाकों को लेकर अमित शाह ने तीनों राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक की थी. दिल्ली में एक वक्त हर रोज तीन हजार से अधिक केस और सौ मौतें हो रही थीं, जो आंकड़ा अब हजार से कम केस और बीस से कम मौतों तक पहुंच गया है.

अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सभी दस सर्वाधिक प्रभावित राज्यों से भी टेस्टिंग और ट्रैकिंग पर जोर देने को कहा है. पीएम ने कहा कि 72 घंटे के अंदर कोरोना पीड़ित के संपर्क में आए लोगों की जांच करें और ट्रैक करें. ताकि संक्रमण को फैलने से रोका जा सके.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें