scorecardresearch
 

धर्म-आव्रजन समेत इन 8 मुद्दों पर दावोस से उठेगी आवाज, होगा मंथन

विश्व आर्थ‍िक मंच के एक ऑडिटोरियम में कुछ ऐसे मुद्दे भी उठाए जाएंगे, जिन पर बात होनी जरूरी है.  विश्व आर्थ‍िक मंच ने 'We need to talk about'(हमें बात करने की जरूरत है). कार्यक्राम का आयोजन किया है.

दावोस में WEF अहम बैठकों के अलावा 8 सेशन का आयोजन भी करेगी दावोस में WEF अहम बैठकों के अलावा 8 सेशन का आयोजन भी करेगी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सोमवार की सुबह दावोस के लिए निकल चुके हैं. वह यहां विश्व आर्थिक मंच (WEF) के कार्यक्रम में शामिल होंगे और उद्घाटन भाषण देंगे. मोदी दुनिया के सामने भारतीय अर्थव्यवस्था, यहां निवेश और अपनी नीतियों के बारे में बताएंगे. ये करीब दो दशक के बाद है जब कोई भारतीय प्रधानमंत्री इस कार्यक्रम में हिस्सा ले रहा है.

इस दौरान जहां दुनियाभर से आए सैकड़ों देशों के प्रतिन‍िध‍ि आर्थ‍िक मोर्चे पर अपनी बात रखेंगे और दुनियाभर के अन्य देशों से संबध गहरे करने पर ध्यान देंगे. वहीं, विश्व आर्थ‍िक मंच के एक ऑडिटोरियम में कुछ ऐसे मुद्दे भी उठाए जाएंगे, जिन पर बात होनी जरूरी है. विश्व आर्थ‍िक मंच ने 'We need to talk about' (हमें बात करने की जरूरत है). कार्यक्राम का आयोजन किया है. इसमें विशेषज्ञ आकर अपने विचार रखेंगे और इनमें सुधार को लेकर सुझाव देंगे.

23 जनवरी

विशेषाध‍िकार

इस सेशन में विशेषज्ञ विशेषाध‍िकार (प्रीविलेज) और इन्हें दिए जाने को लेकर बात करेंगे. इस सेशन में नेटवर्क लर्निंग की निदेशक पार्वती संतोष कुमार अपने विचार रखेंगी. उनके अलावा वाधवान ग्रुप के ग्रुप मैनेजमेंट काउंसिल के सदस्य श्रीधरन भी शाम‍िल होंगे.

आव्रजन

पिछले कुछ सालों में दुनियाभर में एक बहुत बड़ा मुद्दा बनकर उभरा है आव्रजन. इस सेशन में आव्रजन को लेकर दुनिया के सामने चुनौतियां और इसके नफे-नुकसान को लेकर बात होगी.

24 जनवरी

शोषण

कॉरपोरेट क्षेत्र में ऑफिस और अन्य जगहों पर शोषण की घटनाओं में लगातार बढ़ोतरी हुई है. इसको देखते हुए विश्व आर्थ‍िक मंच ने भी इसे चर्चा  के लिए शामिल किया है. चर्चा के दौरान विशेषज्ञ सुरक्ष‍ित माहौल तैयार करने पर विचार करेंगे.

धर्म

धर्म को लेकर देश और दुनियाभर में मच रही उथल-पुथल को लेकर भी WEF के मंच पर बहस होगी. इस बहस में धार्म‍िक स्तर पर खड़ी चुनौतियों को लेकर बात होगी. विशेषज्ञ वार्ता से इनका समाधान ढूंढने की कोश‍िश करेंगे.

मानस‍िक स्वास्थ्य

मानस‍िक बीमारी से ग्रस्त लोगों के साथ समाज, जिस तरह से व्यवहार करता है, उसको बदलने की जरूरत है. इसे कैसे बदला जाए, इस सेशन में विशेषज्ञ इसी पर बात करेंगे और इसका कुछ समाधान सुझाएंगे.

25 जनवरी

वर्ग :

दुनियाभर में जाति और वर्ग को लेकर बहस चल रही है. इसी बहस को आगे बढ़ाते हुए और बेहतर दिशा देने के लिए विशेषज्ञ अपने विचार रखेंगे.

समलैंगिकों की पहचान :

समलैंगि‍कों के प्रति दुनिया का रवैया बदलने के लिए इस सेशन का आयोजन किया गया है. समलैंगिकों के प्रति दुनिया जिस तरह का रवैया अपनाती है, उसको बदलने को लेकर यहां पर चर्चा  होगी.

26 जनवरी

विकलांगता :

मानवीय अध‍िकारों की दिशा में डब्लूईएफ विकलांगो के अध‍िकारों को लेकर इस सेशन में बात करेगी. इस दौरान उनके अध‍िकार और उनके प्रति हमें कैसा रवैया रखना चाहिए इसको लेकर बहस होगी.

पीएम मोदी दावोस में

बता दें कि विश्व आर्थिक मंच (World Economic Forum) की वार्षिक बैठक का आयोजन दावोस में होने जा रहा है. इस बैठक में भारत की ओर से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समेत 6 कैबिनेट मंत्री, 2 मुख्यमंत्री और 100 से भी ज्यादा सीईओ शिरकत करेंगे.

इस बार डब्ल्यूटीओ, आईएमएफ और विश्व बैंक सहित प्रमुख अंतरराष्ट्रीय संगठनों के 38 प्रमुख भी इसमें उपस्थित होंगे. इसके अलावा विभिन्न देशों के 2,000 कंपनियों के सीईओ भी इसमें शिरकत करेंगे. इस साल की थीम ‘Creating a Shared Future in a Fractured World’ यानी 'बटी हुई दुनिया के लिए साझा भविष्य का निर्माण है'.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें