scorecardresearch
 

रेल बजट: सुरक्षा की आस में सफर हुआ महंगा

रेल मंत्री दिनेश त्रिवेदी ने बुधवार को लोकसभा में पेश रेल बजट पर अपने भाषण में कहा कि 12वीं पंचवर्षीय योजना के दौरान मंत्रालय ने पांच प्राथमिकताएं तय की है जिसमें मुख्य जोर सुरक्षा पर होगा.

दिनेश त्रिवेदी दिनेश त्रिवेदी

तमाम राजनीतिक दबावों को दरकिनार करते हुए रेल मंत्री दिनेश त्रिवेदी ने बुधवार को पेश वर्ष 2012-13 के रेल बजट में यात्री किराए में अच्छी-खासी बढ़ोतरी करने के साथ रेलवे के आधुनिकीकरण के लिए 60 हजार करोड़ रुपये से अधिक के निवेश का प्रस्ताव रखा है.

यात्रियों की सुरक्षा को सबसे अहम बताते हुए त्रिवेदी ने किराए में 2 से लेकर 30 पैसे प्रति किलोमीटर की वृद्धि की है. इस तरह यदि आप दिल्ली से पटना की यात्रा एसी प्रथम श्रेणी में करते हैं तो आपको करीब 300 रुपये अधिक देने होंगे. इसके साथ ही रेल मंत्री ने 75 नई रेलगाड़ियों और 21 नई पैसेंजर गाड़ियों को शुरू करने के अलावा 39 रेलगाड़ियों के विस्तार और 23 रेलगाड़ियों के फेरों में वृद्धि का प्रस्ताव रखा है.

रेल बजट में उठाए गए 'सख्त' कदमों के लिए प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की प्रशंसा बटोरने वाले त्रिवेदी ने किराए में वृद्धि को रेलवे की खराब वित्तीय हालत में सुधार के लिए बेहद जरूरी बताया है.

रेल मंत्री के रूप में अपना पहला बजट पेश करते हुए त्रिवेदी ने कहा, 'मेरा जोर सुरक्षा, सुरक्षा, सुरक्षा पर होगा.' पिछले वर्ष उत्तर प्रदेश में रेल दुर्घटना की पृष्ठभूमि में पद सम्भालने वाले त्रिवेदी ने कहा, 'मैं रेल यात्रा को दुर्घटना रहित बनाना चाहता हूं. परमाणु ऊर्जा आयोग के पूर्व प्रमुख अनिल काकोदकर की अध्यक्षता वाले विशेषज्ञ समूह की अनुशंसा पर मैं एक स्वतंत्र रेल सुरक्षा प्राधिकरण की स्थापना का प्रस्ताव रखता हूं.' अन्य चार प्राथमिकताएं एकीकरण, भीड़भाड़ कम करना एवं क्षमता में वृद्धि, आधुनिकीकरण और परिचालन लागत कम करना है.'

रेल मंत्री ने कहा कि परिचालन लागत वर्तमान के 95 फीसदी से घटाकर 84.5 फीसदी तक लाया जाएगा और 12वीं पंचवर्षीय योजना के अंत तक इसे घटाकर 74 फीसदी तक लाया जाएगा. अभी रेलवे को 100 रुपये कमाने के लिए 95 रुपये खर्च करने होते हैं. उन्होंने कहा कि यह बजट अगले वित्त वर्ष के लिए ही नहीं है, बल्कि यह उनकी पूर्ववर्ती एवं पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के 2020 के दृष्टिकोण पत्र से प्रेरित होकर 12वीं पंचवर्षीय योजना की अवधि के लिए भी है.

यात्रियों के लिए सुविधाएं बढ़ाने के नाम पर रेल मंत्री ने ई-टिकट के लिए यात्री के मोबाइल फोन पर एसएमएस को वैध आरक्षण के प्रमाण के रूप में स्वीकार करने, रेलवे सुरक्षा बल हेल्प लाइन को अखिल भारतीय पैसेंजर हेल्पलाइन में समाहित करने, यात्रियों को एसएमएस, इंटरनेट आधारित रियल टाइम ट्रेन इंफॉर्मेशन सिस्टम शुरू करने, अगले हॉल्ट स्टेशन और आगमन के संभावित समय की सूचना उपलब्ध कराने के लिए ऑन बोर्ड पैसेंजर डिस्प्ले प्रणाली शुरू करने, किफायती दरों पर क्षेत्रीय भोजन उपलब्ध कराने और एसएमएस या ई-मेल के जरिये भोजन के अधिक विकल्प मुहैया कराने के लिए 'बुक-ए-मील' योजना शुरू करने जैसे कई प्रस्ताव किए हैं.

अगले 10 वर्षो में रेलवे के आधुनिकीकरण के लिए 14 लाख करोड़ रुपये की जरूरत बताते हुए त्रिवेदी ने कहा कि 12वीं पंचवर्षीय योजना (2012-17) के दौरान भारतीय रेल 7.35 लाख करोड़ रुपये का निवेश करेगी जिसमें से 1.92 लाख करोड़ रुपये अगले वित्त वर्ष के दौरान निवेश किए जाएंगे. रेल मंत्री अगले वित्त वर्ष में 6870 करोड़ रुपये की लागत से 85 नई रेल लाइनें बिछाने का प्रस्ताव रखा और कहा कि 114 अन्य लाइनों के लिए सम्भाव्यता सर्वेक्षण किया जाएगा.

उन्होंने कहा कि रेलगाड़ियों की रफ्तार 90-100 किमी प्रति घंटा से बढ़ाकर 160 किमी प्रति घंटा करने का प्रयास किया जाएगा और नई दिल्ली से कोलकाता के यात्रा समय को 17 घंटे से घटाकर 14 घंटे पर लाया जाएगा. उन्होंने प्रस्तावित 84 नए स्टेशनों सहित 929 स्टेशनों के उन्नयन का कार्य पूरा करने का प्रस्ताव रखा.

देश के सामाजिक-आर्थिक परिवर्तन में रेलवे की भूमिका को रेखांकित करते हुए त्रिवेदी ने कहा कि रक्षा एवं विदेश नीति की तरह महत्वपूर्ण रेल लाइनों के सम्बंध में राष्ट्रीय नीति को क्रियान्वित करने का वक्त आ गया है। भारतीय रेल 64,000 किमी मार्ग के साथ विश्व का तीसरा सबसे बड़ा नेटवर्क है। इस नेटवर्क पर प्रतिदिन 12,000 यात्री रेलगाड़ियां एवं 7,000 मालगाड़ियां क्रमश: 230 लाख यात्रियों एवं 26.5 लाख टन सामान की ढुलाई करती हैं।

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें