scorecardresearch
 

रिकवरी की राह पर भारतीय अर्थव्यवस्था, लॉकडाउन से लगेगा झटका : IMF

अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (IMF) का कहना है कि भारत कोरोना के असर से उबर रहा है और उसकी अर्थव्यवस्था रिकवरी की ओर बढ़ रही है.

X
रिकवरी की राह पर इंडियन इकोनॉमी रिकवरी की राह पर इंडियन इकोनॉमी
स्टोरी हाइलाइट्स
  • ‘पॉजिटिव जीडीपी ग्रोथ से लौटी रिकवरी’
  • ‘अगले महीने IMF की विश्वबैंक के साथ बैठक’
  • ‘जनवरी में था 11.5% की वृद्धि दर का अनुमान’

अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (IMF) का कहना है कि भारत कोरोना के असर से उबर रहा है और उसकी अर्थव्यवस्था रिकवरी की ओर बढ़ रही है. 

‘पॉजिटिव जीडीपी ग्रोथ’
IMF के प्रवक्ता गैरी राइस ने गुरुवार को एक प्रेस वार्ता में कहा कि 2020 की चौथी तिमाही में भारत की जीडीपी की वास्तविक वृद्धि दर पॉजिटिव जोन में लौट आई. यह देश की अर्थव्यवस्था के रिकवरी की राह पर होने की स्थिति बयां करता है. कोविड महामारी के बाद से यह पहली बार है जब देश की जीडीपी पॉजिटिव रही है.

‘लॉकडाउन से रिकवरी को जोखिम’
गैरी राइस ने कहा कि जीडीपी के अलावा PMI Index जैसे इंडीकेटर भी भारत के पक्ष में है. इसके चलते 2021 की पहली तिमाही में भी ये रिकवरी जारी रहने की संभावना है. लेकिन कोरोना की दूसरी लहर और स्थानीय स्तर पर लगने वाले लॉकडाउन इस लगातार होने वाली रिकवरी के लिए जोखिम बन सकते हैं.

‘11.5% की वृद्धि दर का अनुमान’
जनवरी में IMF ने अपनी रपट में 2021 में देश की आर्थिक वृद्धि दर 11.5% रहने का अनुमान जताया था. वहीं IMF का अनुमान है कि 2020 में देश की अर्थव्यवस्था 8% सिकुड़ सकती है.

‘अगले महीने विश्वबैंक के साथ बैठक’
पीटीआई की खबर के मुताबिक अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष अगले महीने विश्वबैंक के साथ बैठक करेगा. इसके अलावा IMF की नवीनतम वर्ल्ड इकोनॉमिक आउटलुक रिपोर्ट भी छह अप्रैल को आनी है.

देश में फिर फैल रहा कोरोना
देश में कोरोना के मामले फिर से बढ़ रहे हैं. स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार शुक्रवार को देश में कोरोना के 59,118 नए मामले सामने आए.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें