scorecardresearch
 

इलॉन मस्क का वादा, इस साल भारत आएगी टेस्ला 'सुपरचार्जिंग कार'

अमेरिका के सिलिकन वैली में बनी टैस्ला का दुनिया को इंधन मुक्त कार देने का वादा है. एक दर्जन से अधिक देशों में लांच के बाद टेस्ला के सीईओ इलॉन मस्क ने अब वादा किया है कि 2017 के अंत तक वह अपने लेटेस्ट मॉडल 3 के साथ भारतीय बाजार में एंट्री करेंगे.

इस साल भारत आ रही है टेस्ला की मॉडल 3 इस साल भारत आ रही है टेस्ला की मॉडल 3

अमेरिका के सिलिकन वैली में बनी टैस्ला का दुनिया को इंधन मुक्त कार देने का वादा है. एक दर्जन से अधिक देशों में लांच के बाद टेस्ला के सीईओ इलॉन मस्क ने अब वादा किया है कि 2017 के अंत तक वह अपने लेटेस्ट मॉडल 3 के साथ भारतीय बाजार में एंट्री करेंगे.

टेस्ला को 2003 में अमेरिका और कनाडा के इंजीनियर्स ने ट्रांस्पोर्टेशन की दुनिया में क्रांति करते हुए बिना किसी इंधन के इस्तेमाल से त्वरित टॉर्क, जबरदस्त पावर और जीरो पॉल्यूशन देने के लिए बनाया गया. दुनिया की क्रूड ऑयल पर निर्भरता कम करने के उद्देश्य के साथ टेस्ला अपनी कार के कई मॉडल्स को दुनिया के एक दर्जन से अधिक देशों में उतार चुकी है.

टेस्ला का सर्वाधिक प्रचलित और लेटेस्ट मॉडल 3 इलेक्ट्रिक कार फिलहाल अमेरिका समेत कई देशों में 35,000 डॉलर में बिक रही है जिसकी भारत में कीमत लगभग 23 लाख रुपये पड़ेगी. इलॉन मस्क के मुताबिक टेस्ला मॉडल 3 की बड़े स्तर पर निर्माण कराने जा रही है और उस आधार पर भारतीय बाजार में वह इसी साल एंट्री कर सकती है.

इन देशों में लांच हो चुकी है टेस्ला

मॉडल 3 के लिए कंपनी का दावा है कि वह महज 6 सेकेंड में 60 मील प्रति घंटे की स्पीड पर दौड़ सकती है. वहीं एक बार कार को पूरी तरह बिजली से चार्ज करने के बाद लगभग 346 किलोमीटर तक दौड़ाया जा सकता है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें