scorecardresearch
 

दिल्ली चुनाव से पहले चंदे की व्यवस्था, आज से बिकेंगे इलेक्टोरल बॉन्ड

भारतीय स्टेट बैंक सोमवार से फिर से इलेक्टोरल बॉन्ड की बिक्री शुरू कर कर रहा है.  यह बिक्री 13 से 22 जनवरी तक की जाएगी. यह एक ऐसा बॉन्ड है जिसके द्वारा उद्योगपति से लेकर आम आदमी तक पारदर्शी तरीके से किसी राजनीतिक दल को चंदा दे सकते हैं.

इलेक्टोरल बॉन्ड की सोमवार से बिक्री इलेक्टोरल बॉन्ड की सोमवार से बिक्री

  • सोमवार से फिर से शुरू इलेक्टोरल बॉन्ड की बिक्री
  • एसबीआई द्वारा यह बिक्री 13 से 22 जनवरी तक की जाएगी
  • दिल्ली चुनाव से पहले चंदा जुटाने का मिला रास्ता
  • इसके द्वारा कोई भी व्यक्ति किसी दल को चंदा दे सकता है

भारतीय स्टेट बैंक (SBI) सोमवार से फिर से इलेक्टोरल बॉन्ड की बिक्री शुरू कर कर रहा है.  यह बिक्री 13 से 22 जनवरी तक की जाएगी. यह एक ऐसा बॉन्ड है जिसके द्वारा उद्योगपति से लेकर आम आदमी तक पारदर्शी तरीके से किसी राजनीतिक दल को चंदा दे सकते हैं.

अभी तक इस बॉन्ड से ज्यादातर चंदा भारतीय जनता पार्टी को मिला है. राजनीतिक दलों को मिलने वाले चंदे में पारदर्श‍िता लाने के दावे के साथ सरकार ने साल 2018 में इसे लॉन्च किया था.

क्या कहा वित्त मंत्रालय ने

वित्त मंत्रालय ने दिल्ली चुनाव से पहले इस बारे में जो नोटिफिकेशन जारी किया है, उसके मुताबिक इस बार 13 से 22 जनवरी तक एसबीआई इलेक्टोरल बॉन्ड की बिक्री करेगा और इस अवध‍ि के दौरान ही राजनीतिक दल इसे भुना पाएंगे. साल 2018 में इलेक्टोरल बॉन्ड लॉन्च करने के बाद यह अब तक इसकी 13वीं खेप होगी.

क्या होते हैं इलेक्टोरल बॉन्ड

सरकार ने इस दावे के साथ साल 2018 में इस बॉन्ड की शुरुआत की थी कि इससे राजनीतिक फंडिंग में पारदर्शिता बढ़ेगी और साफ-सुथरा धन आएगा. इसमें व्यक्ति, कॉरपोरेट और संस्थाएं बॉन्ड खरीदकर राजनीतिक दलों को चंदे के रूप में देती हैं और राजनीतिक दल इस बॉन्ड को बैंक में भुनाकर रकम हासिल करते हैं. इलेक्टोरल बॉन्ड एसबीआई की 29 अध‍िकृत शाखाओं द्वारा बेचे जाते हैं. इसके द्वारा सिर्फ रजिस्टर्ड राजनीतिक दलों को चंदा दिया जा सकता है.

भारतीय स्टेट बैंक की 29 शाखाओं को इलेक्टोरल बॉन्ड जारी करने और उसे भुनाने के लिए अधिकृत किया गया. ये शाखाएं नई दिल्ली, मुंबई, कोलकाता, चेन्नई, गांधीनगर, चंडीगढ़, पटना, रांची, गुवाहाटी, भोपाल, जयपुर और बेंगलुरु की हैं. 12वें चरण तक के आंकड़ों के मुताबिक इलेक्टोरल बॉन्ड का सबसे ज्यादा 30.67 फीसदी हिस्सा मुंबई में बेचा गया. इनका सबसे ज्यादा 80.50 फीसदी हिस्सा दिल्ली में भुनाया गया.

क्या है इलेक्टोरल बॉन्ड की खूबी

कोई भी डोनर अपनी पहचान छुपाते हुए स्टेट बैंक ऑफ इंडिया से एक करोड़ रुपए तक मूल्य के इलेक्टोरल बॉन्ड्स खरीद कर अपनी पसंद के राजनीतिक दल को चंदे के रूप में दे सकता है. ये व्यवस्था दानकर्ताओं की पहचान नहीं खोलती और इसे टैक्स से भी छूट प्राप्त है.

कैसे काम करते हैं ये बॉन्ड

एक व्यक्ति, लोगों का समूह या एक कॉर्पोरेट बॉन्ड जारी करने वाले महीने के निर्धारित दिनों के भीतर एसबीआई की निर्धारित शाखाओं से चुनावी बॉन्ड खरीद सकता है. जारी होने की तिथि से 15 दिनों की वैधता वाले बॉन्ड 1000 रुपए, 10000 रुपए, एक लाख रुपए, 10 लाख रुपए और 1 करोड़ रुपए के गुणकों में जारी किए जाते हैं.

ये बॉन्ड नकद में नहीं खरीदे जा सकते और खरीदार को बैंक में केवाईसी (अपने ग्राहक को जानो) फॉर्म जमा करना होता है. सियासी दल एसबीआई में अपने खातों के जरिए बॉन्ड को भुना सकते हैं. यानी ग्राहक जिस पार्टी को यह बॉन्ड चंदे के रूप में देता है वह इसे अपने एसबीआई के अपने निर्धारित एकाउंट में जमा कर भुना सकता है. पार्टी को नकद भुगतान किसी भी दशा में नहीं किया जाता और पैसा उसके निर्धारित खाते में ही जाता है.

सबसे ज्यादा चंदा बीजेपी को मिला

हाल में आई एक खबर के मुताबिक 2019 के लोकसभा चुनाव से पहले इलेक्टोरल बॉन्ड के द्वारा करीब 60 फीसदी चंदा बीजेपी को मिला था. इसके द्वारा कुल 2,410 करोड़ रुपये का चंदा राजनीतिक दलों को मिला है, जिसमें से अकेले बीजेपी को 1,450 करोड़ रुपये का चंदा हासिल हुआ है. कांग्रेस को 383 करोड़ रुपये का चंदा हासिल हुआ.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें