scorecardresearch
 
बिजनेस

सुहाना होगा सफर, 100 रूटों पर चलेंगी 150 हाईटेक ट्रेन, सुविधा प्लेन जैसी

सुहाना होगा सफर, 100 रूटों पर चलेंगी 150 हाईटेक ट्रेन, सुविधा प्लेन जैसी
  • 1/9
अभी देश में दो ऐसी ट्रेनें चल रही हैं, जिसमें यात्रियों को एक तरह से एयरलाइंस जैसी सुविधाएं मिल रही है. इन ट्रेनों से सफर करने वाले लोग दूसरे रूटों पर भी इसी तरह की ट्रेनें चाहते हैं. अभी फिलहाल वंदे भारत और तेजस एक्सप्रेस दो ट्रेनें हैं, जो तमाम आधुनिक सुविधाओं से लैस हैं. (Photo: File)
सुहाना होगा सफर, 100 रूटों पर चलेंगी 150 हाईटेक ट्रेन, सुविधा प्लेन जैसी
  • 2/9
दरअसल आने वाले कुछ वर्षों में भारतीय रेलवे का कायाकल्प होने वाला है. तेजस और वंदे भारत जैसी हाईटेक ट्रेन को यात्री पसंद कर रहे हैं. यात्रियों के पॉजिटिव रिस्पॉन्स मिलने के बाद अब रेल मंत्रालय करीब 100 रूट्स पर ऐसी 150 ट्रेनें चलाने की तैयारी में है. (Photo: File)
सुहाना होगा सफर, 100 रूटों पर चलेंगी 150 हाईटेक ट्रेन, सुविधा प्लेन जैसी
  • 3/9
तेजस और वंदे भारत में कुछ ऐसी सुविधाएं हैं, जो यात्रियों को हवाई सफर का फील कराता है. एक तो इन ट्रेनों की स्पीड काफी है और जिस सफर सुहाना बन जाता है. कोच में LED स्क्रीन, अटेंडेंट बुलाने के लिए कॉल बटन जैसी सुविधा मिलती है. अब इसी तरह की 150 ट्रेनें देशभर में चलाने के लिए रेल मंत्रालय पूरा एक्शन प्लान बना लिया है. (Photo: File)
सुहाना होगा सफर, 100 रूटों पर चलेंगी 150 हाईटेक ट्रेन, सुविधा प्लेन जैसी
  • 4/9
दरअसल तेजस और वंदे भारत ट्रेन निजी कंपनियों द्वारा चलाई जा रही हैं. भारतीय रेलवे यह एक प्रयोग किया जो सफल रहा है. अब निजी ऑपरेटरों को 100 रेल-रूटों पर 150 प्राइवेट ट्रेनों के परिचालन की अनुमति दिए जाने से 22 हजार करोड़ से अधिक का निवेश मिलने की उम्‍मीद है. (Photo: File)
सुहाना होगा सफर, 100 रूटों पर चलेंगी 150 हाईटेक ट्रेन, सुविधा प्लेन जैसी
  • 5/9
इसके लिए बकायदा रूटों की पहचान कर ली गई है, जिधर से होकर यह 150 तेज रफ्तार और सभी आधुनिक सुविधाओं से लैस ट्रेनें गुजरेंगी. अहम बात ये है कि इसमें विदेशी कंपनियां भी निवेश कर सकेंगी. (Photo: File)
सुहाना होगा सफर, 100 रूटों पर चलेंगी 150 हाईटेक ट्रेन, सुविधा प्लेन जैसी
  • 6/9
फिलहाल प्राइवेट ट्रेनों के परिचालन के रूट में मुंबई सेंट्रल-नई दिल्ली, नई दिल्ली-पटना, अहमदाबाद-पुणे और दादर-वड़ोदरा के इंदौर-ओखला, लखनऊ जम्मू तवी, चेन्‍नई-ओखला, आनंद विहार-भागलपुर, सिंकदराबाद-गुवाहाटी और हावड़ा-आनंद विहार शामिल हैं. अभी नई दिल्ली-लखनऊ के बीच भारत की पहली प्राइवेट ट्रेन तेजस चल रही है. तेजस को चलाने की जिम्मेदारी आईआरसीटीसी के पास है. (Photo: File)
सुहाना होगा सफर, 100 रूटों पर चलेंगी 150 हाईटेक ट्रेन, सुविधा प्लेन जैसी
  • 7/9
दरअसल रेलवे का कहना है कि ऐसी ट्रेनें उतारने से अभी जो टिकट को लेकर संकट है, वो खत्म हो जाएगा. हालांकि किराया आम ट्रेनों के मुकाबले ज्यादा रहने की संभावना है. लेकिन आज की तारीख में बड़े पैमाने पर ऐसे लोग हैं, जो अपनी यात्रा को सुगम बनाने के लिए ज्यादा खर्च करने को भी तैयार हैं. (Photo: File)
सुहाना होगा सफर, 100 रूटों पर चलेंगी 150 हाईटेक ट्रेन, सुविधा प्लेन जैसी
  • 8/9
भारतीय रेलवे ने जो 150 नई ट्रेनें चलाने की बात कही है. ये सभी निजी कंपनियों द्वारा ऑपरेट की जाएंगी. यानी इसका संचालन तेजस और वंदे भारत की तरह प्राइवेट कंपनियों के हाथ में होगी. इसलिए किराया, ट्रेन में किस क्लास के कितने कोच, यहां तक कि ट्रेन किन किन स्टेशनों पर रुकेगी, इसे तय करने का हक संचालन कंपनियों को मिलेगा. (Photo: File)
सुहाना होगा सफर, 100 रूटों पर चलेंगी 150 हाईटेक ट्रेन, सुविधा प्लेन जैसी
  • 9/9
तेजस की खासियतें
इसमें ट्रेन के लेट होने पर यात्रियों को मुआवजे के अलावा कई खास सुविधाएं मिलती हैं. ट्रेन में विमान की तरह व्यक्तिगत एलसीडी एंटरटेनमेंट-कम-इंफोर्मेशन स्क्रीन, ऑन बोर्ड वाई-फाई सेवा, आरामदायक सीटें, मोबाइल चार्जिंग, व्यक्तिगत रीडिंग लाइट्स, मोड्यूलर बायो-टॉयलेट और सेंसर टेप फिटिंग की सुविधाएं हैं. तेजस एक्सप्रेस में कुल 758 यात्री सफर कर सकते हैं. (Photo: File)