scorecardresearch
 

Bank Strike June 2022: करोड़ों बैंक ग्राहकों को मिली राहत, अब टल गई बैंककर्मियों की ये हड़ताल

यूनाइटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियन (United Forum Of Bank Union) ने पेंशन से जुड़ी बातों और सप्ताह में पांच ही दिन काम जैसी मांगों को लेकर हड़ताल करने का ऐलान किया था. यूनाइटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियन नौ बैंक यूनियंस की अम्ब्रेला बॉडी है.

X
टल गई बैंकों की हड़ताल टल गई बैंकों की हड़ताल
स्टोरी हाइलाइट्स
  • पुरानी पेंशन स्कीम को बहाल करने की मांग
  • सप्ताह में पांच दिन ही काम करने की व्यवस्था

देश के करोड़ों बैंक ग्राहकों के लिए एक राहत भरी खबर है. बैंकों में अगले सप्ताह होने वाली हड़ताल (Bank Strike) अंतत: टल गई है. बैंक कर्मचारियों के संगठनों (Bank Unions) ने 27 जून को पूरे देश में हड़ताल करने का ऐलान किया था. हालांकि इंडियन बैंक एसोसिएशन (Indian Bank Association) अब बैंक यूनियंस की मांगों पर बातचीत शुरू करने के लिए सहमत हो गया है. इसके बाद बैंक यूनियंस ने प्रस्तावित हड़ताल को टालने का निर्णय लिया है.

फाइव डे वर्किंग वीक अहम डिमांड

यूनाइटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियन (United Forum Of Bank Union) ने पेंशन से जुड़ी बातों और सप्ताह में पांच ही दिन काम जैसी मांगों को लेकर हड़ताल करने का ऐलान किया था. यूनाइटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियन नौ बैंक यूनियंस की अम्ब्रेला बॉडी है. ऑल इंडिया बैंक ऑफिसर्स कंफेडरेशन (All India Bank Officers' Confederation), ऑल इंडिया बैंक एम्पलॉइज एसोसिएशन (All India Bank Employees’ Association) और नेशनल ऑर्गेनाइजेशन ऑफ बैंक वर्कर्स (National Organisation of Bank Workers) भी यूनाइटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियन (UFBU) का हिस्सा हैं.

ये भी हैं बैंक यूनियंस की मांगें

आईबीए के साथ हुए समझौते के अनुसार, विभिन्न लंबित मुद्दों को लेकर 01 जुलाई से बातचीत शुरू होगी. एआईबीईए के जनरल सेक्रेटरी सीएच वेंकटचलम (CH Venkatchalam) ने चीफ लेबर कमिश्नर (CLC) की अगुवाई में हुई एक बैठक के बाद इस बात की जानकारी दी. बैंक यूनियंस की अन्य मांगों में सभी पेंशनधारियों (Pensioners) के लिए पेंशन को अपडेट व रिवाइज करना, नेशनल पेंशन स्कीम (NPS) को लागू नहीं करना और सभी बैंक कर्मचारियों के लिए पुरानी पेंशन योजना (Old Pension Scheme) को वापस लागू करना आदि शामिल हैं.

आईबीए की सहमति बड़ी सफलता

इससे पहले बैंक यूनियंस और आईबीए के बीच 21 जून को भी बैठक हुई थी, लेकिन उसमें कोई नतीजा नहीं निकल पाया था. उस बैठक के बाद बैंक यूनियंस ने कहा था कि वे 27 जून की प्रस्तावित हड़ताल पर कायम रहने वाले हैं. उसके बाद 23 जून को दोबारा बैठक बुलाई गई. इस बैठक में आगे बातचीत पर सहमति बन गई. बैंक यूनियंस का कहना है कि बातचीत के लिए आईबीए का सहमत हो जाना बड़ी सफलता है, क्योंकि वह पिछले डेढ़ साल से यूनियंस के साथ कोई बातचीत नहीं कर रहा था.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें