scorecardresearch
 

बजट 2018: पेट्रोल की बढ़ती कीमतों से आज मिलेगी राहत? जेटली देंगे ये गिफ्ट

पेट्रोल और डीजल की कीमतें लगातार बढ़ती जा रही हैं. अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कच्चे तेल की कीमतों में लगातार हो रही बढ़ोतरी की वजह से पेट्रोल के दाम 80 के आंकड़े को भी पार कर गया है.

पेट्रोल-डीजल पेट्रोल-डीजल

पेट्रोल और डीजल की कीमतें लगातार बढ़ती जा रही हैं. अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कच्चे तेल की कीमतों में लगातार हो रही बढ़ोतरी की वजह से पेट्रोल के दाम 80 के आंकड़े को भी पार कर गई हैं. ऐसे में आज बजट में वित्त मंत्री अरुण जेटली आपको पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों से राहत दे सकते हैं. इसके लिए वह एक अहम घोषणा कर सकते हैं.

ऐसे दे सकते हैं राहत

तेल मंत्रालय ने वित्त मंत्री अरुण जेटली को पेट्रोल-डीजल पर लगने वाली एक्साइज ड्यूटी घटाने का सुझाव दिया है. अगर वित्त मंत्री इस सुझाव को मान लेते हैं, तो आपको पेट्रोल और डीजल की बढ़ती कीमतों से काफी राहत मिल सकती है. हालां‍क‍ि सरकार के लिए यह फैसला लेना आसान भी नहीं होगा. उसके सामने राजस्व की कमी का एक बड़ा प्रश्न भी खड़ा है.

राजकोषीय घाटा बढ़ने का खतरा

अब ऐसा कदम उठाने का मतलब होगा कि सरकार अपना राजकोषीय घाटा बढ़ाने का खतरा पैदा करेगी. एक्साइज ड्यूटी घटाने से राजकोषीय घाटे को 3.2 फीसदी रखने का लक्ष्य सरकार के लिए हासिल करना मुश्‍किल हो जाएगा. इससे अर्थव्यवस्था के मोर्चे पर नई चुनौतियां खड़ी हो जाएंगी.

तेल कंपनियों से भी राहत की उम्मीद कम

दूसरी तरफ, तेल कंपनियों से भी इस मोर्चे पर राहत मिलने की उम्मीद कम ही है. अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कच्चे तेल की कीमतें लगातार बढ़ रही हैं. इसकी वजह से कंपनियों का खर्च भी लगातार बढ़ता जा रहा है.

ऐसे में इन कंपनियों की तरफ से भी पेट्रोल और डीजल की कीमतों को लेकर राहत मिलना मुश्क‍िल लग रहा है. हालांकि तेल मंत्रालय के सुझाव को देखते हुए उम्मीद अभी भी बाकी है कि वित्त मंत्री अरुण जेटली बजट में पेट्रोल और डीजल की बढ़ती कीमतों से राहत दिलाने के लिए कुछ न कुछ प्रावधान जरूर करेंगे.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें