scorecardresearch
 

मारुति ने वापस मंगाई 63 हजार से ज्‍यादा कारें, जानिए क्‍या है वजह

मारुति सुजुकी इंडिया ने शुक्रवार को Ciaz, Ertiga और XL6 के 63, 493 यूनिट को वापस मंगा लिया है. इनके मोटर जनरेटर यूनिट (एमजीयू) में दिक्कत आ रही थी.

मारुति का बड़ा फैसला मारुति का बड़ा फैसला

  • मारुति ने 60 हजार से अधिक कारों को बाजार से वापस मंगाया
  • आखिरी घंटों में मारुति का शेयर भाव 1.79 % लुढ़क गया

देश की दिग्‍गज ऑटोमेकर कंपनी मारुति सुजुकी इंडिया ने 60 हजार से अधिक कारों को बाजार से वापस मंगा लिया है. मारुति की ओर से दी गई जानकारी के मुताबिक सेफ्टी को देखते हुए कंपनी ने Ciaz, Ertiga और XL6 के 63, 493 यूनिट को रिकॉल किया है.

मारुति के मुताबिक कंपनी मोटर जेनरेटर यूनिट में खराबी के कारण यह फैसला लिया है. मारुति अब इन कारों के मॉडल की जांच करेगी. इसके लिए ग्राहकों से कोई चार्ज नहीं लिया जाएगा.  कंपनी ने एक जनवरी 2019 से 21 नवंबर 2019 के बीच बनी कारों को वापस बुलाया है. कारों को वापस बुलाने का वैश्विक स्तर पर अभियान छह दिसंबर 2019 से शुरू हो रहा है.  इस खबर के बीच मारुति के शेयर में करीब 2 फीसदी तक की गिरावट आई है. शुक्रवार को कारोबार के आखिरी घंटों में मारुति का शेयर भाव 1.79 % लुढ़क कर 6880 रुपये के भाव पर आ गया.

हाल ही में मारुति सुजुकी ने जनवरी 2020 से अपने कारों की कीमतें बढ़ाने का ऐलान किया है. बीते दिनों कंपनी ने कहा कि पिछले एक साल में कच्चे माल की बढ़ती लागत की वजह से कीमतें बढ़ाई जा रही हैं. हालांकि कंपनी ने अभी यह खुलासा नहीं किया कि कीमतों में कितना इजाफा होगा.

वहीं कंपनी ने भारतीय बाजार में 2 करोड़ से ज्यादा कारें सेल करने का भी रिकॉर्ड बनाया है. मारुति ने ये मुकाम 36 साल में हासिल किया है. भारत में कंपनी ने अपनी पहली कार 14 दिसंबर 1983 को लॉन्च की थी. यह कार कंपनी की सबसे चर्चित मारुति 800 थी.

हुंडई ने 16,409 कारों को वापस मंगाया

बीते नवंबर महीने में सीएनजी फिल्टर असेंबली में गड़बड़ी की वजह से हुंडई ने अपनी 16,409 कारों को वापस मंगाया था. कंपनी ने तब बताया था कि Grand i10 और Xcent के कुल 16,409 सीएनजी मॉडल्स वापस मंगाए जा रहे हैं. हुंडई की ये कारें 1 अगस्त 2017 से 30 सितंबर 2019 के बीच बनी हैं और इन सभी कारों में फैक्ट्री फिटेड CNG किट दी गई है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें