scorecardresearch
 

सादा होगा इमरान का शपथ समारोह, किसी विदेशी नेता को न्योता नहीं

पार्टी की ओर से कहा गया था कि हमने अपने विदेश मंत्रालय से पूछा था कि क्या भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समेत कई अन्य देशों के राष्ट्राध्यक्षों को इमरान खान के शपथ-ग्रहण समारोह में आमंत्रित किया जा सकता है.

पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआई) के मुखिया इमरान खान पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआई) के मुखिया इमरान खान

पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (PTI) के मुखिया और पूर्व क्रिकेटर इमरान खान 11 अगस्त को पाकिस्तान के प्रधानमंत्री पद की शपथ लेंगे. इस खास मौके पर कई बड़ी हस्तियों को बुलाया जा रहा है. ऐसा अंदेशा लगाया जा रहा था कि इमरान खान अपने शपथ ग्रहण समारोह में सार्क देशों के प्रमुखों को बुलाएंगे, जिसमें भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भी न्योता दिया जाएगा. लेकिन इन खबरों का पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय ने खंडन किया है.

पाकिस्तानी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने गुरुवार को कहा कि इमरान खान के शपथ ग्रहण समारोह में किसी भी विदेशी नेता को नहीं बुलाया जा रहा है. जाहिर है कि इससे साफ है कि इमरान खान, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को न्योता नहीं देंगे. इसके अलावा पाकिस्तान के खास दोस्त चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग को भी आधिकारिक न्योता नहीं दिया जाएगा.

हालांकि, इससे इतर इमरान की पार्टी PTI ने भारत की ओर से पूर्व क्रिकेटर सुनील गावस्कर, कपिल देव, नवजोत सिंह सिद्धू और बॉलीवुड अभिनेता आमिर खान को न्योता दिया है. इनमें से अभी सिद्धू ने खुले तौर पर इस्लामाबाद जाने की बात स्वीकार भी की है. सिद्धू का कहना है कि अगर उन्हें परमिशन मिलती है तो वह जरूर जाएंगे.

आपको बता दें कि शपथ ग्रहण में विदेशी नेताओं को बुलाने को लेकर PTI ने पाकिस्तान के विदेश मंत्रालयों से पूछा था. जिसके बाद अब विदेश मंत्रालय का जवाब आया है.

पाकिस्तान में बीते 25 जुलाई को नेशनल असेंबली के लिए हुए चुनावों में PTI सबसे बड़ी पार्टी के तौर पर उभरी थी और वह अपनी सहयोगी पार्टियों और निर्दलीय सांसदों के समर्थन से सरकार का गठन कर सकती है. पीटीआई प्रमुख ने सोमवार को कहा था कि वह 11 अगस्त को प्रधानमंत्री पद की शपथ लेंगे.

पीएम मोदी की ताजपोशी में शरीक हुए थे शरीफ

मई 2014 में जब नरेंद्र मोदी ने प्रधानमंत्री पद की शपथ ली थी तो उस वक्त उन्होंने तत्कालीन पाकिस्तानी प्रधानमंत्री नवाज शरीफ को आमंत्रित किया था और शरीफ नई दिल्ली आए भी थे. इसके बाद, दिसंबर 2015 में पीएम मोदी नवाज शरीफ के जन्मदिन पर शुभकामनाएं देने के लिए अचानक कुछ देर के लिए लाहौर पहुंचे थे. हाल के वर्षों में भारत और पाकिस्तान के संबंध तनावपूर्ण हो गए हैं और कोई द्विपक्षीय वार्ता नहीं हो रही.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें