scorecardresearch
 

नेपाल में जीत गई जिंदगी...भूकंप के 120 घंटे बाद मलबे से जिंदा निकाला गया युवक

जी हां, यह चमत्कार से कम नहीं था, जब नेपाल में भूकंप के 120 घंटे बाद 15 साल के युवक को जीवित बाहर निकाला गया. पेम्बा लांबा नाम के इस युवक को गुरुवार को काठमांडू के हिल्टन होटल के पास मलबे से जीवित बाहर निकाला गया.

पेम्बा लांबा पेम्बा लांबा

जी हां, यह चमत्कार से कम नहीं था, जब नेपाल में भूकंप के 120 घंटे बाद 15 साल के युवक को जीवित बाहर निकाला गया. पेम्बा लांबा नाम के इस युवक को गुरुवार को काठमांडू के हिल्टन होटल के पास मलबे से जीवित बाहर निकाला गया.

सशस्त्र प्रहरी बल ने पेम्बा को भूकंप के पांच दिन बाद जीवित निकाला. यह युवक वहीं के एक होटल में काम करता था, जो भूकंप में ध्वस्त हो गया था. पेम्बा को जब मलबे से बाहर निकाला गया तो वहां मौजूद भीड़ अपनी खुशी पर काबू नहीं रख पाई और लोगों ने जमकर उसके जीवित निकलने की खुशी मनाई.

अब तक 5,825 लोगों की मौत
नेपाल में शनिवार को आए विनाशकारी भूकंप में मरने वालों की संख्या गुरुवार को 5,825 हो गई है. यह जानकारी पुलिस ने दी. पुलिस मुख्यालय के अनुसार, भूकंप में घायल हुए 10,400 लोगों का देश के अलग-अलग अस्पतालों में इलाज चल रहा है. नेपाल के मध्य क्षेत्र में 3,548 लोगों की जानें गई हैं, जबकि काठमांडू घाटी में 1,521 लोगों को अपनी जान गंवानी पड़ी है. धिकारियों ने बताया कि राहत टीम अभी भी भूकंप प्रभावित दूरवर्ती इलाकों में लोगों की तलाश रही है, लिहाजा मौत का आंकड़े बढ़ने के आसार हैं. अभी भी सैंकड़ों लोग लापता हैं. प्रधानमंत्री सुशील कोईराला ने शनिवार को 10,000 लोगों के मारे जाने की आशंका व्यक्त की थी.

आफ्टरशॉक से सहमे लोग
नेपाल में शनिवार से अब तक 100 से ज्यादा आफ्टरशॉक महसूस किए गए हैं, जिस कारण हजारों लोग काठमांडू छोड़ चुके हैं, तो कई अपने घरों से बाहर रह रहे हैं. नेपाल में गुरुवार सुबह तक रिक्टर पैमाने पर चार तीव्रता वाले 110 आफ्टरशॉक महसूस किए गए हैं. भूकंप में अब तक 5,000 से अधिक लोगों की जानें जा चुकी हैं. लोगों का राजधानी काठमांडू छोड़ कर जाने का सिलसिला जारी है और हजारों लोग डर के कारण घर से बाहर रहे हैं. संयुक्त राष्ट्र की एजेंसी के मुताबिक, पांच लाख घर पूरी तरह या फिर आंशिक रूप से प्रभावित हुए हैं. लोग अपने घरों में वापस जाने से डर रहे हैं, जिनमें दरारें पड़ गई हैं. उन्हें इस बात की चिंता है कि हल्का भूकंप आने पर भी उनके घर ढह सकते हैं. जनजीवन अभी सामान्य नहीं हुआ है. दुकानें नहीं खुली हैं, स्कूल बंद हैं, सरकारी तथा निजी दफ्तरों में काम बंद है. सबसे ताजा आफ्टरशॉक गुरुवार सुबह 6.22 बजे दर्ज किया गया, जिसकी तीव्रता 4.7 और केंद्र लामजुंग जिला था.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें