scorecardresearch
 

डोनाल्ड ट्रंप पर ईरान का पलटवार, कहा- हमने तैयार कर ली थीं सैकड़ों मिसाइलें

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के परमाणु शक्ति नहीं बनने देने के बयान पर ईरान ने फिर से पलटवार किया है. ईरान ने कहा कि ईरान ने सैकड़ों मिसाइलें तैयार कर ली थी. उन्होंने कहा कि बुधवार को ईरान की सेना ने इराक में अमेरिकी सैन्य ठिकानों पर 13 मिसाइलें दागी थी. हम सैकड़ों मिसाइलें दागने को तैयार थे.

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और ईरान के राष्ट्रपति हसन रूहानी (Courtesy- PTI) अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और ईरान के राष्ट्रपति हसन रूहानी (Courtesy- PTI)

  • ट्रंप ने कहा था- ईरान के परमाणु शक्ति बनने का सपना नहीं होंगे देंगे पूरा
  • सुलेमानी की मौत के बाद से ईरान और अमेरिका के बीच गहराया है तनाव
  • US एयर स्ट्राइक में मारे गए थे ईरानी कमांडर जनरल कासिम सुलेमानी
  • बुधवार को ईरान ने इराक में अमेरिकी सैन्य ठिकानों पर दागी थी मिसाइलें

ईरानी कमांडर जनरल कासिम सुलेमानी की मौत के बाद को लेकर अमेरिका और ईरान के बीच बढ़ा तनाव कम होने का नाम नहीं ले रहा है. अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के परमाणु शक्ति नहीं बनने देने के बयान पर ईरान ने फिर से पलटवार किया है. ईरान के एयरोस्पेस प्रोग्राम का नेतृत्व करने वाले ब्रिगेडियर जनरल आमिर अली हाजिजादेह ने कहा कि ईरान ने सैकड़ों मिसाइलें तैयार कर ली थी.

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक जनरल आमिर अली हाजिजादेह ने कहा कि बुधवार को ईरान की सेना ने इराक में अमेरिकी सैन्य ठिकानों पर 13 मिसाइलें दागी थी. हम सैकड़ों मिसाइलें दागने को तैयार थे. ईरान के मिसाइल हमले में कई अमेरिकी सैनिक मारे गए और कई घायल हुए थे. हालांकि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने ईरान के मिसाइल हमले में किसी अमेरिकी सैनिक के मारे जाने के दावे को खारिज किया था.

क्या कहा था अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने?

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने राष्ट्र को संबोधित करते हुए कहा था कि ईरान ने अमेरिकी सैन्य ठिकानों पर मिसाइलों से हमला किया है, लेकिन इस हमले में किसी अमेरिकी सैनिक की मौत नहीं हुई है. हालांकि ईरानी हमले में अमेरिकी सैन्य ठिकानों को थोड़ा बहुत नुकसान हुआ है. इस दौरान डोनाल्ड ट्रंप ने ईरान पर जोरदार हमला बोला था, लेकिन जवाबी सैन्य कार्रवाई करने की बात से बचते नजर आए थे.

ईरान पर आतंकवाद को बढ़ावा देने का आरोप लगाते हुए डोनाल्ड ट्रंप ने कहा था कि अमेरिका ईरान के परमाणु शक्ति बनने के ख्वाब को कभी पूरा नहीं होने देगा. ईरान आतंकवाद का प्रयोजक है. उसके परमाणु हथियार हासिल करने से दुनिया को खतरा पैदा हो जाएगा.

ट्रंप ने कहा कि हमने दुनिया के सबसे बड़े आतंकी कासिम सुलेमानी को ढेर कर दिया था. सुलेमानी अमेरिकियों के लिए खतरा बन गया था. सुलेमानी को बहुत पहले ही मार दिया जाना चाहिए था. अमेरिका ने सुलेमानी को मारकर आतंकवाद को कड़ा संदेश दिया है. उन्होंने ईरान पर नए आर्थिक प्रतिबंध लगाने की भी  बात कही थी.

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के बयान से नाराज ईरान ने गुरुवार को फिर पलटवार किया. ईरानी जनरल आमिर अली हाजिजादेह ने कहा कि ईरानी सेना ने मिसाइल हमला करने के साथ ही इराक में अमेरिका सेना की निगरानी सेवा पर भी साइबर हमला किया.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें