scorecardresearch
 

China-Taiwan Crisis: चीन की विशाल सेना और डराने वाले दांवपेच के सामने कैसे डटकर टिका है ताइवान?

China-Taiwan Tension: चीन ने कहा है कि वह अभी अपना युद्धाभ्यास जारी रखेगा. कहीं चीन युद्धाभ्यास के बहाने ताइवान को चारों तरफ से घेरकर युद्ध का ऐलान तो नहीं करने वाला है. वह लगातार अपने युद्धपोतों, फाइटर जेट्स, ड्रोन्स की संख्या बढ़ा रहा है. ऐसे में विशाल चीनी सेना और डराने वाले दांवपेच के सामने 2659 गुना छोटा ताइवान कैसे डटकर टिका है?

X
ताइवान का जंगी जहाज राजधानी ताइपे के पास तटीय इलाके में तैनात है. (फोटोः गेटी)
ताइवान का जंगी जहाज राजधानी ताइपे के पास तटीय इलाके में तैनात है. (फोटोः गेटी)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • चीन दुनिया भर में फैला रहा है झूठ
  • ताइवानी रक्षा मंत्रालय ने दिया जवाब

चीन ने कहा है कि वह अभी ताइवान के चारों तरफ अपना युद्धाभ्यास जारी रखेगा. इसका मतलब ये है कि चीन अपने युद्धपोतों, फाइटर जेट्स और ड्रोन्स की संख्या बढ़ाकर ताइवान को चारों तरफ से मजबूती से घेरने की तैयारी कर रहा है. अब यह आशंका बन रही है कि कहीं चीन ताइवान को चारों तरफ से घेरकर युद्ध जैसा कोई नकारात्मक कदम न उठा ले. सवाल ये उठ रहा है कि ताइवान इतनी बड़ी सेना और खतरनाक दांवपेच के सामने कैसे टिका है. 

ये ताइवान का वह इलाका जिसके पास चीन ने मिसाइलें दागी थीं. (फोटोः एपी)
ये ताइवान का वह इलाका जिसके पास चीन ने मिसाइलें दागी थीं. (फोटोः एपी)

चीन की सेना का युद्धाभ्यास अभी जारी रहेगा

चीन अभी युद्धाभ्यास जारी रखेगा, यह खबर समाचार एजेंसी एएफपी ने ब्रेक की है. लेकिन चीन कितने ताकत का प्रदर्शन कर रहा है, उसे लेकर कई तरह के संदेह पैदा हो रहे हैं. असल में हो ये रहा है कि चीन ताइवान के चारों तरफ युद्धाभ्यास करने के साथ-साथ अंतरराष्ट्रीय स्तर पर झूठ फैला रहा है. झूठी जानकारियां दे रहा है. अपनी चीजों को बढ़ा-चढ़ाकर बता रहा है. ताकत का दिखावा करने के लिए नए-नए प्रोपेगैंडा फैला रहा है. इस बात की पुष्टि ताइवान के रक्षा मंत्रालय ने भी की है. आइए जानते हैं कि रक्षा मंत्रालय ने क्या-क्या कहा?

ताइवान ने कहा- चीन ने घुसपैठ की कोशिश नहीं की

ताइवानी रक्षा मंत्रालय ने कहा है कि चीन का यह दावा कि चीनी नौसेना का विध्वंसक नानजिंग हुआलियेन के होपिंग पावर प्लांट से 11.78 किलोमीटर दूर खड़ा है. ये गलत है. वहां कोई युद्धपोत नहीं है. चीनी नौसेना के किसी युद्धपोत ने हमारी सीमा में 4 अगस्त के बाद से चीनी युद्धाभ्यास के दौरान घुसपैठ करने की कोशिश नहीं की है. 

चीनी फाइटर जेट्स को जवाब देने के लिए ताइवानी एयर फोर्स का एफ-16 फाल्कन फाइटर. (फोटोः गेटी)
चीनी फाइटर जेट्स को जवाब देने के लिए ताइवानी एयर फोर्स का एफ-16 फाल्कन फाइटर. (फोटोः गेटी)

ताइवान पर चीन ने किए 272 बार साइबर अटैक

ताइवान के रक्षा मंत्रालय ने यह भी कहा कि चीन ने 272 बार साइबर हमले जरूर किए हैं. लेकिन ये हमले गलत सूचना फैलाने के मकसद से किए गए थे. जिन्हें समय रहते नियंत्रित कर लिया गया. जब रक्षा मंत्रालय से यह पूछा गया कि आप चीन की फायरिंग, मिसाइल लॉन्चिंग का जवाब कैसे दे रहे हैं, तब रक्षा मंत्रालय के अधिकारियों ने इस पर चुप्पी साध ली. लेकिन यह कहा कि वे चीन की हर हरकत पर नजर रख रहे हैं. खतरे के मुताबिक सही प्रतिक्रिया दी जाती है.  

अमेरिका के साथ रक्षा समझौते पर ताइवान ने साधी चुप्पी

चीन के खिलाफ अमेरिका के साथ ताइवान का कोई रक्षा समझौता हुआ है क्या? इस पर चीन के रक्षा मंत्रालय के अधिकारियों ने कहा कि ये मामला बेहद गोपनीय है. हम ऐसी जानकारियां किसी के साथ बांट नहीं सकते. कम से कम लोगों के बीच तो नहीं. लेकिन ये बात सही है कि चीन के युद्धाभ्यास के चलते ताइवान की सेना की भी ट्रेनिंग हो रही है. ताइवानी सेना को किस स्थिति में कैसे प्रतिक्रिया देनी है, उसकी पूरी प्रैक्टिस हो रही है. हम चीन के युद्धाभ्यास का जवाब अपने मिलिट्री ड्रिल और प्रतिक्रियात्मक रवैये से देंगे. 

24 घंटे पहले तक ताइवान के चारों तरफ ऐसी थी स्थिति

रक्षा मंत्रालय ने बताया कि 7 अगस्त 2022 की शाम 5 बजे तक चीन के 14 जंगी जहाज और 66 एयरक्राफ्ट ने ताइवान को चारों तरफ से घेर रखा था. लेकिन किसी ने भी हमारी सीमा में घुसपैठ करने की कोशिश नहीं की है. हम अपने युद्धपोतों, फाइटर जेट्स और मिसाइल सिस्टम से इसका सटीक जवाब दे रहे हैं. 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें