scorecardresearch
 

स्पेशल रिपोर्ट

सियासी बवाल के बीच राहुल गांधी का दिल्ली से लखीमपुर का सफर, देखें टाइमलाइन

06 अक्टूबर 2021

लखीमपुर खीरी में चार किसानों समेत आठ लोगों की मौत के बाद का विवाद अबतक शांत नहीं हुआ है. लखनऊ एयरपोर्ट पर धरने के बाद आखिरकार राहुल गांधी को वहां से बाहर निकलने दिया गया है. एयरपोर्ट पर राहुल अपनी गाड़ी से जाएंगे या प्रशासन की गाड़ियों से इस पर विवाद हुआ था. अब राहुल गांधी और प्रियंका गांधी सीतापुर से लखीमपुर खीरी के लिए रवाना हुए और लखीमपुर में मृतक किसानों के परिवार से मिलने पहुंच चुके हैं. देखें राहुल गांधी के दिल्ली से लखीमपुर के सफर की पूरी टाइमलाइन.

न्यायिक जांच से राहुल गांधी के दौरे तक, देखें लखीमपुर कांड पर स्पेशल रिपोर्ट

05 अक्टूबर 2021

लखीमपुर कांड के कई नए वीडियो सामने आए हैं. इन वीडियो से पता चलेगा कि लखीमपुर में आठ लोगों की मृत्यु के पीछे की कहानी क्या है, आज पूरे दिन दो वीडियो की चर्चा होती रही, पहला वीडियो किसानों पर गाड़ी चढ़ने का और दूसरा वीडियो किसानों को कुचलने वाली गाड़ी से भागता हुआ दिखाई दे रहा शख्स. वहीं, उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी में हुई हिंसा की जांच के लिए एसआईटी का गठन किया गया है. 6 सदस्यीय एसआईटी लखीमपुर कांड की जांच करेगी. किसानों को कुचलने वाली कार में सवार शख्स की आजतक से बातचीत हुई, आपको बता दें कि जीप से भागते हुए विजुअल बीजेपी नेता सुमित जायसवाल का है, आज तक से बातचीत में सुमित ने क्या कहा सुनिए.

7 अक्टूबर तक रिमांड पर भेजे गए आर्यन खान, अब कौन से राज आएंगे सामने?

04 अक्टूबर 2021

बॉलीवुड के किंग खान बहुत बड़ी मुश्किल में फंस गए हैं, क्योंकि उनका बेटा आर्यन खान ड्रग्स पार्टी के चक्कर में कानून के शिकंजे में है. आर्यन खान पर NDPC की तमाम धाराएं लगाई गई हैं. कोर्ट में हुई सुनवाई में भी शाहरुख को राहत नहीं बड़ा झटका लगा है. मुंबई की किला कोर्ट में एनसीबी ने 11 अक्टूबर तक की रिमांड मांगी थी और कोर्ट ने आर्यन खान और उसके साथ गिरफ्तार अरबाज और मुनमुन को सात अक्टूबर तक की रिमांड में भेज दिया है. यानी सात अक्टूबर तक एनसीबी शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान से पूछताछ करेगी. सवाल यही है कि आखिर वो कौन सा राज है, जिसे एनसीबी आर्यन खान से उगलवाना चाहती है. देखें स्पेशल रिपोर्ट.

एक दिन की कस्टडी में रहेंगे आर्यन खान, एनसीबी ऑफिस में गुजारेंगे रात

03 अक्टूबर 2021

शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान और बाकी दो आरोपियों को एक दिन की कस्टडी में भेज दिया गया है. एक दिन के लिए एनसीबी की कस्टडी में तीनों आरोपी रहेंगे. बताया जा रहा है कि एनसीबी के ऑफिस में आर्यन खान, अरबाज मर्चेंट और मुनमुन धमेचा को रातभर रखा जाएगा. सभी आरोपी एनसीबी दफ्तर पहुंच चुके हैं, जहां उनसे एक बार फिर पूछताछ की जाएगी. वहीं आर्यन के लिए उनके वकील सतीश मानेशिंदे ने जमानत की याचिका दायर करने वाले हैं. अरबाज मर्चेंट और मुनमुन धमेचा के वकील भी दोनों की जमानत की याचिका दायर की तैयारी कर रहे हैं. देखिए ये एपिसोड.

धान की खरीद पर केंद्र Vs किसान! स्पेशल रिपोर्ट में समझें क्या है पूरा मामला

01 अक्टूबर 2021

एक बार फिर MSP पर धान की खरीद को लेकर केंद्र सरकार और पंजाब-हरियाणा के किसान आमने सामने हैं. किसानों का ये विरोध और ये आक्रोश, केंद्र सरकार के उस ऑर्डर के खिलाफ है जिसमें धान की सरकारी खरीद की तारीख को अचानक बढ़ा दिया गया. दरअसल एक अक्टूबर से होने वाली धान की सरकारी खरीद को केंद्र सरकार ने दस दिनों के लिए टाल दिया है. अब किसान पूछ रहे है कि मंडियों तक पहुंच चुकी फसल का अब क्या होगा? ऐसे में एक तरफ किसान प्रदर्शन कर रहे हैं, तो दूसरी तरफ सियासत भी तेज हो गई है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मिलने पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी दिल्ली पहुंचे, किसानों ने हरियाणा के डिप्टी सीएम को घेरा तो वहीं अकाली दल ने केंद्र सरकार और कांग्रेस को किसानों के मुद्दे पर घेरा. ज्यादा जानकारी के लिए देखें स्पेशल रिपोर्ट.

कैप्टन अमरिंदर के कांग्रेस छोड़ने के क्या हैं मायने? देखें स्पेशल रिपोर्ट

30 सितंबर 2021

आज कैप्टन अमरिंदर सिंह ने एलान किया है कि बीजेपी नहीं ज्वाइन करने जा रहा है. लेकिन ऐलान से पहले जो तस्वीरें सामने आईं, दिल्ली दौरे के दौरन कैप्टन अमरिंद सिंह की मीटिंग की जो डिटेल सामने आई, उससे संकेत यही मिला कि कैप्टन और बीजेपी के बीच कोई सियासी खिचड़ी पक रही है. अगर गृहमंत्री अमित शाह और अमरिंदर सिंह के बीच कोई सियासी डील नहीं हुई तो मुलाकात की वजह क्या थी? कांग्रेस में क्राइसेस और पंजाब के सियासी ड्रामे की पूरी स्क्रिप्ट समझने के लिए आज आपको कैप्टन अमरिंदर सिंह की दिल्ली में हुई दो बड़ी मुलाकात को डिकोड करना होगा. देखें स्पेशल रिपोर्ट.

क्या है सिद्धू के इस्तीफे की इनसाइड स्टोरी ? देखें स्पेशल रिपोर्ट

29 सितंबर 2021

आज पंजाब में बदलते सियासी समीकरणों पर सबकी नजर हैं, किसी को नहीं पता कि अगले पल क्या होने वाला है. सिद्धू इस्तीफा वापस लेंगे या फिर इस्तीफा मंजूर हो जाएगा? आखिर सिद्धू के इस्तीफे की इनसाइड स्टोरी क्या है? कांग्रेस की महाभारत में इतने ट्विस्ट एंड टर्न आ चुके हैं कि पॉलिटिकल पंडितों को भी माथापच्ची करनी पड़ रही है. सिद्धू ने पहले तो कैप्टन अमरिंदर से बगावत कर उन्हें कुर्सी से हटवा दिया. फिर खुद प्रदेश अध्यक्ष के ओहदे से इस्तीफा देकर कांग्रेस आलाकमान को धर्मसंकट में डाल दिया. सवाल बड़ा है क्योंकि इस्तीफा देने के बाद सिद्धू हथियार डालने को तैयार नहीं और आलाकमान कह रहा है कि कोई इस्तीफा अब तक मिला नहीं. ज्यादा जानकारी के लिए देखें स्पेशल रिपोर्ट.

क्या कांग्रेस को सत्ता की पावर दिलाएंगे कन्हैया और जिग्नेश? देखें स्पेशल रिपोर्ट

28 सितंबर 2021

शहीद-ए-आजम भगत सिंह की जयंती के मौके पर कन्हैया कुमार और जिग्नेश मेवाणी को कांग्रेस ने अपने साथ जोड़ा है. पहले तो इन दोनों नेताओं के साथ राहुल गांधी ने मीटिंग की, और उसके बाद पार्टी ज्वाइन करवाई. कन्हैया कुमार ने जैसे ही कांग्रेस का अंगवस्त्र पहना, वो मोदी सरकार पर बरस पड़े, कन्हैया तो कन्हैया जिग्नेश ने भी प्रधानमंत्री मोदी पर सीधा हमला बोला। यहीं से इन दोनों नेताओं की नीति और राजनीति समझ में आ गई. कन्हैया कुमार ने कांग्रेस से जुड़ने का मतलब बताया, तो जिग्नेश ने विपक्ष को मज़बूत बनाने का फॉर्मूला सुझाया. एक तरफ कन्हैया कुमार ने मोदी सरकार पर तोप तानी हुई थी, दूसरी तरफ जिग्नेश मेवाणी ने भी सरकार पर तगड़ा प्रहार कर डाला. देखें स्पेशल रिपोर्ट.

किसानों का भारत बंद कितना हिट, कितना फ्लॉप? देखें स्पेशल रिपोर्ट

27 सितंबर 2021

किसानों के भारत बंद के दौरान सड़कों पर रेंगती गाड़ियां की तस्वीरें तो कई आईं. लेकिन आम लोगों की इस मुसीबत के बीच असल सवाल वहीं का वहीं हैं- कैसे किसानों और सरकार के बीच शांत होगी ये तकरार? सरकार अपील कर रही है कि किसी तरह किसान मान जाएं और आंदोलन को छोड़ बातचीत का रास्ता अपनाए. लेकिन किसान को अब इन अपीलों पर ऐतबार नहीं और आर-पार से कम पर किसान नेता तैयार नहीं. देश के अलग-अलग हिस्से से किसानों के भारत बंद की तस्वीरें आईं, तमाम शहरों में विरोध के सुर भी सनाई दिए. आज स्पेशल रिपोर्ट में बात करेंगे किसान आंदोलन पर हो रही राजनीति पर.

क्या पाकिस्तान और क्या चीन, UN के मंच से पीएम मोदी ने सुनाई खरी-खरी

25 सितंबर 2021

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अब से थोड़ी देर पहले UN के मंच से पाकिस्तान का नाम लिए बगैर उस पर जोरदार हमला बोला. प्रधानमंत्री ने आतंकवाद पर कड़ा प्रहार करते हुए कहा कि जो देश आतंकवाद का राजनीतिक उपकरण के रूप में इस्तेमाल कर रहे हैं उन्हें समझना होगा कि उनके लिए भी आतंकवाद उतना ही बड़ा खतरा है. प्रधानमंत्री ने दुनिया को अफगानिस्तान को लेकर भी चेताया. पाकिस्तान के अलावा प्रधानमंत्री ने चीन को भी UN के मंच से खरी-खरी सुनाई. बिना चीन का नाम लिए प्रधानमंत्री ने कहा कि समंदर की विरासत को यूज करना है एब्यूज नहीं. कहने की जरूरत नहीं है कि निशाना सीधा चीन की तरफ था. देखिए स्पेशल रिपोर्ट का ये एपिसोड.

वैक्सीन, जलवायु परिवर्तन, आतंकवाद पर मोदी-बाइडेन की बात

24 सितंबर 2021

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की इस बार की विदेश यात्रा ऐतिहासिक है. क्योंकि इस बार प्रधानमंत्री मोदी और अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन की आमने-सामने पहली बार मुलाकात हो रही है. और दुनिया में इस वक्त कई बदलाव देखने को मिले हैं. इंटरनेशनल मुद्दे कई सारे हैं, ऐसे में दुनिया को इस मुलाकात का बेसब्री से इंतज़ार है. कोरोना वैक्सीन, रक्षा मामले, जलवायु परिवर्तन, अफगानिस्तान, आतंकवाद, इंटेलिजेंस क्षेत्र में सहयोग बढ़ाने पर बातचीत संभव है. दोनों देशों में संबंध और मजबूत करने पर चर्चा होगी. देखें वीडियो.

भारत के लिए क्या हैं मोदी के अमेरिका दौरे के मायने? देखें स्पेशल रिपोर्ट

23 सितंबर 2021

आज पूरी दुनिया की नजरें सबसे बड़ी मुलाकात पर टिकी हुई है, ये मुलाकात दुनिया के सबसे शक्तिशाली इंसान यानी अमेरिकी राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बीच होगी. व्हाइट हाउस में मेजबानी की पूरी तैयारियां पूरी हो चुकी है. प्रधानमंत्री मोदी ने दुनिया की टॉप कंपनीज के सीईओ से बात की और वो अमेरिका की उप-राष्ट्रपति कमला हैरिश से भी मुलाकात करेंगे. आखिर इस दौरे से भारत को क्या फायदा होगा, भारत के दुश्मनों को क्या नुकसान होगा. मोदी जब बाइडेन से वन टू वन बात करेंगे जो कौन से मुद्दों पर बात होगी. देखें स्पेशल रिपोर्ट.

धर्म के नाम पर धर्मांतरण का धंधा? देखें क्या है मौलाना कलीम सिद्दीकी का सच

22 सितंबर 2021

धर्म एक ऐसा शब्द है जो लोगों के विश्वास से जुड़ा हुआ है, समाज के सौहार्द से जुड़ा हुआ है, इतिहास से जुड़ा हुआ है. बड़े-बड़े आंदोलनों को खड़ा करने के लिए धर्म का इस्तेमाल किया गया है. दुनियाभर में अपने-अपने धर्म को लेकर लोग बहुत संवेदनशील रहते हैं. आज उसी धर्म के नाम पर हुए अधर्म का खुलासा उत्तर प्रदेश में हुआ है. एक धर्मगुरु, जिसका काम नैतिक दायित्वों का प्रचार और प्रसार करना था, वही अनैतिक सोच के कृत्य में लिप्त हो गया. आज हम उसी मौलाना कलीम सिद्दीकी पर लगे आरोपों की पड़ताल करेंगे और मौलाना का सनसनीखेज टेप सुनवाएंगे. देखें

कौन है आनंद गिरि, जो कर रहा था नरेंद्र गिरि को ब्लैकमेल!

21 सितंबर 2021

अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष नरेंद्र गिरि की मौत मामला लगातार उलझता ही जा रहा है. महंत नरेंद्र गिरि के अंतिम संस्कार की तैयारियां की जा रही हैं, उधर महंत नरेंद्र गिरि के सुसाइड नोट से हड़कंप मच गया है. 23 सितंबर को महंत नरेंद्र गिरि को बाघंबरी मठ में ही भू समाधि दी जाएगी. लेकिन नरेंद्र गिरि के सुसाइड नोट में जो सच बाहर आया है, वो बेहद ही चौंकाने वाला है. सुसाइड नोट में नरेंद्र गिरि ने आनंद गिरि, आद्या प्रसाद तिवारी और उनके बेटे संदीप तिवारी का तीन बार जिक्र किया और पूरे होश में उन्हें अपनी आत्महत्या के लिए जिम्मेदार ठहराया है. सुसाइड नोट में ये भी लिखा है कि एक महिला से जोड़कर उनका वीडियो वायरल करने की धमकी दी जा रही थी. अब सवाल ये भी खड़ा हो गया है कि आखिर वो महिला कौन है? देखें स्पेशल रिपोर्ट.

महंत नरेंद्र गिरी की रहस्यमयी मौत, साज‍िश को लेकर गहराया शक, देखें

20 सितंबर 2021

अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरी की प्रयागराज में मौत हो गई. उनका शव का बाघम्बरी मठ में एक कमरे में फंदे से लटका हुआ था. पुलिस घटनास्थल पर पहुंच गई है और जांच कर रही है. बता दें कि महंत नरेंद्र गिरी संगम तट पर स्थित लेटे हनुमान मंदिर के महंत थे. कुछ दिन पहले उनका अपने शिष्य आनंद गिरि के बीच विवाद हुआ था. आनंद गिरि को अखाड़ा परिषद और मठ बाघम्बरी गद्दी के पदाधिकारी के पद से हटा दिया गया था. इस दौरान दोनों ने एक-दूसरे पर आरोप-प्रत्यारोप भी किए थे. बाद में इसी साल मई में दोनों के बीच सुलह हो गई थी. आनंद गिरी ने अपने गुरु नरेंद्र गिरी का पैर पकड़कर मांगी थी. इसके बाद नरेंद्र गिरी ने आनंद गिरी को माफ कर दिया था. पुलिस घटनास्थल पर पहुंच गई है और जांच कर रही है. इसके लिए एक स्पेशल टीम बनाई जा रही है और फॉरेंसिक टीम के साथ पूरी जांच की जाएगी. देखें स्पेशल रिपोर्ट का ये एपिसोड.

स्पेशल रिपोर्ट: किसानों के समर्थन के पीछे क्या है सियासत?

17 सितंबर 2021

करीब 10 महीने से दिल्ली बॉर्डर पर किसान बैठे हुए हैं. आज उन्हीं किसानों की मांग को लेकर दिल्ली में विरोध-प्रदर्शन हुआ. अकाली दल के समर्थकों ने तीनों कृषि कानूनों पर केंद्र सरकार के खिलाफ हल्ला बोला. कई घंटों तक सड़क पर हाईवोल्टेड ड्रामा चलता रहा. कृषि कानून के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे लोगों की पुलिस के हाथ धक्का मुक्की तक हुई. प्रदर्शनकारी संसद तक मार्च निकालने चाहते थे. लेकिन उन्हें ऐसा करने से रोक दिया गया. आज दिल्ली में जो तस्वीरें सामने आई, उसे लेकर कई सवाल भी उठ रहे हैं. क्या नेताओं की निगाहें कहीं और है और निशाना कुछ और है? देखें स्पेशल रिपोर्ट.

लापता बरादर के लेटेस्ट वीडियो में क्या है? देखें स्पेशल रिपोर्ट

16 सितंबर 2021

मुल्ला बरादर के मारे जाने की अटकलों के बीच अफगानिस्तान की सरकारी टीवी पर बरादर का एक इंटरव्यू प्रसारित किया गया, जिसके जरिये ये दिखाने की कोशिश हुई है कि बरादर जिंदा है. लेकिन इस वीडियो पर भी कई सवाल उठ रहे हैं. अफगानिस्तान के टीवी चैनल आरटीए पर मुल्ला बरादर का इंटरव्यू प्रसारित हुआ है. दरअसल इस वीडियो क्लिप के जरिये कोशिश है मुल्ला बरादर से जुड़ी उन अटकलों को खत्म करने की, जो उसके जीवित ना होने को लेकर हैं. अटकलें तेज हैं कि हक्कानी नेटवर्क के साथ झड़प में या तो वो गंभीर रूप से जख्मी है या फिर मारा गया है. इस इंटरव्यू से पहले तालिबान की तरफ से मुल्ला बरादर का एक कथित ऑडियो संदेश जारी किया गया था जिसमें उसने खुद के सही सलामत होने का दावा किया था. लेकिन वीडियो क्लिप हो या ऑडियो, इससे अभी भी अटकलें खत्म नहीं हुई हैं. क्योंकि सवाल उठ रहा है कि अगर बरादर वाकई जिंदा है तो सामने क्यों नहीं आता?

आतंकी ओसामा के कबूलनामे ने खोले डी-कंपनी के सारे धागे, देखें स्पेशल रिपोर्ट

15 सितंबर 2021

आज स्पेशल रिपोर्ट में बात ओसामा के कबूलनामे की करेंगे. वही कबूलनामा जो पाकिस्तानी फौज के मुखिया बाजवा और उनके दुलारे और प्यारे दाऊद इब्राहिम के नए गुनाहों की चार्जशीट है. आज पाकिस्तान में रची गई आतंकी साजिश का एक-एक राज खुल चुका है, ओसामा के कबूलनामे में पाकिस्तान में चल रहे आतंकी के ट्रेनिंग कैंपों की पूरी डिटेल हैं. आतंकी कैप को चलाने वाले पाकिस्तानी आर्मी के टॉप अफसरों के नाम हैं. हमारे पास दिल्ली पुलिस के स्पेशल सेल के टॉप सोर्सेज से ओसामा के कबूलनामे की पूरी डिटेल है. इस रिपोर्ट में हम उस डिटेल के बारे में आपको बताएंगे, क्योंकि ओसामा के एक-एक शब्द पाकिस्तान के पाप की पूरी गाथा है. देखिए स्पेशल रिपोर्ट का ये एपिसोड.

दिल्ली में बड़े आतंकी मॉड्यूल का पर्दाफाश, जांच एजेंसियों ने 6 को दबोचा, देखें स्पेशल रिपोर्ट

14 सितंबर 2021

दिल्ली में पाकिस्तान की बड़ी साजिश का खुलासा करते हुए एजेंसी ने 6 लोगों को गिरफ्तार किया है. जानकारी के मुताबिक इस पाकिस्तानी आतंकी मॉड्यूल के लिए काम करने वाले 6 लोगों में से दो ने पाकिस्तान में ट्रेनिंग हासिल की थी. जांच एजेंसियों ने पाकिस्तान द्वारा पोषित एक आतंकी मॉड्यूल का भंडाफोड़ किया है. इस मामले में जांच एजेंसियों ने 6 लोगों को गिरफ़्तार किया है. पकड़े गए संदिग्ध भारत में इस आतंकी मॉड्यूल को ऑपरेट कर रहे थे. इन सभी से लगातार पूछताछ की जा रही है. एजेंसी का दावा है कि पकड़े गए इन संदिग्ध आतंकियों के पास से बड़ी मात्रा में हथियार और विस्फोटक बरामद हुए हैं. देखिए स्पेशल रिपोर्ट का ये एपिसोड.

योगी के 'अब्बाजान' वाले बयान पर क्यूं मचा है सियासी तूफान, देखिए स्पेशल रिपोर्ट

13 सितंबर 2021

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का एक बयान आज दिन भर चर्चा में रहा. सियासी गलियारे से लेकर सोशल मीडिया पर बयान के पक्ष और विपक्ष में बहस चलती रही. विपक्ष का सीधा आरोप है कि योगी आदित्यनाथ चुनाव से पहले हिंदू और मुसलमान करने के लिए अब्बाजान वाला बयान दे रहे हैं. उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में एक जनसभा को संबोधित करते हुए रविवार को मुख्यमंत्री आदित्यनाथ ने तुष्टीकरण बनाम विकास का मतलब समझाया. तो क्या विकासवाद के बहाने योगी ने अखिलेश पर हमला बोलने के लिए अब्बाजान शब्द का प्रयोग करके एक तीर से दो निशाने लगाए हैं. स्पेशल रिपोर्ट के इस एपिसोड में योगी के बयान पर सियासी तूफान की पूरी कहानी समझिए.

3 दिन के दौरे में 2 FIR, देखें ओवैसी पर UP के मुस्लिमों की क्या है रणनीति

11 सितंबर 2021

यूपी के चुनावों में छह महीने बाकी हैं लेकिन एक दूसरे के वोटों को कन्नी से काटने के लिए इस हफ्ते उत्तर प्रदेश की राजनीति में एक पतंग बहुत तेजी से उड़ रही है. जिसके मांझे में धर्म के नाम पर वोट के लिए उबाल लाने वाली तेजी है. वो पतंग जिसकी चरखी में मुस्लिमों का हितैषी खुद को घोषित करने के दावों की लंबी सद्दी लिपटी हुई है. ये पतंग AIMIM की और ये सियासत है ओवैसी वाली. एक मुस्लिम बाहुबली परिवार से हाथ मिलाकर दूसरे मुस्लिम बाहुबली को न्योता देकर और अपने भड़काऊ बयानों के कारण मुकदमा सिर पर लेकर यूपी से असदुद्दीन औवैसी अभी तीन दिन का दौरा करके लौटे हैं. तो ओवैसी वाली ये सियासत यूपी में किस मोड़ पर वोटों को ले जाएगी? वोट कटेंगे, वोट बंटेंगे या फिर ओवैसी की राजनीति का हश्र बंगाल वाला होगा? देखें स्पेशल रिपोर्ट.