scorecardresearch
 

मैं भाग्य हूं: परिश्रम से मिलती है सफलता

मैं भाग्य हूं, आपका भाग्य जो आपको भाग्य के भरोसे नहीं बल्कि कर्म के भरोसे रहने की राह दिखाता है, लेकिन मेरे लाख समझाने के बावजूद भी सफलता और असफलता को किस्मत का खेल मानने वाले लोग बहुत हैं. भाग्य के भरोसे बैठने से कुछ हासिल नहीं होने वाला, यह बात जानते हुए भी लोग लकीर के फकीर बने बैठे रहते हैं. सफलता या असफलता उसे ही मिलती है जो उठकर योजना बनाकर चलने की कोशिश करता है. भाग्य के भरोसे बैठकर सफलता की बांट देखने वालों को कुछ नहीं मिलता. देखें- ये पूरा वीडियो.

Life is beautiful and it can be much more beautiful if we work to fulfil our dreams. Some people do not want to work and wait for their Luck. People should understand that they can only be happy and successful if they work hard. Today in our special programme Mai Bhagya Hoon, we will tell you the story of a man who does not want to work and wait for others. Watch this video.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें