scorecardresearch
 

देश तक

बीजेपी की महिला मंत्री का अपमान क्यों कर बैठे कमलनाथ?

19 अक्टूबर 2020

एक बयान से सियासत में घमासान मच जाता है. बात अगर महिला के सम्मान से जुड़ी हो तो सियासी रण बड़ा भीषण होता है. मध्यप्रदेश में इन दिनों यही हो रहा है. पूर्व सीएम कमलनाथ ने एमपी की कैबिनेट मंत्री को लेकर एक विवादित बयान दिया, मामले ने तूल पकड़ा तो कमलनाथ माफी मांगने की बजाय इस बात पर अड़ गए हैं कि जो कहा सही कहा. कमलनाथ और इमरती देवी भले ही आमने सामने न हों लेकिन दोनों के बीच तकरार जमकर हो रही है. कमलनाथ मानने को ही तैयार नहीं कि उन्होंने कुछ गलत बोला तो इमरती देवी सीधे गांधी परिवार से कार्रवाई की गुहार लगा रही हैं. देखिए खास शो, रोहित सरदाना के साथ.

देश तक: गोलीमार धीरेंद्र सिंह गिरफ्तार, न्याय मिलेगा सरकार?

18 अक्टूबर 2020

बलिया गोलीकांड का मुख्य आरोपी धीरेंद्र सिंह आज लखनऊ से गिरफ्तार हो गया. वारदात के चौथे दिन बलिया से करीब 400 किलोमीटर दूर उसकी गिरफ्तारी हुई. माना जा रहा है कि अपने सियासी कनेक्शन के चलते वो सरेंडर करने की तैयारी में है. लेकिन फिलहाल तो उसके सारे कनेक्शन ढीले पड़ते दिख रहे हैं. देखिए देश तक.

महाराष्ट्र सरकार से पंगा लेकर फंस गईं कंगना?

17 अक्टूबर 2020

कंगना रनौत के खिलाफ बांद्रा पुलिस स्टेशन में एफआईआर दर्ज की गई है. कंगना पर आरोप है कि उन्होंने अपने ट्वीट और इंटरव्यू के जरिए साम्प्रदायिक नफरत फैलाने की कोशिश की है. साथ ही उद्धव ठाकरे को बदनाम करने का भी आरोप है. कोर्ट के आदेश के बाद कंगना के खिलाफ ये एफआईआर दर्ज की गई है. महाराष्ट्र सरकार के खिलाफ विरोध का नगाड़ा बजा देने वाली कंगना रनौत की मुश्किलें बढ़ सकती हैं, क्योंकि कंगना रनौत के खिलाफ मुंबई की बांद्रा कोर्ट के आदेश के बाद एफआईआर दर्ज हो गई है. कंगना पर आरोप लगाया गया है कि वो अपने ट्वीट और इंटरव्यू के जरिए सांप्रदायिक नफरत फैलाने की कोशिश कर रही हैं. देखिए खास कार्यक्रम, रोहित सरदाना के साथ.

देश तक: बलिया गोलीकांड का मुख्य आरोपी अब तक फरार, 7 आरोपी गिरफ्तार

16 अक्टूबर 2020

यूपी के बलिया में जो गुनाह हुआ, उसने सूबे में सुरक्षा के सारे दावों की धज्जियां उड़ा दी. पुलिस वालों के सामने, एसडीएम के सामने, सीओ के सामने, सैकड़ों लोगों की मौजूदगी में एक शख्स ने तांडव मचा दिया. 25 से ज्यादा राउंड गोलियां चलाईं. एक शख्स को मार डाला और ये सब हुआ अधिकारियों की मौजूदगी में. ठांय-ठांय की आवाज निकालकर बदमाशों को पस्त कर देने वाली यूपी की पुलिस की बकार नहीं फूटी, काठ मार गया फायरिंग करते आदमी को देखकर. देखें वीडियो.

भारत के खिलाफ प्रोपेगेंडा वार में क्यों उलझा है चीन? देखें देश तक

15 अक्टूबर 2020

आखिर चीन गीदड़भभकी का भोंपू क्यों बजा रहा है? क्यों चीन भारत को बार बार उकसाने की साजिश कर रहा है? वजह एक नहीं कई है क्योंकि चीन चौतरफा घिरता जा रहा है. ना सिर्फ भारत बल्कि अब तो ताइवान भी चीन को आंखे दिखा रहा है. भारत और चीन के रिश्ते यूं तो शुरु से अच्छे नहीं रहे हैं लेकिन पिछले छह महीने से संबंधों में तल्खी सबसे न्यूनतम स्तर पर जा पहुंची है. खासकर लद्दाख में LAC पर गलवान इलाके में झड़प के बाद. जब से गलवान में चीन को मुंह की खानी पड़ी है तब से चीन बौखलाया हुआ है. उसी के बाद से चीन भारत के खिलाफ प्रोपेगेंडा वार में उलझा हुआ है. चीन चाहता है कि उसकी लगातार गीदड़भभकी से हिंदुस्तान डर जाए, सहम जाए, जो नामुमकिन है. देखें वीडियो.

देश तक: असम में मदरसा बंदी का क्या है असली मकसद?

14 अक्टूबर 2020

असम में सरकारी मदरसों पर तालाबंदी की खबर से भूचाल आ गया है. असम के शिक्षा मंत्री ने कहा कि सरकारी पैसों से सिर्फ कुरान नहीं पढ़ा सकते. राज्य सरकार के इस फैसले के बाद विपक्ष टूट पड़ा है. सरकार पर संघ के एजेंडे को थोपने का आरोप लगा है. असम में सरकारी मदरसे के बंद होने का काउंटडाउन शुरु हो गया है. बस चंद दिनों बाद ताला लग जाएगा. राज्य के शिक्षा मंत्री हेमंत बिस्व सरमा ने हाथ खड़े कर दिये कि सरकारी खर्च पर धार्मिक पढ़ाई का भार वो नहीं उठा सकते. इसके लिए राज्य सरकार ने पूरा ब्लूप्रिंट तैयार कर रखा है. असम में सरकारी खर्चे पर चल रहे सभी मदरसों को सरकारी स्कूल में बदल दिया जाएगा. कुछ मामलों में शिक्षकों को सरकारी स्कूल में शिफ्ट किया जाएगा. इसके लिए नवंबर में नोटिफिकेशन निकाला जाएगा. असम में करीब 600 से ज्यादा ऐसे मदरसे हैं जो पूरी तरह से सरकार चलाती है. देखिए देशतक, रोहित सरदाना के साथ.

देश तक: महाराष्ट्र में मंदिर पर उद्धव बनाम राज्यपाल की जंग!

13 अक्टूबर 2020

महाराष्ट्र की सियासत में एक तूफान थमता नहीं कि दूसरा जोर मारने लगता है. कोरोना संकट के दौर में देशभर में एक के बाद करीब करीब सभी मंदिर खोले जा चुके हैं लेकिन महाराष्ट्र सरकार ने अभी तक ये इजाजत नहीं दी है. इसी मुद्दे को लेकर बीजेपी ने उद्धव सरकार पर हल्ला बोल दिया है कि जब बार खोल दिए गए तो कोरोना का बहाना मंदिरों पर क्यों लादा जा रहा है? मंदिर खोलने की जंग के बीच महाराष्ट्र में एक और जंग जारी है, वो है कोरोना से लड़ाई. कोरोना से वैसे तो पूरी दुनिया पूरा देश ही जूझ रहा है लेकिन हिंदुस्तान में महामारी का सबसे ज्यादा प्रकोप महाराष्ट्र में है, इसी का हवाला देकर धार्मिक स्थल अभी तक बंद रखे गए हैं. देखिए देशतक, रोहित सरदाना के साथ.

ऑपरेशन हाथरस: पीड़िता को तब पुलिस ने ऐसे दिया था रिस्पॉन्स

12 अक्टूबर 2020

हाथरस कांड अपनी घटना के चार हफ्ते बाद भी अपना जवाब, अपना इंसाफ मांग रहा है. अब जांच सीबीआई के हाथों में है. इस बीच इलाहाबाद हाईकोर्ट ने पीड़िता के परिवार को बुलाया और उनके सामने ही पुलिस को उनके एक्शन पर फटकार लगाई. आखिर 14 सितंबर को क्या थी पुलिस की भूमिका? हाथरस की पीड़िता के मामले में उस दिन पुलिस ने कैसे लापरवाही दिखाई? इस सच को हमारे अंडरकवर रिपोर्टरों ने बेनकाब किया है. हमारे इस सुपर एक्सक्लुसिव स्टिंग ऑपरेशन में हाथरस कांड में सस्पेंड हुए पुलिस इंस्पेक्टर दिनेश वर्मा बता रहे हैं कि लहूलुहान पीड़िता के मामले में कैसी घोर लापरवाही उन लोगों ने की. देखिए ऑपरेशन सत्य, हाथरस पर सबसे बड़ा खुलास, रोहित सरदाना के साथ.

साधुओं की जान के दुश्मन कौन, कब चेतेगी सरकार?

11 अक्टूबर 2020

पूछता है आजतक आखिर साधु संतों पर हमला कबतक. एक सप्ताह के भीतर ही देश में अलग अलग 3 जगहों पर साधुओं को निशाना बनाया गया है. आज यूपी के गोंडा में एक साधु को मंदिर में घुस कर गोली मार दी गई जबकि करौली में चंद दिनों पहले ही एक साधु को जमीन विवाद में जिंदा जला दिया गया. वहीं यूपी के बागपत में एक साधु का शव यमुना में मिला और माना जा रहा है कि साधु की संदिग्ध हालात में मौत हुई है. इन तमाम मामलों पर जबरदस्त सियासत हो रही है लेकिन सवाल है कि आखिर क्यों साधुओं को निशाना बनाया जा रहा है और क्यों इनकी हिफाजत में सरकारें नाकाम हैं?

करौली हत्याकांड: साधु-संतों पर कब तक होता रहेगा वार?

10 अक्टूबर 2020

राजस्थान के करौली में एक पुजारी की निर्मम हत्या के बाद पूरे देश में बहस छिड़ गई है कि क्या हिंदुस्तान में साधु-संत सुरक्षित नहीं हैं? सिर्फ करौली ही नहीं बल्कि उत्तर प्रदेश के बागपत में भी एक साधु का शव मिलने से सनसनी फैल गई है. बागपत में यमुना में साधु का शव मिला और माना जा रहा है कि उसकी मौत संदिग्ध हुई है. करौली में तो पुजारी को जिंदा जला दिया गया. सवाल है कि आखिर साधु संतों पर वार कबतक? देखिए खास शो, रोहित सरदाना के साथ.

देश तक: बंगाल की पुलिस ने लाठी पर लिखा लोकतंत्र!

09 अक्टूबर 2020

बिहार में भले ही चुनाव हो रहे हैं लेकिन सियासत पश्चिम बंगाल की गरमाई हुई है. ममता सरकार के खिलाफ बीजेपी ने मोर्चा खोल दिया है. बीजेपी ने मौन मार्च निकालकर राज्य सरकार को ललकारा. बीजेपी कार्यकर्ता की हत्या को लेकर बीजेपी ने कल नबन्ना मार्च निकाला था. जिसके बाद बंगाल की पुलिस ने BJP कार्यकर्ताओं को जमकर पीटा. जिसमें बीजेपी के कई कार्यकर्ता घायल हो गए. पुलिस के इसी रवैये के खिलाफ बीजेपी ने आज सड़कों पर मौन मार्च के जरिए अपने गुस्से का इजहार किया. आपको बता दें कि अगले साल पश्चिम बंगाल में विधानसभा के चुनाव होने हैं और वहां बीजेपी और टीएमसी के बीच लगातार टक्कर चल रही है. देखिए ये रिपोर्ट.