scorecardresearch
 

10 तक: कहीं नहीं हो रही नियुक्ति तो कहीं 3 साल बाद छीन ली नौकरी, देखें सरकारी सुस्ती का आलम

10 तक: कहीं नहीं हो रही नियुक्ति तो कहीं 3 साल बाद छीन ली नौकरी, देखें सरकारी सुस्ती का आलम

Centre for Monitoring Indian Economy के सर्वे के मुताबिक 25 जुलाई को खत्म हफ्ते तक देश में बेरोजगारी दर 7.14 फीसदी हो चुकी है. गांवों में बेरोजगरी दर अभी बढ़ी है. शहरों में पहले से आठ फीसदी बेरोजगारी है. इसकी बड़ी वजह बनती है खाली पदों को ना भरने वाली सरकारी सुस्ती. खामियाजा सिर्फ कुछ लोग नहीं बल्कि पूरा परिवार और एक बड़ी आबादी उठाती है. मध्य प्रदेश में 2018 साल पहले शिक्षक भर्ती परीक्षा का परिणाम आया था. लेकिन आज तीन साल बीत जाने पर इसकी नियुक्ति नहीं हुई. वहीं दूसरी ओर यूपी पावर कॉर्पोरेशन में 3 साल तक नौकरी करने के बाद बाद 600 से ज्यादा कर्मचारी दोबारा नौकरी खोजने के लिए निकाल दिए जाते हैं. देखें वीडियो.

According to the survey of the Center for Monitoring the Indian Economy unemployment rate in the country reached 7.14 percent. The main reason for this is the slowness of the government not filling the vacant posts. The result of the teacher recruitment exam was declared in Madhya Pradesh in 2018. But it's been 3 years since the statement government does not start the joining process. On the other hand, after 3 years job at UP Power Corporation, more than 600 employees are fired to find jobs again. Watch video.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें