scorecardresearch
 

सीएम आवास से निकलने का क्या है संदेश? देखें 10तक

सीएम आवास से निकलने का क्या है संदेश? देखें 10तक

जून के महीने में ही 56 साल पहले बाल ठाकरे ने शिवसेना की स्थापना की थी. जून का ही महीना है, जब शिवसेना के सामने अब तक की सबसे बड़ी बगावत की दहाड़ गूंज रही है. जिस शिवसेना और ठाकरे परिवार के आवास यानी मातोश्री से निकली एक आवाज के बाद मुंबई समेत महाराष्ट्र में चीजें ठप हो जाया करती थीं, वहां ठाकरे परिवार के सत्ता में होने के बावजूद शिवसेना के ज्यादातर विधायक नाक के नीचे से सूरत और फिर गुवाहाटी तक पहुंच गए. एकनाथ शिंदे की अगुवाई में क्या सिर्फ अपने ही विधायकों से उद्धव ठाकरे और उनकी पार्टी का संपर्क टूटा है? या फिर ठाकरे परिवार का ही अब पार्टी से संपर्क टूट चुका है? देखें 10तक.

In the month of June, 56 years ago, Shiv Sena was founded by Bal Thackeray. Now 56 years later in June, the party is going through the biggest rebellion ever. Amidst the ongoing political turmoil, the Thackeray family left CM's residence with big bags and reached Matoshree. watch 10Tak.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें