scorecardresearch
 

जिंदगी की भसड़: दिल्ली की लड़की की एक कविता

हम  रोये  बिलख  बिलख  के   मन  में  लेकर   आसपर  zindgi ki bhasad कोई  ना  कर  सका  पास

Bhasad bhasad all around
रगड़  दी  साली  जिंदगी  की  sound
कभी  ambition तो  कभी  esteem
बजा  दी  अपनी  individuality की  बीन
Package चाहिए  जॉब  में  मोटा
चाहे  skills-set कितना  हो  छोटा
बचपन  जाएगा , जवानी छाएगी
मां -बाप  की  डांट -फटकार  पीछे  ज़रूर आएगी
लाइफ में  क्या  चाहिए  कर  लिया  इरादा
सपनों  की  एक  लिस्ट  बना  ली  – न  कम  न  ज्यादा
Practical life ने  निकाल  दिया  सारा  juice
हम  कितने  लाचार  हैं  ये  हो  गया  महसूस
हम  रोये  बिलख  बिलख  के   मन  में  लेकर   आस
पर  zindgi ki bhasad कोई  ना  कर  सका  पास.

यह कविता दीपिका शर्मा ने लिखी है.


आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें