scorecardresearch
 

आइये लें स्वाइन फ्लू के टीके की जानकारी...

स्वाइन फ्लू जब 2009 में कहर बन कर बरपा था तब भारतीय बाजारों में इसका टीका अपलब्ध नहीं था लेकिन अब इसके टीके का इस्तेमाल सफलतम रूप में किया जा रहा है और इसकी मदद से वर्तमान में एच1एन1 फ्लू से बचाव संभव है. यदि हम थोडी सी सावधानी बरते तो इस बीमारी से बचा जा सकता है.

स्वाइन फ्लू स्वाइन फ्लू

स्वाइन फ्लू जब 2009 में कहर बन कर बरपा था तब भारतीय बाजारों में इसका टीका अपलब्ध नहीं था लेकिन अब इसके टीके का इस्तेमाल सफलतम रूप में किया जा रहा है और इसकी मदद से वर्तमान में एच1एन1 फ्लू से बचाव संभव है. यदि हम थोडी सी सावधानी बरते तो इस बीमारी से बचा जा सकता है.

किसी भी व्यक्ति को अगर स्वाइन फ्लू के लक्षण दिखते हैं तो वो घबराये नहीं क्योंकि अब स्वाइन फ्लू वैक्सीन मौजूद है.

स्वाइन फ्लू के टीका का नाम नैसोवैक है जिसे नाक के जरिए दिया जाता है. इस टीके की 0.5 मिली लीटर की एक बूंद किसी भी व्यक्ति को इस रोग से करीब दो साल तक दूर रखती है.

यह टीका तीन साल से अधिक के बच्चों और बड़े-बूढ़ों के लिए खास तौर पर उपयोगी है. हालांकि इसे गर्भवती महिला, छोटे बच्चे और कम प्रतिरोधक क्षमता वाले लोग भी ले सकते हैं. नैसोवैक भारतीय वैज्ञानिकों की देन है जिसका कोई साइड इफेक्ट नहीं है.

स्वाइन फ्लू से बचाव के लिए एक और वैक्सीन बनाई गई है. एचएनवैक ब्रांड नामक इस वैक्सीन को कड़े परीक्षण के बाद सुरक्षित और उपयोगी पाया गया है.

एक अन्य टीका वैक्सीफ्लू-एस पर अभी परीक्षण चल रहा है

स्वाइन फ्लू वैक्सीन में एक नाम वैक्सीफ्लू-एस (VaxiFlu-S) का भी है जो देसी है और H1N1 के लिए कारगर है. हालांकि इस टीके का इस्तेमाल 18 वर्ष से ऊपर के लोगों के लिए है लेकिन बच्चों के लिए अभी इसका गहन निरीक्षण जारी है.

मार्केट में एक सूई वाला टीका भी उपलब्ध है लेकिन यह अधिक कारगर नहीं है. इसे लेने से बचें.

स्वाइन फ्लू जैसी महामारी को जड़ से मिटाने के लिए और भी कई टीके ईजाद किए जा रहे हैं लेकिन अभी उनके आने में देर है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें