scorecardresearch
 

भारत में ई-सिगरेट पर लगा बैन, जानें सेहत के लिए कितनी खतरनाक

भारत कोई पहला ऐसा देश नहीं है, जहां ई-सिगरेट को बैन किया जा रहा है. अमेरिकी शहर सैन फ्रांसिस्को ई-सिगरेट पर प्रतिबंध लगाने वाला अमेरिका का पहला शहर बना था.

प्रतीकात्मक तस्वीर प्रतीकात्मक तस्वीर

भारत सरकार ने ई-सिगरेट पर बैन लगाने का फैसला किया है. वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में ई-सिगरेट (इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट) को बनाने और बेचने पर प्रतिबंध लगाने की बात कही है. बता दें कि भारत कोई पहला ऐसा देश नहीं है जहां ई-सिगरेट को बैन किया जा रहा है. अमेरिकी शहर सैन फ्रांसिस्को ई-सिगरेट पर प्रतिबंध लगाने वाला अमेरिका का पहला शहर बना था.

ई-सिगरेट को लेकर विवाद

ई-सिगरेट पर लंबे समय से विवाद चला आ रहा है. इसका सेवन करने वाले जहां इसे सुरक्षित बताते हैं, तो वहीं डॉक्टरों का कहना है कि अच्छी सेहत बनाए रखने के लिए व्यक्ति को इससे दूर रहना चाहिए. ई-सिगरेट के सेहत पर पड़ने वाले असर के चलते इसे कई देशों में पहले ही बैन किया जा चुका है.

तेजी से बढ़ा ई-सिगरेट का चलन

लोगों के बीच ई-सिगरेट पीने का चलन काफी तेजी से बढ़ रहा है. लोगों में ऐसी धारणा है कि ई-सिगरेट पीने से सेहत पर कोई नकारात्मक प्रभाव नहीं पड़ता है. इसी वजह से इसका सेवन करने वाले लोगों में बढ़ोतरी हो रही है. लेकिन हाल ही में हुई एक नई स्टडी के बाद चौंकाने वाले आंकड़े सामने आए. शोध के अनुसार ई-सिगरेट का सेवन करने से हार्ट अटैक का खतरा 56 प्रतिशत तक बढ़ जाता है.

ई-सिगरेट के खतरे-

लंबे समय तक ई सिगरेट का सेवन करना बहुत ज्यादा खतरनाक साबित हो सकता है. ई-सिगरेट से ब्लड क्लॉट की समस्या भी उत्पन्न हो सकती है. ई-सिगरेट में निकोटीन की मात्रा ज्यादा होती है और सिगरेट के समान इसमें से भी टॉक्सिक कंपाउंड निकलते हैं. ऐसा कहा जाता है कि निकोटीन के कारण हमारा ब्लड प्रेशर सामान्य से काफी ज्यादा बढ़ जाता है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें