scorecardresearch
 

Malala Yousafzai: कौन हैं असर मलिक? जिनसे नोबेल पुरस्कार विजेता मलाला युसुफजई ने रचाई शादी

मलाला ने मंगलवार को अपने एक ट्विटर पोस्ट में अपनी शादी की जानाकारी दी. इस खुशी में इंग्लैंड के बर्मिंघम शहर में एक छोटे से कार्यक्रम का भी आयोजन किया गया. मलाला पाकिस्तान की एक एजुकेशन एक्टिविस्ट हैं जिन्हें साल 2012 में तालिबान चरमपंथियों ने सिर मे गोली मार दी थी.

Malala Yousafzai: कौन हैं असर मलिक? जिससे नोबेल पुरस्कार विजाते मलाला युसुफजई ने रचाई शादी Malala Yousafzai: कौन हैं असर मलिक? जिससे नोबेल पुरस्कार विजाते मलाला युसुफजई ने रचाई शादी
स्टोरी हाइलाइट्स
  • मलाला पाकिस्तान की एक एजुकेशन एक्टिविस्ट हैं
  • 2012 में तालिबान चरमपंथियों ने मलाला के सिर मे गोली मार दी थी

24 साल की नोबेल शांति पुरस्कार विजेता मलाला युसुफजई शादी के बंधन में बंध गई हैं. उन्होंने मंगलवार को अपने एक ट्विटर पोस्ट में इसकी जानकारी दी. इस खुशी में इंग्लैंड के बर्मिंघम शहर में एक छोटे से कार्यक्रम का भी आयोजन किया गया. मलाला पाकिस्तान की एक एजुकेशन एक्टिविस्ट हैं जिन्हें साल 2012 में तालिबान चरमपंथियों ने सिर मे गोली मार दी थी.

मलाला ने अपनी शादी की कुछ तस्वीरें सोशल मीडिया पर शेयर करते हुए लिखा, 'आज का दिन मेरे लिए बहुत खास है. असर और मैं जीवनभर के लिए शादी के बंधन में बंध गए हैं. हमने अपने परिवार की मौजूदगी में बर्मिंघम में एक छोटी सी निकाह सेरेमनी सेलिब्रेट की. कृपया हमें दुआएं दें. हम अपने आगामी जीवन में आगे बढ़ने के लिए बहुत उत्सुक हैं.'

कौन हैं असर मलिक?
मलाला युसुफजई के पति असर मलिक स्पोर्ट्स इंडस्ट्री से जुड़े हुए हैं. उनके लिंक्डइन प्रोफाइल के मुताबिक, वह क्रिकेट बोर्ड (PCB) में हाई परफॉर्मेंस जनरल मैनेजर हैं. मलिक ने लाहौर यूनिवर्सिटी ऑफ मैनेजमेंट साइंस से इकोनॉमिक्स एंड पॉलिटिकल साइंस में ग्रेजुएशन किया है. असर कोका कोला और फ्राइसलैंड कैंपिना जैसे प्रसिद्ध ब्रांड के साथ भी काम कर चुके हैं.

 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 

A post shared by Asser Malik (@asser.malik)

रिपोर्ट्स के मुताबिक, असर मलिक पाकिस्तान सुपर लीग (PSL) की फ्रेंचाइजी मुल्तान सुल्तान के लिए भी बतौर ऑपरेशनल मैनेजर काम कर चुके हैं. वहीं, मलाला ने ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी से फिलॉसोफी, राजनीति शास्त्र और इकोनॉमिक्स में पढ़ाई की है. 

 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 

A post shared by Asser Malik (@asser.malik)

मलाला यूसुफजई पाकिस्तान में लड़कियों की शिक्षा के लिए बतौर कार्यकर्ता काम कर चुकी हैं. वह सबसे कम उम्र की नोबेल शांति पुरस्कार विजेता हैं. 2012 में लड़कियों के लिए शिक्षा के मूल अधिकार की वकालत करने पर उत्तर-पश्चिम पाकिस्तान में तालिबानी चरमपंथियों ने उनके सिर में गोली मार दी गई थी. इस घटना के बाद मलाला बहुत ज्यादा लोकप्रिय हो गईं. 16 साल की उम्र में उन्होंने संयुक्त राष्ट्र (यूएन) मुख्यालय में शिक्षा में लैंगिक समानता की जरूरत पर भी भाषण दिया था.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें