scorecardresearch
 

किस्सा 71 साल से इंग्लैंड में पड़े निज़ाम के अरबों रूपयों का #KissaAajtak

किस्सा 71 साल से इंग्लैंड में पड़े निज़ाम के अरबों रूपयों का #KissaAajtak

साल 1948 हैदराबाद रियासत के सातवें निज़ाम मीर उस्मान अली खान सिद्दिकी पर भारत की और से विलय का दबाव बढ़ता जा रहा था.  जूनागढ़ रियासत और जम्मू कश्मीर की रियासतें पहले ही भारत में अपना विलय कर चुकी थीं और बची थी तो सिर्फ हैदराबाद रियासत.  निज़ाम और उनके वित्त मंत्री नवाब मोईन नवाज़ जंग को धीरे- धीरे ये समझ आ गया था कि अब किसी भी वक्त निज़ाम के शासन का अंत हो सकता है ऐसे में मोईन नवाज़ ने निज़ाम की ओर से एक बड़ी रकम देश से बाहर इंग्लैंड के एक बैंक अकाउंट में ट्रांसफर कर दी. ये रकम थी 10,07,940 पाउंड और जिस खाते में इस पैसे को ट्रांसफर किया गया वो था लंदन में पाकिस्तान के हाई कमिश्नर हबीब इब्राहिम रहिमतुल्ला का. इस कहानी में मोड़ तब आया जब निज़ाम ने विलय के बाद ये पैसा वापस मांगा और रहिमतुल्ला ने ये पैसा देने से मना कर दिया पाकिस्तान की नीयत बदल चुकी थी. पिछले 71 साल से इस पैसे को लेकर भारत सरकार निज़ाम और पाकिस्तान के बीच जद्दो जहद चल रही थी जिसका फैसला भारत के हक मे हुआ है. देखिए निज़ाम की अरबों की इस दौलत का किस्सा 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें