scorecardresearch
 

केदारनाथ: लैंडिंग के दौरान बिगड़ा हेलिकॉप्टर का संतुलन, बाल-बाल बचे यात्री

उत्तराखंड के केदारनाथ में सोमवार को एक बड़ा हादसा होते-होते बच गया. दरअसल, केदारनाथ हेलिपैड पर लैंडिंग के दौरान एक हेलिकॉप्टर का संतुलन बिगड़ गया. इस दौरान हेलिकॉप्टर में पायलट समेत 6 यात्री सवार थे. हादसे के दौरान हेलिकॉप्टर का पिछला हिस्सा क्षतिग्रस्त हो गया.

लैंडिंग के समय हुए हादसे में 6 लोग घायल हो गए. (फोटो-आजतक) लैंडिंग के समय हुए हादसे में 6 लोग घायल हो गए. (फोटो-आजतक)

  • लैंडिंग के दौरान हेलिकॉप्टर क्षतिग्रस्त
  • केदारनाथ में 6 लोगों को लगी चोट

उत्तराखंड के केदारनाथ में सोमवार को एक बड़ा हादसा होते-होते बच गया. दरअसल, केदारनाथ हेलिपैड पर लैंडिंग के दौरान एक हेलिकॉप्टर का संतुलन बिगड़ गया. इस दौरान हेलिकॉप्टर में पायलट समेत 6 यात्री सवार थे. हादसे के दौरान हेलिकॉप्टर का पिछला हिस्सा क्षतिग्रस्त हो गया. हालांकि, इस हादसे में सभी यात्री सुरक्षित हैं. हेलिकॉप्टर निजी कंपनी का है.

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक ये हेलिकॉप्टर एक निजी कंपनी का है. इस कंपनी का नाम यूटी एयर है. इस हेलिकॉप्टर में 6 लोग बैठे थे, जब ये हेलिकॉप्टर उड़ान भरने की कोशिश कर रहा था तभी ये हादसा हुआ. तस्वीरों के मुताबिक हेलिकॉप्टर का पिछला हिस्सा लैंडिंग से टकरा गया. हादसे में सभी 6 लोगों को चोट आई है, हालांकि सभी पैसेंजर खतरे से बाहर हैं. घटना आज सुबह 11.23 बजे की बताई जा रही है.

kedarnath-1_092319020415.jpg

केदारनाथ में हेलिकॉप्टर हादसा. (फोटो-आजतक)

बता दें कि केदारनाथ जाने का रास्ता ऊंची पहाड़ियों और दुर्गम रास्तों से भरा है. केदारनाथ के दरबार तक पहुंचने के लिए कई किलोमीटर तक पैदल चलना पड़ता है. इस परेशानी से बचने के लिए लोग हेलिकॉप्टर का सहारा लेते हैं.

समुद्रतल से 11 हजार 750 फीट से अधिक ऊंचाई वाले केदारनाथ तक पहुंचने के लिए हेलिकॉप्टर को एक संकरी घाटी से होकर गुजरना होता है. यहां पर मौसम का मिजाज पलपल बदलता रहता है. ऐसे में हल्की सी चूक भी हेलिकॉप्टर दुर्घटना का बड़ा कारण बन जाती है. केदारनाथ क्षेत्र में पहले भी हेलिकॉप्टर हादसे हो चुके हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें