scorecardresearch
 

'हमारे बच्चे शहीद हों, हम सुसाइड करें, ऐसा कब तक चलेगा मोदीजी?'

नवंबर की सुबह. सर्दी महसूस हो रही है लेकिन इस सर्दी के वक्त दिल्ली के संसद मार्ग पर देशभर से आए हजारों किसान जमे हुए हैं. आज किसान मुक्ति संसद का दूसरा दिन है. कार्यक्रम दिन के दस बजे से शुरू होना था लेकिन छोटी-छोटी टोलियों में लोग सुबह नौ बजे से ही आ रहे थे.

फाइल फोटो: विकास कुमार फाइल फोटो: विकास कुमार

नवंबर की सुबह. सर्दी महसूस हो रही है लेकिन इस सर्दी के वक्त दिल्ली के संसद मार्ग पर देश भर से आए हजारों किसान जमे हुए हैं. आज किसान मुक्ति संसद का दूसरा दिन है. कार्यक्रम दिन के दस बजे से शुरू होना था लेकिन छोटी-छोटी टोलियों में लोग सुबह नौ बजे से ही आ रहे थे.

पंजाब से आए किसान अपने साथ गन्ना लेकर आए हैं. वहीं तमिलनाडु से आने वाले किसान अपने कंधे पर सांकेतिक हल और कुदाल लटकाए हैं. बिहार के जमुई से दिल्ली के संसद मार्ग पर पहुंचे युवक अपने साथ पारंपरिक तीर-धनुष लेकर आए हैं.

इन सबके बीच कन्याकुमारी से आए किसानों का जत्था भी है. वो अपने पारंपरिक लिबास में है और नाचते-गाते हुए सभास्थल की ओर आ रहे है. उनके उत्साह, गाने की धुन और उनके पारंपरिक वाद्य यंत्रों से निकलने वाली आवाज से प्रभावित होकर संसद मार्ग से होते हुए अपने काम पर जा रहे लोग भी कुछ देर के लिए ठिठक गए. यह सब एक पल को ऐसा लगता है कि आप किसी उत्सव का हिस्सा हों. आप किसी संगीतमय कार्यक्रम के दर्शक हों लेकिन अफसोस ऐसा नहीं है.

देश के अलग-अलग इलाकों से निकलकर दिल्ली आए ये लोग या तो किसान हैं, खेतिहर मजदूर हैं या फिर दिहाड़ी करके अपने परिवर का पेट पालने वाले हैं और अपने-अपने इलाकों से दिल्ली आने के पीछे इनकी एक मंशा है. वो दिल्ली में बैठी सरकार को खोजने, जगाने आए हैं. वो अपने साथ केवल नाचने-गाने का सामान नहीं लाए हैं. इनकी समस्याएं और इनकी मांगें भी इनके कंधों पर सवार होकर दिल्ली के संसद मार्ग पर आई हैं.

देशभर के 180 से ज्यादा छोटे-बड़े संगठनों के बुलावे पर ये लोग यहां आए हैं और इस जुटान को नाम दिया गया है- किसान मुक्ति संसद. जुमुई के अरविंद का कहना है कि वो इस संसद में इसलिए आए हैं क्योंकि बड़ी वाली संसद उनकी समस्याओं का हल नहीं निकाल रही है.

यूपी के मिर्जापुर से यहां आईं उर्मिला कहती हैं, 'क्या करें न आएं तो? घर बैठे रहें... जहां एक बित्ता जमीन नहीं है. सरकार कही थी कि गरीबों को तीन डीसमिल जमीन मिलेगी लेकिन कहां मिला है अभी तक?’

जमुई के अरविंद और मिर्जापुर की उर्मिला की जो मांग है उससे ठीक अलग पंजाब के उन किसानों की मांग है जो यहां अपने साथ गन्ने भी लाए हैं. इन्हीं में से एक दिझार सिंह हैं. उम्र 60 के पार मालूम हो रही है. वो कहते हैं, 'पंजाब ने कभी देशभर के लिए अन्न उपजाया था. हम सीमा पर भी हैं और खेत में भी. हमारे बेटे सीमा पर शहीद होते हैं और हम खेती की वजह से आत्महत्या करते हैं. ऐसा कबतक चलेगा?’

वो आगे जोड़ते हैं, 'हम प्रधानमंत्री जी को कहना चाहते हैं. वो जिस तरीके से मिल-कारखाना वालों की मदद करते हैं उसी तरीके से वो हमें भी देखें. हम किसान भी तो उनके ही हैं?’ दिझार सिंह की बात में दम है. वो अपनी मांग तो रख ही रहे हैं साथ ही पीएम मोदी से अपने मन की बात भी बता रहे हैं. लेकिन दिझार सिंह के मन की बात देश के प्रधानमंत्री तक कब और कैसे पहुंचती है यह देखना होगा.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें