scorecardresearch
 

बीजेपी कार्यकर्ता 'डिवाइडर इन चीफ' को समझ बैठे पीएम की तारीफ

टाइम मैगजीन के इस अंक में कवर पेज पर दो आर्टिकल की सूचना है. एक आर्टिकल आतिश तासीर ने लिखा है 'डिवाइडर इन चीफ' और दूसरा पॉलिटिकल साइंटिस्ट इयान ब्रेमर ने लिखा है 'मोदी द रिफॉर्मर'.

TIME के कवर पर पीएम नरेंद्र मोदी TIME के कवर पर पीएम नरेंद्र मोदी

सोशल मीडिया जहां किसी व्यक्ति को ख्याति दिलवा सकता है, वहीं किसी के लिए यह जी का जंजाल भी बन सकता है. हाल ही में एक सोशल मीडिया पोस्ट झारखंड बीजेपी के एक कार्यकर्ता के लिए शर्मिंदगी का सबब बन गई. TIME मैगजीन के ताजा संस्करण के कवर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को 'डिवाइडर इन चीफ' की संज्ञा देने को बीजेपी कार्यकर्ता उमेश रंजन साहु ने पीएम की तारीफ समझ लिया और सोशल मीडिया पर उन्हें बधाई दे डाली.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने यूं तो पिछले पांच सालों में कई विदेशी तमगे अपने नाम किए हैं, लेकिन हाल ही अमेरिका की प्रसिद्ध TIME मैगजीन ने यूरोप, मिडिल ईस्ट, अफ्रीका, एशिया और साउथ पेसिफिक के ताजा संस्करणों में उन पर आलोचनात्मक लेख प्रकाशित करते हुए उन्हें 'डिवाइडर इन चीफ' की संज्ञा दी है.

टाइम मैगजीन के इस अंक में कवर पेज पर दो आर्टिकल की सूचना है. एक आर्टिकल आतिश तासीर ने लिखा है 'डिवाइडर इन चीफ' और दूसरा पॉलिटिकल साइंटिस्ट इयान ब्रेमर ने लिखा है 'मोदी द रिफॉर्मर'. ब्रेमर ने अपने आर्टिकल में पीएम मोदी की आर्थिक नीतियों की जमकर तारीफ भी की है और उन्हें भारत के लिए सर्वोत्तम उम्मीद बताया है, लेकिन आतिश तासीर के लेख में मोदी को डिवाइडर इन चीफ यानी  देश को बांटने वाला बोलकर उनकी आलोचना की गई है. ये शब्द यहां नकारात्मक संदर्भ में इस्तेमाल किए गए हैं.

इस बीच ट्विटर यूजर मोहम्मद जुबेर ने झारखंड में दक्षिणी छोटानागपुर से बीजेपी के युवा मोर्चा के प्रमंडल प्रभारी उमेश के ट्वीट और फेसबुक पोस्ट की तस्वीर शेयर करते हुए इसमें की गई गलती की ओर ध्यान आकर्षित किया. उमेश ने शुक्रवार (10 मई) रात को अपने ट्विटर और फेसबुक अकाउंट से एक तस्वीर पोस्ट की थी. इस तस्वीर में TIME मैगजीन का कवर दिखाई दे रहा था जिसके ऊपर की तरफ लिखा गया था 'मोदी है तो नामुमकिन मुमकिन है' और नीचे दाईं तरफ उमेश की तस्वीर थी जिसके साथ लिखा गया था, "अमेरिका की विश्व प्रसिद्ध मैगजीन TIME ने मोदी को 'Divider In Chief' के उपाधि से सम्मानित किया गया. इस सम्मान के लिए समस्त देशवासियों की ओर सेमाननीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी को अनंत शुभकामनाएं."

सोशल मीडिया पर जब लोगों ने इस पोस्ट को लेकर उमेश को ट्रोल करना शुरू किया तो उन्होंने अपना ट्विटर अकाउंट और फेसबुक पोस्ट डिलीट कर दिया. हालांकि, उमेश का पोस्ट करीब दो घंटे तकसोशल मीडिया पर रहा और पोस्ट डिलीट होने के बाद भी स्क्रीनशॉट्स शेयर होते रहे.

"आजतक" ने उमेश से संपर्क किया तो उन्होंने बताया, "मेरे सोशल मीडिया अकाउंट्स पार्टी की स्थानीय सोशल मीडिया टीम देखती है और यह पोस्ट भी उन्होंने ही डाली थी. असल में टीम 'डिवाइडर इन चीफ' का अर्थ नहीं समझ पाई. उन्हें लगा कि यह भी प्रधानमंत्री मोदी की तारीफ है, जिसके चलते उन्होंने यह पोस्ट डाल दी."

उमेश ने बताया कि जिस समय यह पोस्ट डाली गई थी उस समय वे नेटवर्क में नहीं थे जिसके चलते वे इस पर मशवरा नहीं कर सकें. जैसे ही वे नेटवर्क में आए तो पार्टी के अन्य अधिकारियों ने उन्हें पोस्ट के वायरल होने के बारे में जानकारी दी. सोशल मीडिया पर ट्रोल होने और पार्टी अधिकारियों की तरफ से आने वाले फोन कॉल्स के चलते उमेश घबरा गए और जल्दबाजी में उन्होंने अपना ट्विटर अकाउंट और फेसबुक पोस्ट दोनों ही डिलीट कर दिए.

हालांकि, सोशल मीडिया पर TIME मैगजीन की इस कवर स्टोरी को कुछ लोग सकारात्मक नजरिए से भी देख रहे हैं. लेखक इमाम मोहम्मद तौहिदी ने ट्वीट करते हुए लिखा कि हां मोदी डिवाइडर हैं, वे अच्छाई से बुराई को अलग कर रहे हैं. वहीं कुछ लोग TIME मैगजीन की आलोचना कर रहे हैं. अभिनेता कबीर बेदी और लेखक तारिक फतेह ने मैगजीन की कवर स्टोरी पर सवाल उठाए हैं.

(झारखंड से सत्यजीत कुमार के इनपुट के साथ)

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें